विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Sep 03, 2023

सागर : खेतों में फूली कास मानसून की विदाई का संकेत? बारिश के लिए इंद्रदेव को मना रहे किसान

कास में फूल को देखकर ही ग्रामीण क्षेत्रों में पुराने लोग वर्षा ऋतु की विदाई मान लेते थे और आने वाली ठंड से निपटने की तैयारी में लग जाते थे. कृष्ण जन्माष्टमी तक कास में फूल आ जाते हैं.

Read Time: 3 mins
सागर : खेतों में फूली कास मानसून की विदाई का संकेत? बारिश के लिए इंद्रदेव को मना रहे किसान
सागर के खेतों में फूली कास

सागर : मध्य प्रदेश में पिछले करीब 20 दिनों से बरसात नहीं हुई है. बरसात न होने से सोयाबीन मक्का, उड़द, धान की फसलों पर संकट आ गया है. वहीं दूसरी ओर खेतों में होने वाली कास में जल्दी फूल आ जाने से किसानों की चिंता और बढ़ गई है. किसान मानते हैं कि कास में फूल आने के बाद वर्षा ऋतु के विदाई का समय आ जाता है, लेकिन इस बार कास में फूल जल्द आ गए और बरसात भी कम हुई है. बारिश की कमी को लेकर किसान चिंतित हैं.

किसान बारिश के लिए इंद्रदेव को मनाने में जुट गए हैं. सागर के बीना में किसानों ने परंपरागत सेहरा नृत्य किया. बुंदेलखंड में ऐसी मान्यता है कि सेहरा नृत्य करने से इंद्रदेव प्रसन्न होते हैं और वर्षा होती है. श्रीरामचरित मानस में चौपाई में वर्षा ऋतु का वर्णन करते हुए गोस्वामी तुलसीदास ने लिखा है 'फूले कास सकल महि छाई, जनु बरसा कृत प्रकट बुढ़ाई' अर्थात कास नामक घास में फूल आना वर्षा ऋतु की विदाई का संकेत हैं. इसका मतलब है कि मानसून के समापन की बेला आ जाती है. 

ufcvit0g

इंद्रदेव को मनाने के लिए नृत्य करते किसान

यह भी पढ़ें : सागर : पत्नी संग झगड़ रहा था पूर्व सैनिक, बीच बचाव कराने आए भाई और भतीजे को मारी गोली, मौत

कास फूलने से जुड़ी पुरानी मान्यता
चौपाई में लिखा है 'सकल महि छाई' अर्थात चारों ओर कास फूलने पर वर्षा के बूढ़ी होने के संकेत मिलते हैं. यह वर्षा ऋतु के बाद शरद ऋतु के आगमन का संकेत है. प्रकृति से इसके संकेत मिलने लगे हैं. खेतों में कास फूलने लगी है. पुराने लोग ग्रामीण क्षेत्र में कास में फूल आने को मानसून की विदाई का संकेत मानते हैं जिसका जिक्र ग्रंथों में भी है.

यह भी पढ़ें : सागर : महिला से मारपीट का VIDEO सामने आने के बाद पुलिस ने 3 लोगों को किया गिरफ्तार

जन्माष्टमी से पहले ही आ गए फूल
कास में फूल को देखकर ही ग्रामीण क्षेत्रों में पुराने लोग वर्षा ऋतु की विदाई मान लेते थे और आने वाली ठंड से निपटने की तैयारी में लग जाते थे. कृष्ण जन्माष्टमी तक कास में फूल आ जाते हैं. तब यह माना जाता था कि अब बारिश बूढ़ी हो गई है. लेकिन इस बार कृष्ण जन्माष्टमी के दो सप्ताह पहले ही कास में फूल आ गए जो बारिश के बूढ़ी होने का संकेत था. इसी के साथ बारिश के बंद होने के संकेत मिलने लगते हैं.

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Amarwara Bypolls: अमरवाड़ा उपचुनाव के लिए कांग्रेस ने धीरन शाह इनवाती को बनाया उम्मीदवार, कल कर सकते हैं नामांकन
सागर : खेतों में फूली कास मानसून की विदाई का संकेत? बारिश के लिए इंद्रदेव को मना रहे किसान
New package of Ayushman Bharat Health Insurance Scheme: Now Ayushman beneficiaries will get new state-of-the-art medical services in Madhya Pradesh
Next Article
Ayushman Bharat Yojana: नए पैकेज से MP में आयुष्मान हितग्राहियों को मिलेगी नई अत्याधुनिक मेडिकल सेवाएं
Close
;