विज्ञापन
Story ProgressBack

शिवराज सिंह चौहान के संकल्प के तीन वर्ष: अनिल जोशी ने कहा-प्रकृति का ऋण उतारा, CM मोहन यादव ने बताया आर्दश

MP News: मुख्यमंत्री ने कहा कि, सरकार इस अभियान को आगे बढ़ाने के लिए हर संभव सहयोग करेगी. वहीं पूर्व सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि भोपाल की सभी पहाड़ियों को भी हरा-भरा करना है, जब तक जिऊंगा तब तक पेड़ लगाऊँगा. कोई न कोई सामाजिक कार्यक्रम हाथ में लें और उसे पूरा करने का प्रयास करें.

Read Time: 7 mins
शिवराज सिंह चौहान के संकल्प के तीन वर्ष: अनिल जोशी ने कहा-प्रकृति का ऋण उतारा, CM मोहन यादव ने बताया आर्दश

Madhya Pradesh News: मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री (Former Chief Minister of Madhya Pradesh) शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) के प्रतिदिन पौधरोपण के संकल्प को तीन वर्ष पूर्ण होने पर मंगलवार को भोपाल के रविन्द्र भवन में पर्यावरण सम्मेलन आयोजित किया गया. पर्यावरण सम्मेलन से पहले स्मार्ट सिटी पार्क (Smart City Park Bhopal) में 108 पौधे रौपे गए. इस पर्यावरण सम्मेलन में देश भर की अध्यात्मिक व सामाजिक हस्तियों ने शिरकत की. जिनमें मुख्य रूप से हार्टफुलनेस संस्थान के प्रमुख कमलेश डी पटेल दाजी, विख्यात पर्यावरणविद् अनिल प्रकाश जोशी, गीतकार समीर अंजान उपस्थित रहे. वहीं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री (Chief Minister of Madhya Pradesh) डॉ मोहन यादव (CM Mohan Yadav), उप-मुख्यमंत्री राजेन्द्र शुक्ल और भाजपा प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा भी उपस्थित रहे. इस दौरान पूर्व सीएम शिवराज सिंह ने सम्मेलन में उपस्थितजनों को पर्यावरण संरक्षण का संकल्प भी दिलाया और कहा कि, हरे भरे जंगल को देखते हैं तो मन आनंद और प्रसन्नता से भर जाता है, क्योंकि पेड़ नहीं, जिंदगी रोपी है, जीवन रोपा है.

शिवराज जी को आदर्श मानता हूं : CM मोहन यादव

मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने पर्यावरण सम्मेलन के आयोजन को लेकर शिवराज सिंह को बधाई, शुभकमनाएं देते हुए कहा कि, मैं लंबे समय से शिवराज सिंह चौहान को अपना आदर्श मानता हूं. मुख्यमंत्री ने कहा कि, सरकार इस अभियान को आगे बढ़ाने के लिए हर संभव सहयोग करेगी. उन्होंने कहा कि, पौधरोपण के संबंध में स्थान तय करने और ट्री बैंक बनाने के सुझाव पर शीघ्र ही अधिकारियों से चर्चा करेंगे और इस दिशा में आगे बढ़ेंगे.

संकल्प के 3 साल कार्यक्रम में सीएम मोहन यादव, पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान और पर्यावरणविद् अनिल जोशी

संकल्प के 3 साल कार्यक्रम में सीएम मोहन यादव, पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान और पर्यावरणविद् अनिल जोशी

शिवराज जी ने प्रकृति का ऋण उतार दिया : पर्यावरणविद् अनिल जोशी

पर्यावरण सम्मेलन में सम्मिलित हुए पदम्श्री व पद्म विभूषण से सम्मानित विख्यात पर्यावरणविद् अनिल जोशी ने कहा कि, मैनें शिवराज सिंह चौहान के अंदर पर्यवारण के प्रति गंभीरता देखी तो मेरा भ्रम टूट गया कि एक राजनीतिज्ञ भी पर्यावरण के प्रति इतना गंभीर हो सकता है. उस वर्ग के बीच में उन्होंने लौ जगाकर एक उदाहरण दिया है. उन्होंने कहा कि, मैं पूर्व मुख्यमंत्री जैसे शब्द का प्रयोग नहीं करता, पूर्व तो पूर्व होता है आप तो पदों से ऊपर हैं, आपको तो मोक्ष प्राप्त हो चुका है, आपने प्रकृति के ऋण को उतार दिया है.

