विज्ञापन
Story ProgressBack

BJP के लिए संजीवनी बना मध्य प्रदेश: NOTA, सिंधिया से शिवराज तक... लोकसभा चुनाव में रिकॉर्ड प्रदर्शन

2024 Election Results:मध्य प्रदेश में जमीनी मुकाबले में पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान की सबसे बड़ी जीत रही. चौहान विदिशा में कांग्रेस के दिग्गज नेता प्रताप भानु शर्मा को 8.21 लाख से अधिक मतों से हराया.

Read Time: 5 mins
BJP के लिए संजीवनी बना मध्य प्रदेश: NOTA, सिंधिया से शिवराज तक... लोकसभा चुनाव में रिकॉर्ड प्रदर्शन

उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और राजस्थान में बीजेपी का दांव सही नहीं पड़ा, लेकिन पड़ोसी मध्य प्रदेश 2024 के लोकसभा चुनावों में एक बार फिर सत्तारूढ़ पार्टी के लिए संजीवनी का काम कर गया. 2023 के अंत में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस से विधानसभा चुनाव 163-66 सीटों से जीतने के बाद लोकसभा में बीजेपी ने पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ के गढ़ छिंदवाड़ा सहित राज्य की सभी 29 लोकसभा सीटों पर जीत दर्ज की.

मुरैना, भिंड-एससी, ग्वालियर और सतना - चार सीटों को छोड़कर, जहां उम्मीदवारों के खिलाफ पार्टी कार्यकर्ताओं के विरोध के कारण मुकाबला मुश्किल रहने वाला था, दूसरी सारी सीटों पर जीत का अंतर एक लाख वोटों से अधिक था.

देश के सबसे साफ शहर इंदौर जहां 25 लाख से अधिक मतदाता हैं, वहां दो अनोखे रिकॉर्ड बने, बीजेपी के मौजूदा सांसद शंकर लालवानी ने 11.75 लाख मतों के विशाल अंतर से सीट बरकरार रखी, वहीं दूसरे नंबर पर रहा नोटा... जिसे 2.18 लाख वोट मिले (2013 में नोटा का विकल्प आने के बाद से देश में अब तक का सबसे अधिक).

कांग्रेस ने वोटरों से NOTA को वोट देने का किया था आह्वान

कांग्रेस ने कथित तौर पर सत्तारूढ़ पार्टी के नेताओं के दबाव में 29 अप्रैल को अपने उम्मीदवार अक्षय कांति बाम के नामांकन वापस लेने के बाद वोटरों से नोटा के लिए वोट देने का आह्वान किया था. वैसे जमीनी मुकाबले में सबसे बड़ी जीत रही पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान की, जिन्होंने विदिशा में कांग्रेस के दिग्गज नेता प्रताप भानु शर्मा को 8.21 लाख से अधिक मतों से हराया. विदिशा से चौहान पांच बार जीत चुके हैं, ये सीट दशकों से बीजेपी का गढ़ रही है, अतीत में पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी और पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज विदिशा से सांसद रहे हैं.

यादवेंद्र सिंह को एकतरफा मुकाबले में हराया सिंधिया

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया अपनी गुना सीट को (जिसे उन्होंने पहले चार बार कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में जीता था, लेकिन 2019 में हार गए) 5.40 लाख वोटों के बड़े अंतर से फिर से जीत लिया, जहां उन्होंने पुराने बीजेपी परिवार के बेटे राव यादवेंद्र सिंह यादव को पूरी तरह से एकतरफा मुकाबले में हराया.

खजुराहो एक ऐसी सीट जहां लगभग कोई मुकाबला नहीं था, क्योंकि इंडिया भारतीय गठबंधन की समाजवादी पार्टी से उम्मीदवार मीरा यादव के पर्चे को तकनीकी आधार पर खारिज होने के बाद, मौजूदा सांसद और बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने बसपा उम्मीदवार संजय सोलंकी के खिलाफ 5.41 लाख के अंतर से सीट बरकरार रखी.

