विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Nov 24, 2023

क्या कांग्रेस को फिर सता रहा है तीन साल पुराना डर? जानें सभी 230 प्रत्याशियों की बैठक के मायने

कमलनाथ ने पार्टी के सभी 230 प्रत्योशियों की बैठक बुलाई है. वैसे तो इस बैठक को लेकर कहा गया है कि, ये एक ट्रेनिंग कैंप हैं जिसमें उम्मीदवारों को मतगणना सबंधित जानकारी दी जाएगी. लेकिन 26 नवंबर को होने वाली इस बैठक के मायने कुछ और ही हैं.

Read Time: 4 mins
क्या कांग्रेस को फिर सता रहा है तीन साल पुराना डर? जानें सभी 230 प्रत्याशियों की बैठक के मायने
कमलनाथ ने 230 प्रत्याशियों की बैठक बुलाई है.

MP Election 2023: मध्य प्रदेश में चुनाव परिणामों का बेसब्री से इंतजार किया जा रहा है. 17 नवबंर को मतदान के बाद से अब सभी की नजर रिजल्ट पर है. हालांकि, अब रिजल्ट के लिए ज्यादा इंतजार नहीं करना होगा. क्योंकि 3 दिसंबर को चुनाव परिणाम पता चल जाएगा. हालांकि, कांग्रेस मतदान के बाद से EVM को लेकर चिंता जाहिर कर रही है और इसकी पहरेदारी भी करा रही है. लेकिन इसके बाद भी कांग्रेस को एक और डर सता रहा है. शायद इसी वजह से कांग्रेस नेता कमलनाथ ने पार्टी के सभी 230 प्रत्योशियों की बैठक बुलाई है. वैसे तो इस बैठक को लेकर कहा गया है कि, ये एक ट्रेनिंग कैंप हैं जिसमें उम्मीदवारों को मतगणना सबंधित जानकारी दी जाएगी. लेकिन 26 नवंबर को होने वाली इस बैठक के मायने कुछ और ही हैं.

कुछ राजनीतिक विशेषज्ञों का मानना है कि, इस बार भी मध्य प्रदेश में साल 2018 जैसे परिणाम देखने को मिल सकते हैं. जिसमें कांग्रेस और बीजेपी दोनों पार्टियों को बहुमत हासिल नहीं हुआ था. ऐसे में कांग्रेस को इसी बात का डर सता रहा है कि, अगर ऐसे परिणाम आए तो बीजेपी फिर से ऑपरेशन लोटस चला सकती है.

ऐसा था साल 2018 चुनाव के परिणाम

कांग्रेस-114 सीटें 
बीजेपी-109 सीटें 
बसपा-2 सीटें
सपा-1 सीट 
निर्दलीय-4 सीटें 

साल 2018 में परिणाम आने के बाद कांग्रेस ने सरकार बनाने का दावा किया था. इसमें निर्दलीय विधायकों ने अहम भूमिका निभाई थी और कांग्रेस के साथ आकर सरकार का गठन किया था. लेकिन 15 महीने बाद 2020 ही पूरी तस्वीर बदल गई और कांग्रेस की सरकार तब धरासाही हो गई. जब ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बगावत की और सिंधिया खेमे के 22 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया. इसके बाद कांग्रेस के पास 92 विधायक बचे थे और कांग्रेस की बहुमत छिन गई थी. इसके बाद जब उपचुनाव हुआ तो तस्वीर पूरी तरह बदल गई थी और बीजेपी बहुमत में आ गई. सिंधिया और उनके खेमे के सभी नेता आज बीजेपी में हैं.

यह भी पढ़ेंः MP Election 2023 : चुनाव परिणाम से राज्यसभा की 5 सीटों का भी हो जाएगा फैसला, 2024 में हैं चुनाव

वर्तमान में विधानसभा की स्थिति

बीजेपी-127 विधायक 
कांग्रेस-96 विधायक 
बसपा-2 विधायक (1 बीजेपी में) 
सपा-1 विधायक (अब बीजेपी में ) 
निर्दलीय-4 विधायक 

कांग्रेस में फिर तीन साल पुराना डर

दरअसल, 2020 में जो कांग्रेस के साथ हुआ वह फिर से न हो, इसी को लेकर कमलनाथ और कांग्रेस पार्टी डरी हुई है. ऐसा माना जा रहा है कि, कांग्रेस अपने सभी 230 प्रत्याशियों भरोसा चाहते हैं कि, वह चुनाव परिणामों के बाद दगा नहीं करेंगे. इसी वजह से ट्रेनिंग के बहाने कमलनाथ सभी से बात कर पार्टी के साथ हर हाल में खड़े रहने का वादा मांगेंगे. इसके लिए उन्हें शपथ भी दिलाई जा सकती है. कांग्रेस चाहती है कि, उससे जो तीन साल पहले दगा हुई थी वह फिर दोबारा न हो.

यह भी पढ़ेंः मध्यप्रदेश चुनाव: शिवराज के मुकाबले कमलनाथ का चुनावी खर्च ज्यादा, जानिए कौन सा दिग्गज टॉप पर?

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
PM College of Excellence: इंदौर से केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह 55 जिलों में करेंगे शुभारंभ, जानिए क्यों खास हैं ये संस्थान
क्या कांग्रेस को फिर सता रहा है तीन साल पुराना डर? जानें सभी 230 प्रत्याशियों की बैठक के मायने
IMD weather forecast Meteorological Center Bhopal issued an alert of heavy rain and lightning in Madhya Pradesh, know how to protect yourself
Next Article
MP Weather News: भारी बारिश और बिजली गिरने को लेकर IMD ने जारी किया अलर्ट, कैसे करें खुद का बचाव
Close
;