संकल्प के 3 साल कार्यक्रम में सीएम मोहन यादव, पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान और अन्य अतिथि

संकल्प के 3 साल कार्यक्रम में सीएम मोहन यादव, पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान और अन्य अतिथि

शिवराज जी पर्यावरण संरक्षण के प्रति संवेदनशील : हार्टफुलनेस संस्थान के प्रमुख

हार्टफुलनेस संस्थान के प्रमुख कमलेश डी पटेल “दाजी” ने पूर्व सीएम के इस अभियान और जीवन के मिशन को लेकर कहा कि, शिवराज जी को शुरू से ही पर्यावरण संरक्षण और पौधरोपण में रूचि रही है. उन्होंने कहा कि, शिवराज जी ने मुख्यमंत्री रहते एक पहाड़ी पर वृक्षारोपण के लिए जमीन दी थी, हमने तीन महीने में उसकी सूरत बदल दी और वृक्षारोपण की वजह से आसपास के गांवों को भरपुर पानी भी मिला.

गीतकार समीर अंजान ने कहा कि, जब मुझे यह खबर मिली कि, हमारे शिवराज जी वृक्षारोपण का कार्यक्रम करते हैं और हर दिन एक पौधा लगाते हैं तो मुझे बहुत खुशी मिली. शिवराज जी कुछ ऐसे लोगों में से हैं जो इस विषय पर अपना ध्यान आकर्षित करते हैं. यह हमारा सौभाग्य है कि, पूर्व मुख्यमंत्री जी ने यह शुरूआत की है.

चार प्रयास बेहद जरूरी : पूर्व सीएम शिवराज सिंह

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पर्यावरण सम्मेलन में कहा कि, चार प्रयास करना बेहद जरूरी है पहला..  हर किसी को साल में एक बार जन्मदिवस, वैवाहिक वर्षगांठ, अपनों की स्मृति या किसी भी विशेष दिन पौधा अवश्य लगाना चाहिए. दूसरा.. अपने घरों को सोलर पैनल से रोशन करने का प्रयास करें, शहर को ग्रीन एनर्जी में बदलने का प्रयास करें क्योंकि थर्मल पॉवर से वर्यावरण को खासा नुकसान पहुंचता हैं. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने भी सोलर ग्रीन एनर्जी का संकल्प लिया है. तीसरा.. सिंगल यूज़ प्लास्टिक का इस्तेमाल नहीं करने के लिए खुद भी जागरूक हों और लोगों को भी जागरूक करें. चौथा.. बेटा-बेटी में कोई अंतर नहीं है इसलिए बेटियों को भी बेटों के बराबरी पर सम्मान मिले. बेटा-बेटी में कोई भेद न करें। उन्होंने कहा कि, बेटी है तो कल है.

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सम्मेलन में सभी को पर्यावरण संरक्षण का संकल्प दिलाते हुए कहा कि, मैं संकल्प लेता हूं कि, अपने जन्मदिवस पर व अन्य विशेष दिवस पर वृक्ष लगाउंगा व यथासंभव उसकी देखभाल करूंगा, पर्यावरण के संरक्षण के लिए हर संभव प्रयत्न करूंगा, ताकी आने वाली पीढ़ियों को ये धरती सुरक्षित मिले.

इस दौरान पूर्व सीएम ने इस अभियान को शुरू करने के पीछे की कहानी सुनाते हुए कहा कि, जब मैं मुख्यमंत्री था और भाषण देता था कि, पेड़ लगाओ, पर्यावरण बचाओ, तब मुझे लगा कि, केवल भाषण देने से काम नहीं चलेगा. मेरे मन में यह विचार आया कि पर्यावरण बचाने के कई तरीके हैं, एक बहुत आसान तरीका है पेड़ लगाओ और जब तक अत्यंत आवश्यक न हो पेड़ न कटें. मन में आया कि, जब तक खुद पेड़ नहीं लगाउंगा दूसरों को कहने का अधिकारी नहीं रहूंगा और इसलिए 19 फरवरी नर्मदा जयंती के दिन मैंने यह संकल्प लिया कि मैं रोज एक पेड़ लगाऊँगा तब से लेकर आज तक कैसी भी परिस्थिति रही हो, कोविड के दौरान भी जब मैं बीमार हुआ तो मैंने कहा कि, गड्ढा खोद कर पेड़ रख दो पर पेड़ तो जरूर लगाऊँगा.

