विज्ञापन
Story ProgressBack

MP Nursing Scam: नर्सिंग घोटाला मामले में बड़ा एक्शन, CBI जांच टीम में शामिल रिश्वतखोर इंस्पेक्टर बर्खास्त

MP News: मध्य प्रदेश में नर्सिंग घोटाला मामले में मध्य प्रदेश पुलिस ने सीबीआई जांच दल में शामिल इंस्पेक्टर को बर्खास्त कर दिया है. इंस्पेक्टर पर रिश्वतखोरी का इल्जाम है.

Read Time: 3 mins
MP Nursing Scam: नर्सिंग घोटाला मामले में बड़ा एक्शन, CBI जांच टीम में शामिल रिश्वतखोर इंस्पेक्टर बर्खास्त
प्रतीकात्मक फोटो

Action in MP Nursing College Scam: मध्य प्रदेश नर्सिंग घोटाला मामले (Nursing College Scam Case) में रिश्वतखोरी के इल्जाम में पुलिस निरीक्षक पर गाज गिरी है. मध्य प्रदेश पुलिस (Madhya Pradesh Police) ने जांच में सीबीआई की सहायता करने के दौरान दो लाख रुपये की रिश्वत लेने के आरोप में पकड़े गए निरीक्षक की सेवाएं मंगलवार को समाप्त (Police Inspector Dismissed) कर दीं. एक अधिकारी ने यह जानकारी दी. इससे पहले सीबीआई ने निरीक्षक को गिरफ्तार कर उसे मध्य प्रदेश पुलिस (MP Police) को सौंप दिया था. जिसके बाद पुलिस ने बड़ा एक्शन लेते हुए पुलिस की छवि खराब करने और नैतिक मूल्यों का पालन नहीं करने पर निरीक्षक की सेवा समाप्ति का आदेश जारी कर दिया.

CBI के साथ जांच दल में शामिल था निरीक्षक

अधिकारी ने बताया कि मध्य प्रदेश पुलिस के अपराध अनुसंधान विभाग के निरीक्षक सुशील मजोका को नर्सिंग कॉलेजों में कथित भ्रष्टाचार और अनियमितताओं की जांच कर रही सीबीआई के साथ काम करने के लिए तैनात किया गया था. अधिकारी ने बताया कि सीबीआई नई दिल्ली के एक पत्र के अनुसार मजोका ने दो लाख रुपये की रिश्वत मांगी और उसे लिया. उन्होंने बताया कि मजोका को भारतीय दंड संहिता और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के प्रावधानों के तहत गिरफ्तार कर लिया गया है. उन्होंने बताया कि गिरफ्तारी के बाद मजोका की सेवाएं मध्य प्रदेश पुलिस को वापस कर दी गईं.

संविधान के अनुच्छेद 311 के तहत गई नौकरी

अधिकारी ने बताया कि मजोका के खिलाफ दर्ज मामले की जानकारी मिलने के बाद अपराध अनुसंधान विभाग के महानिरीक्षक अनुराग शर्मा ने मंगलवार को मजोका को पुलिस की छवि खराब करने और उच्च नैतिक मूल्यों को बनाए रखने में विफल रहने के कारण सेवा से बर्खास्त कर दिया. उन्होंने बताया कि मजोका को संविधान के अनुच्छेद 311 के तहत बर्खास्त किया गया है जो सरकारी कर्मचारियों की सेवाओं को समाप्त करने की अनुमति देता है.

सीबीआई की इंटरनल विजिलेंस यूनिट ने भ्रष्टाचार की दी जानकारी

पिछले हफ्ते की शुरुआत में, सीबीआई ने अपने निरीक्षक राहुल राज की सेवाओं को समाप्त कर दिया था. एजेंसी ने राहुल राज को मलय कॉलेज ऑफ नर्सिंग के अध्यक्ष अनिल भास्करन और उनकी पत्नी सुमा अनिल से कथित तौर पर 10 लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया था. दंपति को भी गिरफ्तार कर लिया गया है. सीबीआई की इंटरनल विजिलेंस यूनिट से जानकारी मिली कि उसके अधिकारी मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के आदेश पर राज्यव्यापी निरीक्षण करने के लिए गठित टीमों में हो रहे कथित भ्रष्टाचार में शामिल हैं. 

मध्य प्रदेश सरकार ने कथित नर्सिंग कॉलेज घोटाले की सीबीआई जांच के सिलसिले में उच्च न्यायालय के आदेश के अनुसार 31 जिलों में 66 नर्सिंग कॉलेजों को बंद करने का आदेश दिया है.

यह भी पढ़ें - MP Private Schools: मनमाने फीस वसूली मामले में गिरफ्तार स्कूल संचालकों को नहीं मिली बेल, 31 मई तक भेज गए जेल

यह भी पढ़ें - Nursing College Scam: छात्रों के भविष्य से खिलवाड़ कर प्ले स्कूल में चलाया जा रहा था नर्सिंग कॉलेज, अब प्रशासन ने किया..

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
मानसून से पहले 67 मकानों पर मंडराया बुलडोज़र का खतरा, जानिए वजह 
MP Nursing Scam: नर्सिंग घोटाला मामले में बड़ा एक्शन, CBI जांच टीम में शामिल रिश्वतखोर इंस्पेक्टर बर्खास्त
Pune Car Crash Case Update Pune Police Assures Justice for Jabalpur Family
Next Article
Pune Car Crash : पुणे पुलिस पहुंची जबलपुर, अश्वनी के परिजनों को दिया इंसाफ का भरोसा
Close
;