विज्ञापन
Story ProgressBack

भोपाल बना कचरे की राजधानी! शुल्क लेने पर भी नहीं हो रही सफाई, आखिर किस काम के हैं 8500 कर्मचारी?

Bhopal News: वैसे तो भोपाल को देश के बड़े, साफ शहरों में से एक माना जाता है, लेकिन यहां कचरा इतना नजर आ रहा है कि मानो ये कचरे की राजधानी हो.. 

Read Time: 3 mins
भोपाल बना कचरे की राजधानी! शुल्क लेने पर भी नहीं हो रही सफाई, आखिर किस काम के हैं 8500 कर्मचारी?
खाली पड़ा जमीन बना कूड़ादान

Swachh Bharat Mission in Bhopal: स्वच्छता सर्वेक्षण (Cleanliness Survey) में कई सालों से राजधानी भोपाल (Bhopal) को सबसे स्वच्छ राजधानी का खिताब मिलता रहा है... देश भर में स्वच्छता के मामले में पांचवें नंबर पर भोपाल आया है, लेकिन जमीनी तौर पर देखा जाये तो हकीकत कुछ और ही है.. जगह-जगह कचरे का अंबार है और बीमारियों ने जगह बना रखी है.. कई मोहल्लों में खाली जमीन कचरा घर बनी हुई है. ये भी सच्चाई है कि लोग ही कचरा फैला रहे हैं, लेकिन ये भी सच है कि डोर टू डोर कचरा इकठ्ठा करने की रकम वसूलने के बावजूद कचरा नहीं उठया जा रहा है..

अलग-अलग करना है कचरा-दारोगा

स्थानीय लोगों ने कचरा और गंदगी फैलने के बात पर कहा, 'हम दारोगा को इसको लेकर शिकायत कर चुके हैं, लेकिन वो बोलते हैं कि जो नई गाइडलाइंस आई हैं उसके तहत कचरे को अलग-अलग करना है. इसी में सभी कर्मचारी व्यस्त हैं. यहां पर कोई नहीं पहुंच रहा है. ऐसे में यहां दिन भर गंदगी रहती है. हमारे बच्चे बीमारियों से जूझ रहे हैं. हम खुली हवा में सांस तक नहीं ले सकते हैं..'

कागजों में स्वच्छता अभियान

जिले में 8500 से अधिक सफाई कर्मी सफाई में लगे हैं. कचरा इकठ्ठा करने के लिये 750 से ज़्यादा वाहन हैं. अपर आयुक्त से लेकर वार्डों में सफाई दरोगा काम देखते हैं. फिर भी गंदगी से जुड़ी हर महीने करीब 5 हज़ार शिकायतें दर्ज हो रही हैं. 200 मीट्रिक टन से अधिक कचरा रोज खुले में डंप हो रहा है. स्वच्छता के नाम पर हर साल 500 करोड़ रुपये खर्च हो रहे हैं. सफाई के नाम पर जनता से भी शुल्क लिया जाता है.

ये भी पढ़ें :- Negligence: पांच माह बीतने के बाद भी केंद्रों से नहीं हुआ धान का उठाव, बारिश में भीगकर खराब हुआ हजारों टन अनाज

खुले में कचरा फेंक रहे हैं लोग

रहवासियों ने सड़कों के किनारे कचरा फेंक कर छोटे-छोटे ट्रेचिंग ग्राउंड बना दिए हैं. शिकायतें की जाती हैं, पर निगम नदारद रहता है. लोगों के घरों कचरा नहीं उठाने पर लोग 200 मीट्रिक टन से अधिक कचरा खुले मैदानों में फेंक रहे हैं. ऐसे में शहर को गंदगी मुक्त बनाने का दावा खोखला साबित हो रहा है.

ये भी पढ़ें :- वनरक्षकों पर हमला... जंगल में लाठी, डंडों और पत्थरों से वार, आदिवासियों ने दौड़ा दौड़ाकर क्यों पीटा

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
23 जून को राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा का Prelims Exam, जानिए समय
भोपाल बना कचरे की राजधानी! शुल्क लेने पर भी नहीं हो रही सफाई, आखिर किस काम के हैं 8500 कर्मचारी?
6 people died and 11 injured in road accidents in Sehore Neemuch and Balaghat
Next Article
एमपी में तीन अलग-अलग सड़क हादसे में 6 लोगों की मौत, 11 हुए घायल
Close
;