विज्ञापन
Story ProgressBack

पन्ना में एक साल में 37 गर्भवती महिलाओं ने तोड़ा दम, जिम्मेदारों ने आंकड़ों को कम बताकर पल्ला झाड़ा

MP News: पन्ना में स्वास्थ्य सुविधाओं की हालत लचर है. यहां वर्ष 2022-23 के दौरान 37 गर्भवती महिलाओं ने दम तोड़ दिया है. इनमें से 6 महिलाओं ने डिलिवरी के 42 दिनों के भीतर दम तोड़ा है.

पन्ना में एक साल में 37 गर्भवती महिलाओं ने तोड़ा दम, जिम्मेदारों ने आंकड़ों को कम बताकर पल्ला झाड़ा

37 Pregnant Women Died in One Year in Panna: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) का पन्ना जिला (Panna) आजादी के इतने वर्षों के बाद भी एक सामान्य स्वास्थ्य व्यवस्था के लिए मोहताज है. 11 लाख की आबादी वाला यह जिला पन्ना हीरों की खान और मंदिरों के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है, लेकिन आज भी इस जिले के लोगों को बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्था (Health System) के लिए पड़ोसी जिलों पर निर्भर रहना पड़ता है. कहने के लिए तो जिले की हर एक तहसील में उप स्वास्थ्य केंद्र, स्वास्थ्य केंद्र और जिला मुख्यालय में जिला चिकित्सालय (District Hospital) मौजूद है. लेकिन, इंफ्रास्ट्रक्चर और दीवारों के सिवाए यहां कुछ भी नहीं है. 

ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि शासन ने हर साल की तरह इस साल भी वर्ष 2022 और 23 की मातृ-मृत्यु की समीक्षा रिपोर्ट जारी की. जिसमें एक साल के अंदर 37 गर्भवती महिलाओं की मौत हुई है.

आधा दर्जन महिलाओं की डिलिवरी के 42 दिनों के भीतर हुई मौत

पन्ना जिले में स्वास्थ्य सेवाओं की लचर व्यवस्था के चलते कई प्रसूता और गर्भवती महिलाओं ने अपनी जान गंवा दी. जिसके बाद जिले की स्वास्थ्य व्यवस्था पर सवाल उठने लगे हैं. जिले की हर एक तहसी और ग्राम पंचायत में आशा कार्यकर्ताओं की तैनाती है, जिनका काम महिला के गर्भ धारण करने के बाद से लेकर प्रसव तक की पूरी जांच और समस्याओं को दूर करना है. लेकिन, जिले की जमीनी हकीकत बताती है कि सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं और व्यवस्थाओं की हालत खस्ता है.

आपको बता दें कि पन्ना जिले में वर्ष 2022-23 की मातृ-मृत्यु की समीक्षा रिपोर्ट के अनुसार 37 महिलाओं की मौत हुई है. जिनमें से सबसे ज्यादा अजयगढ़ ब्लॉक में 9 महिलाओं की मौत हुई है, जबकि देवेंद्रनगर और पन्ना ब्लॉक में 8-8 गर्भवती महिलाओं की मौत हुई हैं. इनमें से आधा दर्जन प्रसूताओं की मौत डिलिवरी के 42 दिनों के अंदर हुई है. पन्ना जिले में हो रही इन मौतों के पीछे का एक बड़ा कारण जिले में डॉक्टरों की कमी को माना जा रहा है.

इतने बड़े जिले में 37 मौतें कम: CMHO

वहीं दूसरी ओर पन्ना जिले के सीएमएचओ (Panna CMHO) ने इन आंकड़ों को लेकर बड़ा ही अजीबोगरीब बयान दिया है, जिसको लेकर अधिकारियों की जिम्मेदारी और गंभीरता पर सवाल उठने लगे हैं. जिले के CMHO डॉ वी. एस. उपाध्याय ने जिले में 37 प्रसूताओं की मौत पर कहा कि यह आंकड़ा पूरे जिले के हिसाब से कुछ ज्यादा नहीं है. इतने बड़े जिले में 37 मौतें बहुत कम हैं. इसके साथ ही उन्होंने बताया कि मातृ-मृत्यु दर को कम करने के लिए रजिस्ट्रेशन बढ़ा रहे हैं. हम पूरे प्रदेश में रजिस्ट्रेशन के मामले में टॉप 10 में हैं.

यह भी पढ़ें - सावधान! कहीं आप नकली व मिलावटी Cold Drinks तो नहीं पी रहे हैं? यहां पुलिस ने छापेमारी कर पकड़ा ब्रांडेड माल

यह भी पढ़ें - नाबालिग रेप पीड़िता को गर्भपात कराने की कोर्ट ने दी अनुमति, लेकिन माता-पिता को ये करना होगा

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
MP News: एमपी के मुरूम कांड में राष्ट्रीय महिला आयोग हुआ सख्त, डीजीपी से मांगा ये जवाब
पन्ना में एक साल में 37 गर्भवती महिलाओं ने तोड़ा दम, जिम्मेदारों ने आंकड़ों को कम बताकर पल्ला झाड़ा
Crime news After the Panchayat of 12 villages, the in-laws took her back and then tortured the woman tremble, mp police rescued the victim but the accused
Next Article
Crime News: 12 गांव की पंचायत के बाद वापस ले गए ससुराल वाले, फिर दी ऐसी सजा कि पुलिस ने महिला को छुड़ाया
Close
;