विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Sep 05, 2023

बैरिकेट्स तोड़ वन विभाग के अंदर घुसे आदिवासी, अतिक्रमण के आरोपी की मौत के खिलाफ प्रदर्शन

आदिवासी समाज के लोगों और पुलिसकर्मी और वन कर्मियों के बीच झड़प भी हुई. लोगों ने अंदर घुसकर पुलिस और वनकर्मियों के लिए रखी गई कुर्सियों को तोड़ दिया. इस घटना के बाद तनाव बढ़ गया है.

बैरिकेट्स तोड़ वन विभाग के अंदर घुसे आदिवासी, अतिक्रमण के आरोपी की मौत के खिलाफ प्रदर्शन
अतिक्रमण के आरोपी की मौत के खिलाफ आदिवासी समाज का प्रदर्शन

गरियाबंद : अतिक्रमण के आरोपी की मौत के बाद आदिवासी समाज ने मंगलवार को फिर तिरंगा चौक पर चक्का जाम कर दिया. कल पांच घंटे जाम के बाद आज फिर आदिवासी समाज के लोग मुख्यालय पहुंचे और वन विभाग के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए तिरंगा चौक पर बैठ गए. समाज के लोगों की ओर से मृतक के परिजनों के लिए 1 करोड़ रुपए मुआवजे की मांग और वन कर्मी के निलंबन सहित कुल 7 मांगें की जा रही हैं. अपनी मांग को लेकर दोपहर 1:00 बजे से तिरंगा चौक पर बैठे आदिवासी लगभग 2 घंटे बाद वन विभाग के घेराव के लिए निकले. वन विभाग के पास पहुंचने के बाद आदिवासी समाज के लोगों ने डीएफओ के खिलाफ नारेबाजी की और आक्रोशित भीड़ ने प्रशासन की ओर से लगाए गए बैरिकेट्स को तोड़ दिए. 

इस दौरान आदिवासी समाज के लोगों और पुलिसकर्मी और वन कर्मियों के बीच झड़प भी हुई. लोगों ने अंदर घुसकर पुलिस और वनकर्मियों के लिए रखी गई कुर्सियों को तोड़ दिया. इस घटना के बाद तनाव बढ़ गया है. घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर गरियाबंद एसपी अमित तुकाराम कांबले भी पहुंचे और समाज के प्रमुख लोगों से चर्चा कर शांतिपूर्वक आंदोलन करने की बात कही. इसके बाद आंदोलनकारी वापस वन विभाग के गेट के सामने जाकर धरने पर बैठ गए. 

r6a9rl0o

आदिवासी समाज के लोगों ने किया विरोध प्रदर्शन

यह भी पढ़ें : जब कलेक्टर बने 'मास्टर जी'... क्लास में बच्चों से पूछे हिंदी और मैथ्स के सवाल

क्या है पूरा मामला?
विगत 28 अगस्त को गरियाबंद वन मंडल ने गरियाबंद रेंज के झीतरी डूमर निवासी भोजराम को अतिक्रमण के आरोप में गरियाबंद उप जेल में बंद कर दिया था. आरोपी की तबियत जेल में बंद किए जाने के दूसरे दिन ही बिगड़ गई थी. जिले में इलाज के बाद उसे मेकाहारा में रेफर कर दिया गया था. इलाज के दौरान आज उसकी मौत हो गई. मौत के बाद आक्रोशित आदिवासी समाज ने आज गरियाबंद के तिरंगा चौक में इकट्ठा होकर नेशनल हाइवे को जाम कर दिया. समाज के लोगों ने वन विभाग के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की. 

0ijh1vdg

सुरक्षाबलों से भिड़े प्रदर्शनकारी

यह भी पढ़ें : सूरजपुर में दृष्टि बाधित शिक्षक ने पेश की मिसाल, बच्चों के जीवन में जला रहे ज्ञान की ज्योति

'कार्रवाई के दिन से बीमार था बेटा'
लोगों ने कहा, 'पेसा कानून लागू होने के बावजूद प्रशासन से आदिवासी बार-बार प्रताड़ित हो रहे हैं. मृतक परिवार को वन अमला एक साल से परेशान कर रहा है. उसकी खड़ी फसल में कीटनाशक डाल दिया जाता था. आज उसकी मौत के बाद वन विभाग का कलेजा शांत हुआ होगा. पीड़ित परिवार को एक करोड़ का मुआवजा और दोषी अफसरों को निलंबित नहीं करने तक प्रदर्शन जारी रहेगा. मृतक के पिता चमरू राम ने कहा,

'कार्रवाई के दिन से मेरा बेटा बीमार था, बार-बार आग्रह के बावजूद वन विभाग ने जबरन उसे उठाकर जेल भेज दिया. इलाज के लिए बार-बार गुहार लगाई जा रही थी लेकिन विभाग ने एक नहीं सुनी और बेटे की मौत हो गई.'

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Chhattisgarh News: रीपा योजना बनी सफेद हाथी, महिलाओं को आज तक नहीं मिला उनके प्रोडक्ट का भुगतान
बैरिकेट्स तोड़ वन विभाग के अंदर घुसे आदिवासी, अतिक्रमण के आरोपी की मौत के खिलाफ प्रदर्शन
Drunken superintendent in CM Vishnu Deo Sai home district Children were beaten and then thrown out of the hostel at midnight
Next Article
Chhattisgarh : शराबी अधीक्षक ने बच्चों को पीटा, फिर आधीरात हॉस्टल से बाहर निकाल दिया, मचा बवाल 
Close
;