दुनिया बता रही है, वैज्ञानिक बता रहे हैं कार्बन गैसों से उत्सर्जन के कारण धरती की सतह का तापमान लगातार बढ़ता जा रहा है. वर्ष 2050 तक धरती की सतह का तापमान 2 डिग्री सेन्टीग्रेट बढ़ जाएगा और तब हमारे ग्लेशियर पिघल जाएंगे, समुद्र का जल स्तर बढ़ जाएगा, तबाही आएगी. इसलिए क्लाइमेट चेंज में दुनिया भर में कई सम्मेलन हुए हैं. सयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा जल-वायु परिवर्तन पर बुलाए गये सम्मेलन पर हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने दुनिया के सामने कुछ कमिटमेंट किए हैं, उन्होंने कहा और हमें संदेश भी दिया कि अपनी जीवनशैली पर्यावरण बचाने के अनुकूल बनाओ.

शिवराज सिंह चौहान

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री

 जब तक जिऊंगा, पेड़ लगाउंगा

पूर्व सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि भोपाल की सभी पहाड़ियों को भी हरा-भरा करना है, जब तक जिऊंगा तब तक पेड़ लगाऊँगा. कोई न कोई सामाजिक कार्यक्रम हाथ में लें और उसे पूरा करने का प्रयास करें. हमारे प्रधानमंत्री ने भी राजनैतिक कार्यकर्ताओं को कहा है कि कोई सामाजिक कार्यक्रम हाथ में लें. कोई एक काम हम अपने काम के साथ करते रहें. हमारी धरती को सुरक्षित रखना है तो पेड़ लगाना आवश्यक है. समाज और सरकार दोनों को मिलकर काम करना होगा. हर शहर में सरकार कोई स्थान तय कर दें जहां पेड़ लगाए जा सकें. इसी तरह ग्राम पंचायत स्तर पर भी पेड़ लगाने के लिए जमीन की व्यवस्था करें. वहीं हर शहर में एक ट्री बैंक भी बन जाए जहां से लोग पेड़ ले सकें.

मुख्यमंत्री मोहन यादव विजनरी लीडर हैं : पूर्व सीएम शिवराज

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने पर्यावरण सम्मेलन में प्रदेश के सीएम मोहन यादव को लेकर कहा कि, मध्यप्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री मोहन यादव जी एक समर्पित कार्यकर्ता हैं, विजनरी लीडर हैं और मेरा अपना विश्वास है कि, मध्यप्रदेश उनके नेतृत्व में कई गुना ज्यादा प्रगति करेगा, विकास करेगा. मैं मध्यप्रदेश से प्यार करता हूं, मध्यप्रदेश की जनता से प्यार करता हूं और किसी भी अच्छे कार्यकर्ता की सोच ये नहीं होनी चाहिए कि, केवल मैंने ही अच्छा काम किया. जो मेरे बाद हैं वो मुझसे बहुत अच्छा करेंगे. मुझे पूरा विश्वास है कि, उनके नेतृत्व में मध्यप्रदेश तेजी से प्रगति और विकास के पथ पर आगे बढ़ेगा.

यह भी पढ़ें : लोकसभा चुनाव से पहले छत्तीसगढ़ सरकार की बड़ी घोषणा, महतारी वंदन की तरह जल्द शुरू होगी महतारी सदन योजना
 

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Crime: शिक्षक के घर में घुसकर दबंग ने की गोलीबारी, बेटी की मौत और पत्नी की हालत गंभीर
शिवराज सिंह चौहान के संकल्प के तीन वर्ष: अनिल जोशी ने कहा-प्रकृति का ऋण उतारा, CM मोहन यादव ने बताया आर्दश
10 years ago 26 files of land scam worth crores missing in GDA no action taken even after FIR
Next Article
12 साल पहले GDA में हुए करोड़ों रुपये की जमीन घोटाले की 26 फाइल गायब, FIR के बाद भी नहीं हुई कार्रवाई
Close
;