विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Nov 27, 2023

Gwalior: 'प्रायश्चित' करने के लिए MP के ऊर्जा मंत्री ने उठाई झाड़ू, अस्पताल परिसर और टॉयलेट की कर दी सफाई

Minister Pradyuman Singh Tomar: पत्नी अस्पताल में भर्ती कराने के बाद मंत्री खुद भी हॉस्पिटल में ही रुक गए. इस बीच सुबह-सुबह उन्होंने अचानक झाड़ू थामा और पूरे परिसर की सफाई शुरू कर दी.

Read Time: 4 mins
Gwalior: 'प्रायश्चित' करने के लिए MP के ऊर्जा मंत्री ने उठाई झाड़ू, अस्पताल परिसर और टॉयलेट की कर दी सफाई

Energy Minister Pradyuman Singh Tomar: मध्य प्रदेश के ऊर्जा मंत्री और ग्वालियर विधानसभा क्षेत्र (Gwalior Assembly Constituency) से भारतीय जनता पार्टी (BJP) के प्रत्याशी प्रद्युम्न सिंह तोमर (Pradyuman Singh Tomar) अपनी अलग कार्यशैली के लिए हमेशा ही चर्चाओं में रहने के साथ ही मीडिया की सुर्ख़ियों में भी बने रहते हैं.  

इस वक्त जहां सारे प्रत्याशी मतदान के बाद मतगणना का इंतज़ार कर रहे हैं, लेकिन तोमर सोमवार की सुबह फिर अपने रूप में दिखे. उन्होंने सुबह एक हजार बिस्तर के सरकारी अस्पताल परिसर में पहले झाड़ू लगाईं और फिर पेशाब घर और टॉयलेट के पॉट साफ़ किए. तोमर ने बताया कि यह सब वे अनजानी गलतियों से प्रायश्चित करने के लिए कर रहे हैं.

मंत्री को झाड़ू देता देख हैरत में पढ़ गए अस्पताल के स्टाफ 

दरसल, तोमर की पत्नी की बीती रात अचानक तबीयत खराब हो गई थी. वे उन्हें दिखाने के लिए सरकारी हॉस्पीटल में गए, तो डॉक्टर्स ने उन्हें भर्ती करने की सलाह दी. पत्नी को भर्ती कराने के बाद तोमर खुद भी हॉस्पिटल में ही रुक गए. इस बीच सुबह-सुबह उन्होंने अचानक झाड़ू थामा और पूरे परिसर की सफाई शुरू कर दी. इसके बाद हेंड ग्लब्स मंगवाकर अस्पताल के सभी टॉयलेट और पेशाब घरों की सफाई की. इस दौरान एक मंत्री को इस रूप में देखकर अस्पताल का स्टाफ अवाक नजर आया. वहीं, मंत्री के झाड़ू लागने की सूचना फैलते ही अस्पताल में मौजूद आम लोगों की भीड़ लग गई.

तोमर ने बताई ये वजह

तोमर ने बताया कि मेरी धर्मपत्नी का स्वास्थ्य ठीक नहीं है. इस दौरान मैं रात्रि को उनके उपचार के सिलसिले में हजार बिस्तर के अस्पताल में ही रुका. रातभर बहुत मनन-चिंतन किया. सोचा कि 57 साल की उम्र हो गई है. इस उम्र में इस सेवक से कई अच्छे काम भी हुए हैं, लेकिन जाने-अनजाने में कई गलतियां भी हुईं होंगी. लिहाजा, मुझे लगा कि उन कमियों के लिए सिर्फ मुख से क्षमा करने से ही क्षमा नहीं मिलती है. कोई न कोई सज़ा जरूर मिलती है. मेरा ऐसा मानना है कि इस जन्म को ठीक करने के साथ-साथ अगले जन्म को ठीक करने के लिए भी मुझे कुछ अच्छे कर्म करने चाहिए. इसी सोच के साथ मन में यह तय किया कि ग्वालियर का यह अस्पताल जो एक मानव सेवा का एक मंदिर भी है. यहां भगवान भी आते हैं और भगवान वहीं वास करते हैं, जहां साफ-सफाई होती है. माता लक्ष्मी भी सफाई में ही वास करती है. इसलिए हमने सफाई करने का तय किया.

MP Election 2023: एक्शन मोड में BJP-कांग्रेस, नतीजों से पहले प्रत्याशियों और काउंटिंग एजेंट को दी ट्रेनिंग
 

हर प्रवास पर करेंगे सफाई

इस मौके पर ऊर्जा मंत्री ने कहा कि मेरे अनेक मित्र भी इस अभियान में शामिल हुए. उन्होंने कहा कि हम सबने मिलकर यह तय किया है कि मैं हर प्रवास के दौरान नियमित रूप से कम से कम दस मिनट सफाई करूंगा. इससे यह मंदिर स्वच्छ रहेगा, तो भगवान भी खुश होंगे. माता लक्ष्मी भी खुश होंगी, जिससे हमारे साथ-साथ हमारे परिवार ग्वालियर का भी भला होगा. उन्होंने बताया कि मन में आए इसी भाव के बाद इस संकल्प के तहत काम भी शुरू कर दिया. 

ये भी पढ़ें- शहडोल घटना पर भड़कीं उमा भारती, शिवराज सरकार पर उठाए सवाल, बोलीं- ''यह शासन के लिए कलंक....''

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
MP को शिक्षा के क्षेत्र में बड़ी सौगात: आज 55 जिलों में पीएम कॉलेज ऑफ एक्सीलेंस का शुभारंभ, जानें इसकी खासियत
Gwalior: 'प्रायश्चित' करने के लिए MP के ऊर्जा मंत्री ने उठाई झाड़ू, अस्पताल परिसर और टॉयलेट की कर दी सफाई
Very shameful! A dog was seen roaming in the medical hospital premises of Khandwa with the dead body of a newborn in its mouth.
Next Article
बेहद शर्मनाक! खंडवा के मेडिकल अस्पताल परिसर में नवजात के शव को मुंह में लेकर घूमता दिखा कुत्ता...
Close
;