विज्ञापन
Story ProgressBack

MP अजब है! बीकॉम के छात्रों को दिया बीएससी का प्रश्न पत्र, न छात्र समझे न शिक्षक, दे डाली परीक्षा

MP News: जीवाजी विश्वविद्यालय की परीक्षा में एक बार फिर लापरवाही सामने आई है. शिवपुरी के सरकारी पीजी कॉलेज में हो रही इस परीक्षा में गलत प्रश्न पत्र दिए जाने का मामला सामने आया है.

Read Time: 3 mins
MP अजब है! बीकॉम के छात्रों को दिया बीएससी का प्रश्न पत्र, न छात्र समझे न शिक्षक, दे डाली परीक्षा

Question Paper Changed in College Exam: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की शिक्षा व्यवस्था को लेकर एक बार फिर सवाल खड़े हो रहे हैं. शिवपुरी (Shivpuri) के सरकारी कॉलेज में मंगलवार को एक बड़ी लापरवाही सामने आई, जिसमें बीएससी का एग्जाम दे रहे छात्रों को बीकॉम का पेपर थमा दिया गया. हैरानी की बात यह है कि एग्जाम देते समय न तो स्टूडेंट्स को इस बारे में भनक लगी और न ही टीचर्स को. हालांकि, परीक्षा खत्म होने के बाद स्टूडेंट्स ने इसकी शिकायत प्रिंसिपल से की. वहीं कॉलेज के प्रिंसिपल ने इस मामले की जांच करने की बात कही है.

गवर्नमेंट पीजी कॉलेज का है मामला

यह मामला शिवपुरी के शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय (Government Post Graduate College Shivpuri) का है, जहां जीवाजी विश्वविद्यालय (Jiwaji University Exam) द्वारा आयोजित की जाने वाली परीक्षाओं में बीएससी और बीकॉम दोनों की परीक्षाएं चल रही हैं. मंगलवार को होने वाली परीक्षा में फाउंडेशन कोर्स का प्रश्न पत्र दिया जाना था. लेकिन, बीएससी और बीकॉम दोनों का ही फाउंडेशन का पेपर लगभग एक जैसा था. यही वजह रही कि पेपर बीएससी के छात्रों की जगह बीकॉम के छात्रों को दे दिया गया. हैरानी वाली बात यह रही कि परीक्षा देते समय इस पेपर को न तो छात्र समझ पाए और न ही शिक्षक. लेकिन, जब परीक्षा खत्म हुई और परीक्षा पत्र का मिलान बीएससी के छात्रों के साथ किया गया, तब जाकर यह मामला सामने आया कि बीएससी के परीक्षा पत्र को बीकॉम के छात्रों को दे दिया गया था.

छात्रों ने कहा-सिलेबस में कुछ अंतर

मामले का पता चलते ही बीकॉम के छात्र परीक्षा प्रश्न पत्र लेकर प्रिंसिपल के पास पहुंचे और उनसे शिकायत की. छात्रों ने बताया कि फाउंडेशन का पेपर बीएससी के छात्रों का था, लेकिन उन्हें परीक्षा देते समय वितरित किया गया. सभी स्टूडेंट्स ने इसी प्रश्न पत्र के हिसाब से अपना एग्जाम भी दे डाला है. शिकायत करने आए छात्रों का कहना है कि दोनों कोर्स के फाउंडेशन का सिलेबस मिलता जुलता जरूर है, लेकिन कहीं-कहीं अंतर है. इस मामले को संज्ञान में लिया जाना चाहिए.

प्रिंसिपल ने जांच की कही बात

वहीं बीकॉम के छात्रों की शिकायत पर कॉलेज के प्रिंसिपल महेंद्र सिंह (Principal Mahendra Singh) ने बताया कि परीक्षा प्रश्न पत्र का इस तरह से गलत वितरण हो जाना संभव है, लेकिन शिकायत जब मेरे सामने आई है और छात्रों ने पर्चा दिखाते हुए शिकायत की है तो कल सुबह केंद्र अध्यक्ष के आने पर मैं इस मामले की पूरी जांच कराऊंगा. किसी छात्र का अहित नहीं होगा सब छात्र पास होंगे.

यह भी पढे़ं - 9वीं क्लास में अब 13 साल से कम आयु वाले भी ले सकेंगे एडमिशन, मध्य प्रदेश सरकार ने जारी किया आदेश

यह भी पढे़ं - छत्तीसगढ़ में RTE के तहत चौंकाने वाले आंकड़े, तीन साल में 53 हजार स्टूडेंट्स ने छोड़ा स्कूल

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Narmadapuram Accident: नर्मदापुरम में भीषण सड़क हादसा, पेड़ से टकराई टवेरा कार, 5 पैसेंजर की मौके पर ही मौत
MP अजब है! बीकॉम के छात्रों को दिया बीएससी का प्रश्न पत्र, न छात्र समझे न शिक्षक, दे डाली परीक्षा
Food Poisoning Outcry over in Vidisha 4 people fall ill after consuming soya oil will be tested
Next Article
Food Poisoning: विदिशा में फूड पॉइजनिंग से हाहाकार, सोया ऑयल खाने से 4 लोग बीमार, तेल की होगी जांच
Close
;