विज्ञापन
Story ProgressBack

Fraud Detection: देश में बैठे-बैठे अमेरिकियों से की इतने लाख की ठगी, तरीका जानकर दंग रह जाएंगे आप

online banking fraud detection: आरोपियों में शामिल अजय ज्यादा पढ़ा-लिखा नहीं है, लेकिन वह पहले अहमदाबाद के एक कॉल सेंटर में काम करता था. इस कारण उसे अंग्रेजी में विदेशी लोगों से फोन पर बात करने में महारत हासिल है. उन्होंने बताया कि आरोपी ‘गूगल वॉइस' मोबाइल ऐप के जरिए अमेरिकी नागरिकों को फोन करते थे और खुद को एजेंट बताकर उन्हें कर्ज दिलाने का झांसा देते थे.

Fraud Detection: देश में बैठे-बैठे अमेरिकियों से की इतने लाख की ठगी, तरीका जानकर दंग रह जाएंगे आप

Cyber Crime in Hindi: इंदौर (Indore) की लसूड़िया थाना पुलिस (Lasudia Police Station) ने दो ऐसे जालसाज को पकड़ने में सफलता हासिल की है, जो देश में बैठे-बैठे विदेशी नागरिकों को लोन दिलाने के नाम पर 15 लाख रुपये से अधिक की धोखाधड़ी को अंजाम दे चुके हैं.

दरअसल, इंदौर की लसुडिया थाना  पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली थी कि होटल किंग इन के सामने सर्विस रोड पर बाम्बे हॉस्पिटल के पास दो व्यक्ति ऑनलाइन कॉलिंग के माध्यम से विदेश के नागरिकों को लोन दिलाने के नाम पर धोखाधड़ी कर अवैध लाभ अर्जित कर रहे हैं. सूचना पर पुलिस ने तुरंत एक टीम गठित कर दो लोगों को पकड़ कर पूछताछ की, तो दोनों ने अपना नाम गुजरात के रहने वाले अजय तोमर और राहुल माली बताया.

मोबाइल से खुला राज

अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त अमरेंद्र सिंह ने बताया कि मोबाइल चेक करने पर पता चला कि मोबाइल के माध्यम से गूगल वॉइस एप के जरिए संयुक्त राज्य अमेरिका के नागरिकों को लोन दिलाने के नाम पर बिट पे एप्लीकेशन के माध्यम से उनसे धोखाधड़ी कर विदेशी मुद्रा डॉलर्स अवैध रूप से प्राप्त कर रहे थे. पुलिस ने दोनों आरोपियों के पास से चार मोबाइल जब्त किए गए हैं. वहीं, पुलिस ने बताया कि अहमदाबाद गुजरात के रहने वाले दोनों आरोपी इंदौर में अलग-अलग होटल में रहकर घटना को अंजाम दिया करते थे. बहरहाल, दोनों आरोपियों ने पूछताछ में बताया है कि वे विदेशी नागरिकों से लाखों रुपये की जालसाजी कर चुके हैं. फिलहाल, पुलिस ने दोनों आरोपियों से पूछताछ करने के बाद और भी कई खुलासे होने की संभावना जताई है.

ऐसे करते थे धोखाधड़ी

सिंह ने बताया कि आरोपियों में शामिल अजय ज्यादा पढ़ा-लिखा नहीं है, लेकिन वह पहले अहमदाबाद के एक कॉल सेंटर में काम करता था. इस कारण उसे अंग्रेजी में विदेशी लोगों से फोन पर बात करने में महारत हासिल है. उन्होंने बताया कि आरोपी ‘गूगल वॉइस' मोबाइल ऐप के जरिए अमेरिकी नागरिकों को फोन करते थे और खुद को एजेंट बताकर उन्हें कर्ज दिलाने का झांसा देते थे. सिंह ने बताया कि आरोपी कर्ज दिलाने के शुल्क (प्रोसेसिंग फीस) के नाम पर अमेरिकी नागरिकों से ऑनलाइन गिफ्ट वाउचर लेते थे और इन्हें अन्य मोबाइल ऐप के जरिये भुना लिया करते थे.

ये भी पढ़ें- सरकार फसलों की कीमत बढ़ा कर लूट रही है वाहवाही, पर यहां तो MSP पर बिक ही नहीं रही है फसल

अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त के मुताबिक विलासितापूर्ण जीवन जीने के शौकीन आरोपियों के खिलाफ सुराग मिले हैं कि वे पिछले एक साल में कर्ज दिलाने के नाम पर अमेरिकी नागरिकों से 15 लाख रुपये से ज्यादा की ठगी कर चुके हैं. उन्होंने बताया कि दोनों आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड विधान की धारा 420 (धोखाधड़ी) और अन्य संबद्ध प्रावधानों के तहत मामला दर्ज करके विस्तृत जांच की जा रही है.

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Union Budget: ऐसे देख सकते हैं बजट 2024 की घोषणा का सीधा प्रसारण, जानें पूरी डिटेल
Fraud Detection: देश में बैठे-बैठे अमेरिकियों से की इतने लाख की ठगी, तरीका जानकर दंग रह जाएंगे आप
Prayag Kumbh Mela Ujjain Akhada Parishad president said entry of saints who do not perform religious activities is prohibited, one Mahamandaleshwar expelled
Next Article
Ujjain News: धार्मिक कार्य नहीं करने वाले संतों का कुंभ में प्रवेश वर्जित, एक महामंडलेश्वर निष्कासित
Close
;