विज्ञापन
Story ProgressBack

Sidhi: सूरत हादसे के मृतकों का किया गया अंतिम संस्कार, किसी की पत्नी तो किसी के चचेरे भाई ने दी मुखाग्नि

Surat Accident: सूरत हादसे का शिकार पांच मृतकों का शव सीधी लाया गया. जहां सभी का अंतिम संस्कार किया गया. घर में पुरुष सदस्य नहीं होने के चलते मृतकों के चचेरे भाई व पत्नी ने अंतिम संस्कार किया.

Read Time: 3 mins
Sidhi: सूरत हादसे के मृतकों का किया गया अंतिम संस्कार, किसी की पत्नी तो किसी के चचेरे भाई ने दी मुखाग्नि
सूरत हादसे में मरने वाले सीधी के पांच मृतकों का अंतिम संस्कार किया गया.

Surat Accident Deceased Last Rites: सूरत हादसे में मरने वाले मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के पांच श्रमिकों का शव सीधी (Sidhi) लाया गया, जहां उनका अंतिम संस्कार किया गया. इस हादसे (Surat Accident) का शिकार पांच मृतकों में से दो परिवारों के दो-दो सगे बेटे शामिल हैं. ऐसे में घर का कोई पुरुष सदस्य नहीं होने पर किसी की पत्नी व किसी के चचेरे भाई ने अंतिम संस्कार किया. वहीं मृतकों के परिजनों को सांत्वना देने के लिए मध्य प्रदेश के पूर्व मंत्री और कांग्रेस नेता कमलेश्वर पटेल (Congress Leader Kamleshwar Patel) भी पहुंचे. इस दौरान उन्होंने परिजनों से मुलाकात कर उन्हें आर्थिक सहायता प्रदान की. इसके साथ ही उन्होंने परिजनों को सरकारी योजनाओं का लाभ दिलाने के लिए जिला कलेक्टर (Sidhi Collector) से भी बात की.

CM मोहन यादव ने अनुग्रह राशि देने की घोषणा की

वहीं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव (CM Mohan Yadav) ने इस हादसे में जान गंवाने वाले सीधी के पांच लोगों के परिजनों को 4-4 लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की है.  एक अधिकारी ने मंगलवार को यह जानकारी दी. बता दें कि मुख्यमंत्री यादव ने सोमवार को इस घटना में हुए जानमाल के नुकसान पर दुख जताया था. अधिकारी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने मध्य प्रदेश के पीड़ितों के परिजनों को 4-4 लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की और अधिकारियों को घायलों का उचित इलाज सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है.

अव्यवस्थित तरीके से लाया गया शव

सूरत हादसे में इमारत में दबने से हुई दर्दनाक मौत के बाद मृतकों के शवों को अव्यवस्थित तरीके से लाया गया. मृतकों के परिजनों ने आरोप लगाया कि शव के लिए न तो आइस बॉक्स की व्यवस्था थी और न ही किसी तरीके की अन्य व्यवस्था की गई. पतली पॉलिथीन में शवों को बांधकर लाया गया है, जिससे शवों से दुर्गंध आने लगी थी. काफी मुश्किल के बाद शवों का अंतिम संस्कार किया गया है.

इस हादसे में मरने वालों में शामिल सभी पांच लोग सीधी जिले के मझौली विकासखंड के रहने वाले थे. हादसे में परासी गांव के रहने वाले दो सगे भाई हीरामणि और लालजी की मौत हो गई. वहीं दियाडोल गांव रहने वाले सगे भाई शिवपूजन केवट (24) और प्रवेश केवट (22) को भी अपनी जान गंवानी पड़ी. मझौली के वार्ड क्रमांक 6 के रहने वाले अभिलाष केवट (32) की भी इस हादसे में मौत हुई है.

पत्नी व चचेरे भाई ने किया अंतिम संस्कार

मझौली निवासी मृतक अभिलाष केवट के अंतिम संस्कार के दौरान सबसे पीड़ा दायक स्थित उस समय आई, जब परिवार के मुखिया की मौत हो जाने पर अंतिम संस्कार करने के लिए घर में कोई पुरुष सदस्य नहीं था, ऐसे में मृतक की पत्नी शशिकला केवट को ही अंतिम संस्कार करना पड़ा. इस स्थिति को देखकर सभी की आंखें नम हो गई. इसी तरह स्थिति दियाडोल निवासी सगे भाइयों के अंतिम संस्कार में देखी गई, जहां दोनों सगे भाइयों को एक ही चिता पर उनके चाचा के लड़के ने अंतिम संस्कार किया.

यह भी पढ़ें - JCB से गड्ढा खोदकर जिंदा मुर्गो को दफनाया, खुले में मांस बिक्री के खिलाफ कार्रवाई से उठे सवाल

यह भी पढ़ें - सिंहस्थ 2028 को लेकर CM मोहन यादव का बड़ा फैसला, उज्जैन शिफ्ट होगा धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व विभाग

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Shahdol का बैंक निगल गया जेवरात, 20 लाख की FD भी लॉकर से हुए गायब
Sidhi: सूरत हादसे के मृतकों का किया गया अंतिम संस्कार, किसी की पत्नी तो किसी के चचेरे भाई ने दी मुखाग्नि
RTI Big disclosure, general surgeon was doing cesarean operation for years, MP High Court strict on private hospital, sought answer from Health and Family Welfare Department
Next Article
RTI से बड़ा खुलासा- सामान्य सर्जन वर्षों से कर रहा था सिजेरियन ऑपरेशन, HC ने स्वास्थ्य विभाग से मांगा जवाब
Close
;