विज्ञापन
Story ProgressBack

सावधान! पैकेज्ड फूड आइटम खरीदने से पहले जान लें ये नियम, नहीं तो हो सकता है बड़ा नुकसान

Packaged Food in Koriya: पैकेज्ड फूड आइटम्स की बिक्री देश के साथ जिले में भी बहुत बढ़ गई हैं. हर किसी की रोजाना जिंदगी से ये जुड़ चुके हैं. लेकिन इसको लेकर जो मानक तय किए गए हैं उनका पालन नहीं हो रहा है. ऐसे में ये सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है.

Read Time: 3 min
सावधान! पैकेज्ड फूड आइटम खरीदने से पहले जान लें ये नियम, नहीं तो हो सकता है बड़ा नुकसान
शहर में धड़ल्ले से बिक रहे हैं खराब पैकेजिंग वाले फूड आइटम्स

Koriya News: आजकल पैकेज्ड फूड आइटम (Packaged Food Items) का इस्तेमाल बढ़ चुका है. खाद्य पदार्थों की पैकेजिंग को लेकर सरकार ने सख्त नियम भी बनाए हैं. लेकिन छत्तीसगढ़ के कोरिया (Koriya) और एमसीबी जिले में इन नियमों के उलट लोकल पैकेजिंग (Local Packaging) वाले खाद्य पदार्थ हर चौक-चौराहे की दुकान पर बेचे जा रहे हैं. रोजमर्रा की जिंदगी में उपयोग किए जाने वाले नमकीन के पैकेट, ब्रेड, केक और मक्खन रोटी के साथ दर्जनों बेकरी आइटम भी बिना सही पैकेजिंग के लोगों तक पहुंच रहे हैं. जिले के खाद्य विभाग के इस ओर कार्रवाई नहीं करने के कारण यह लापरवाही हो रही है.

बिना किसी डिटेल्स के बिक रहे बेकरी आइटम

जिले में बिक रहे बेकरी आइटम्स पर ना तो बनाने वाली कंपनी का नाम है और ना ही इसे बनाने और इसकी एक्सपायरी की तारीख लिखी है. इस कारण कई बार इसे हफ्तों बाद भी ग्राहकों को बेच दिया जाता है. एक्सपायरी के बाद भी इन खाद्य पदार्थों को बस स्टैंड और भीड़भाड़ की जगह पर खपा दिया जाता है. जिले के खाद्य विभाग द्वारा इस ओर कार्रवाई न करने के कारण व्यवसायियों के द्वारा बड़े स्तर पर इसकी मार्केटिंग की जा रही है.

Latest and Breaking News on NDTV

गलत पैकेजिंग से स्वास्थ्य पर असर

शहरी क्षेत्र के साथ-साथ गांव के बाजारों में बिकने वाले ब्रेड, मक्खन रोटी, स्लाइस केक, मफिन, बेकरी बिस्किट, मसाले और यहां तक कि पानी के पाउच भी पतले प्लास्टिक में पैक करके लोगों तक पहुंचा दिए जाते हैं. पतले प्लास्टिक से पैकेजिंग में लागत कम आती है इसलिए बड़े स्तर पर इसका उपयोग हो रहा है. इनके ऊपर शाकाहारी या मांसाहारी का जिक्र भी नहीं होता है.

पैकेज्ड फूड आइटम्स के लिए ये हैं नियम

पैकेट की खाने-पीने वाली चीजों पर एफएसएसएआई लिखा होता है. एफएसएसएआई का मतलब है कि जो भी भोजन आप खाने जा रहे हैं वह भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक संस्थान के तय किए गए नियमों के तहत बनाया गया है. ऐसे खाद्य पदार्थ आमतौर पर नुकसानदायक नहीं होते हैं. खाद्य उत्पादों की लेबलिंग के लिए एफएसएसएआई ने खाद्य पदार्थों पर उसका नाम, मात्रा, पोषण संबंधी विवरण, उपयोग सामग्री की सूची, शाकाहारी या मांसाहारी से संबंधित घोषणा, जैसी चीजें तय की हैं.

ये भी पढ़ें :- Gwalior: Amit Shah ने फूंका लोकसभा चुनाव का बिगुल, कार्यकर्ताओं को दिया 29 सीटें जीतने का टारगेट

इसके साथ उपयोग के दिशा-निर्देश भी लिखना जरूरी होता है. लेकिन लोकल पैकेज्ड फूड आइटम के पैकटों पर इन चीजों को नहीं लिखा जा रहा है. धारा 39 के नियमों के उल्लंघन के मामले में यदि व्यक्ति अधिनियम और पैकेज्ड कमोडिटी नियमों की आवश्यकता के बिना वस्तुओं को बेचता है या वितरित करता है, तो उसे 5000 रुपए से अधिक के जुर्माने से दंडित किया जा सकता है. वहीं दोबारा ऐसा करने पर 5 साल तक की जेल भी हो सकती है.

ये भी पढ़ें :- 'कांग्रेस को सनातन का अपमान किए बिना चैन नहीं आता', खजुराहो में बोले शाह- हर बूथ पर खिलेगा कमल

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
switch_to_dlm
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Close