अपनी जीत का अंतर बढ़ाने वाले मंत्रियों में ये नाम भी शामिल

2019 के चुनावों की तुलना में अपनी जीत का अंतर बढ़ाने वाले अन्य केंद्रीय मंत्री में केंद्रीय मंत्री और तीसरी बार सांसद बने वीरेंद्र खटीक शामिल हैं, जिन्होंने टीकमगढ़-एससी सीट को 4.03 लाख वोटों से बरकरार रखा (2019 में 3.46 लाख का अंतर था), भोपाल के पूर्व मेयर आलोक शर्मा ने भोपाल सीट 5.01 लाख वोटों से जीती, पहली बार उम्मीदवार आशीष दुबे ने जबलपुर सीट 4.86 लाख से जीती, दूसरी बार सांसद बने सुधीर गुप्ता ने मंदसौर सीट से 4.98 लाख वोटों से जीत की हैट्रिक पूरी की और महेंद्र सोलंकी ने देवास-एससी सीट को 4.25 लाख वोटों से बरकरार रखा.

सबसे कम अंतर इन सीटों पर जीत दर्ज 

सबसे कम जीत/अग्रणी अंतर उन चार सीटों से दर्ज किया गया, जिन्हें सबसे करीबी मुकाबले वाली सीटों में से एक माना जा रहा था, जिसमें भिंड-एससी सीट से मौजूदा सांसद संध्या राय की 63,000 से अधिक वोटों की जीत, ग्वालियर सीट से पूर्व सांसद मंत्री भरत सिंह कुशवाह की 69,000 से अधिक वोटों की जीत, मुरैना में पूर्व विधायक शिव मंगल तोमर की 51,000 से अधिक वोटों की जीत और सतना सीट पर चौथी बार सांसद गणेश सिंह की 84,000 से अधिक वोटों की जीत शामिल है.

ज्योतिरादित्य सिंधिया और वीरेंद्र खटीक के अलावा तीसरे केंद्रीय मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने सातवीं बार अपनी मंडला-एसटी सीट जीती, उन्होंने पूर्व सांसद मंत्री और मौजूदा कांग्रेस विधायक ओमकार सिंह मरकाम को 1.03 लाख वोटों से हराया.

कांग्रेस के गढ़ छिंदवाड़ा में खिला 'कमल'

बीजेपी ने मध्यप्रदेश की सारी 29 लोकसभा सीटें जीतीं जिसमें सबसे अहम छिंदवाड़ा है जो 1980 से पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ का गढ़ रहा है. बीजेपी से पहली बार लोकसभा चुनाव लड़ रहे उम्मीदवार विवेक बंटी साहू ने कमल नाथ के मौजूदा कांग्रेस सांसद बेटे नकुल नाथ को एकतरफा मुकाबले में 1.13 लाख से अधिक मतों से हराया. राजगढ़ सीट पर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह दूसरी बार बीजेपी सांसद रोडमल नागर से 1.45 लाख मतों से हार गए. रीवा से सांसद जनार्दन मिश्रा ने जीत की हैट्रिक 1.93 लाख मतों से अपनी सीट जीतकर पूरी की.

ये भी पढ़े: Modi 3.0: उत्तर प्रदेश में भाजपा क्यों हुई हिट विकेट? जानें फिर NDA को किसने बनाया चैंपियन?

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Gold Mining: MP में शुरू होगा सोने का खनन, केंद्र की मंजूरी के बाद राज्य सरकार ने जारी किया आवंटन
BJP के लिए संजीवनी बना मध्य प्रदेश: NOTA, सिंधिया से शिवराज तक... लोकसभा चुनाव में रिकॉर्ड प्रदर्शन
MP PCC chief Jeetu Patwari sought answers from Mohan Yadav government, PMO and Agriculture Minister Shivraj Singh Chouhan on rising wheat prices and black marketing
Next Article
गेहूं की बढ़ती कीमतों पर सियासत, PCC चीफ ने मोहन सरकार, PMO समेत कृषि मंत्री शिवराज से मांगा जवाब
Close
;