विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Nov 24, 2023

Burhanpur में कांग्रेस-BJP कार्यकर्ताओं ने की जिलाध्यक्ष बदलने की मांग, बगावत के लिए ठहराया जिम्मेदार

बुरहानपुर में बीजेपी और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने लोकसभा चुनाव से पहले जिलाध्यक्षों को हटाने की मांग की है. कार्यकर्ताओं का आरोप है कि जिला अध्यक्षों की वजह से बुरहानपुर में बागी नेताओं ने चुनाव लड़ा. जिसके कारण पार्टी इस सीट पर हार की कगार में खड़ी है.

Read Time: 3 mins
Burhanpur में कांग्रेस-BJP कार्यकर्ताओं ने की जिलाध्यक्ष बदलने की मांग, बगावत के लिए ठहराया जिम्मेदार
कार्यकर्ताओं ने बीजेपी जिला अध्यक्ष मनोज लधवे और कांग्रेस जिला अध्यक्ष रिंकू टाक को हटाने की मांग की है.

Madhya Pradesh News: मध्य प्रदेश के विधानसभा चुनावों (Assembly Election) की मतगणना से पहले बुरहानपुर (Burhanpur) की सियासत दिलचस्प होती जा रही है. दोनों ही प्रमुख पार्टियों के कार्यकर्ताओं ने लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) से पहले जिलाध्यक्षों (District President) को हटाने की मांग की है. कार्यकर्ताओं का आरोप है कि जिला अध्यक्षों की वजह से बुरहानपुर में बागी नेताओं ने चुनाव लड़ा. जिसके कारण पार्टी इस सीट पर हार की कगार में खड़ी है.

दरअसल, कांग्रेस ने बुरहानपुर सीट से अल्पसंख्यक नेता का टिकट काटकर निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह शेरा को टिकट दिया है. जिसके बाद अल्पसंख्यक नेता और कांग्रेस के संगठन मंत्री रहे पूर्व पार्षद नफीस मंशा खान ने एआईएमआईएम का दामन थाम लिया और चुनावी मैदान में कूद गए. यही हाल बीजेपी का भी रहा.

बीजेपी ने पूर्व प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान के बेटे हर्षवर्धन सिंह चौहान का टिकट काटकर पूर्व मंत्री अर्चना चिटनीस को टिकट दिया है. जिसके बाद हर्षवर्धन सिंह ने भी चुनाव लड़ने का फैसला किया. 

चतुष्कोणीय बना मुकाबला

बुरहानपुर सीट में कांग्रेस और बीजेपी के बागियों के चुनावी मैदान में उतरने से मुकाबला चतुष्कोणीय हो गया है. यहां दोनों ही पार्टियों के कार्यकर्ताओं ने भी खुलकर बागियों का समर्थन किया. इसके लिए कार्यकर्ताओं ने जिलाध्यक्षों को जिम्मेदार ठहराया है.

ये भी पढ़ें - Ground Report : करोड़ों में ली रेत खदान, अब माफियाओं के डर से सुरक्षा की गुहार लगे रहे ठेकेदार

परिणाम से पहले मानी हार

बागियों के चुनावी मैदान में उतरने के बाद दोनों ही पार्टियों के कार्यकर्ताओं ने बगावत के बहाने परिणाम आने से पहले ही अपनी हार मान ली है. सियासी जानकारों का भी मानना है कि बगावत के लिए दोनों दलों के जिलाध्यक्ष कुछ हद तक जिम्मेदार हैं. वहीं बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही दलों के जिलाध्यक्ष खुद को काफी सक्रिय बता रहे हैं. दोनों का दावा है कि उन्होंने बगावत रोकने के लिए सारे प्रयास किए थे. इसके साथ ही दोनों ही पार्टी के जिलाध्यक्ष अपने-अपने प्रत्याशियों के जीतने के दावे भी कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें - मध्य प्रदेश में 90 फीसदी विधायकों की 5 साल में हुई खूब कमाई, एक माननीय ने 2000% संपत्ति बढ़ाई

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
BJP MLA प्रीतम सिंह ने कर दी इस्तीफा देने की बात, कहा- इस बात से हूं परेशान, देखिए वीडियो
Burhanpur में कांग्रेस-BJP कार्यकर्ताओं ने की जिलाध्यक्ष बदलने की मांग, बगावत के लिए ठहराया जिम्मेदार
bhind it was the supervisor who was getting mass copying done! Exam center canceled after CCTV footage surfaced
Next Article
MP News: भिंड में सामूहिक नकल के मामले में परीक्षा केंद्र निरस्त लेकिन 12 शिक्षकों पर कार्रवाई कब?
Close
;