विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Nov 25, 2023

भोपाल गैस त्रासदी मामले में आज सुनवाई, 39 साल बाद भी पीड़ितों को नहीं मिला मुआवजा

Bhopal Gas Tragedy: भोपाल गैस त्रासदी पूरी दुनिया की सबसे बड़ी औद्योगिक त्रासदी मानी जाती है, इसके बावजूद 39 साल बाद भी मुआवजे के लिए पीड़ितों के संघर्ष करना पड़ रहा है. 

Read Time: 3 mins
भोपाल गैस त्रासदी मामले में आज सुनवाई, 39 साल बाद भी पीड़ितों को नहीं मिला मुआवजा
भोपाल गैस त्रासदी मामले में 25 नवंबर को भोपाल जिला न्यायालय में सुनवाई होगी.

भोपाल गैस त्रासदी मामले (Bhopal Gas Tragedy) में शनिवार, 25 नवंबर को मुआवजे को लेकर भोपाल जिला न्यायालय में सुनवाई होगी. विधान महेश्वरी की कोर्ट में यूनियन कार्बाइड (Union Carbide) के मालिक डाव केमिकल की पेशी होगी. ये याचिका गैस कांड मामले में पीड़ितों ने लगाई है.

39 साल से पीड़ित कर रहे न्याय का इंतजार

बता दें कि गैस हादसे के 39 साल बाद विश्व की सबसे बड़े औद्योगिक हादसे के लिए जिम्मेदार एक भी विदेशी अभियुक्त और विदेशी कंपनी को आज तक सजा नहीं हुई है. वहीं कोर्ट में भोपाल ग्रुप फॉर इन्फोर्मेशन एंड एक्शन और CBI डाउ केमिकल अमरीका के दायित्व के संबंध में तर्क पेश करेंगे. दरअसल, भोपाल में दो-तीन दिसंबर 1984 को हुए गैस कांड की जिम्मेदार यूनियन कार्बाइड कंपनी को द डाव केमिकल्स ने खरीद लिया था. इसी खरीदी प्रक्रिया के बाद पहली बार उक्त कंपनी 3 अक्टूबर, 2023 को कोर्ट में पक्ष रखने के लिए पेश हुई थी.

अधिवक्ताओं ने कहा था- भोपाल कोर्ट के क्षेत्राधिकार के दायरे में नहीं आती

सुनवाई के दौरान कंपनी की ओर से अधिवक्ताओं ने कहा था कि कंपनी विदेशी है इसलिए भोपाल कोर्ट के क्षेत्राधिकार के दायरे में नहीं आती. जिसपर कोर्ट ने कहा था कि इस न्यायालय के क्षेत्राधिकार में न होना, उनके कंपनी के द्वारा रखे जाने वाले पक्ष का एक भाग हो सकता है. उनके पक्ष का क्या विस्तार होगा, ये पूर्णत: उनका विवेकाधिकार है. वहीं कोर्ट ने कंपनी को कारण बताओ नोटिस का जवाब पेश करने और तर्क करने के लिए आज यानी 25 नवंबर की तारीख तय की थी. 

ये भी पढ़े: MCB में 3 साल से बंद है सिटी बसों का संचालन, डिपो में खड़ी कबाड़ में हो रही तब्दील

 39 साल बाद भी मुआवजे के लिए करना पड़ रहा है संघर्ष 

2-3 दिसंबर, 1984 की रात को यूनियन कार्बाइड के कारखाने से लगभग 40 टन 'मेथायिल अयिसोसायिनेट' गैस का रिसाव हुआ था. इस हादसे में यूनियन कार्बाइड के कारखाने के आस पास के इलाके सबसे ज्यादा प्रभावित हुई थी. वहीं सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, इस हादसे में मरने वालों की संख्या 5 हजार 295 के करीब थी. बता दें कि भोपाल गैस त्रासदी पूरी दुनिया की सबसे बड़ी औद्योगिक त्रासदी मानी जाती है, इसके बावजूद 39 साल बाद भी मुआवजे के लिए पीड़ितों के संघर्ष करना पड़ रहा है. 

ये भी पढ़े: रिजल्ट से पहले मान-मनौव्वल के लिए महाकाल पहुंचे CM शिवराज, पत्नी के साथ की पूजा-अर्चना

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Road Accident: दो सड़क हादसों से दहला मध्य प्रदेश, इतने लोगों ने गंवाई जान और 7 की हालत है गंभीर
भोपाल गैस त्रासदी मामले में आज सुनवाई, 39 साल बाद भी पीड़ितों को नहीं मिला मुआवजा
muharram kab hai kitne tarikh ko Tazia and religion of Islam have no relation  such a tradition does not exist in any Islamic country other than India
Next Article
Muharram 2024: ताजिए का इस्लाम धर्म से नहीं है कोई नाता, इन देशों के अलावा किसी इस्लामी देश में नहीं है ऐसी परम्परा
Close
;