विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Nov 25, 2023

बेसहारा पशुओं का सहारा बने कोरिया के अनुराग, 12 साल से कर रहे गायों की सेवा

Chhattisgarh के कोरिया के रहने वाले अनुराग दुबे में गाय की सेवा का ऐसा जज्बा है कि सूचना मिलते ही बेसहारा गायों के इलाज के लिए पहुंच जाते हैं. मृत गायों के अंतिम संस्कार के लिए भी वह अकेले ही दौड़ पड़ते हैं.

Read Time: 3 mins
बेसहारा पशुओं का सहारा बने कोरिया के अनुराग, 12 साल से कर रहे गायों की सेवा

Chhattisgarh News: छत्तीसगढ़ के कोरिया (Koriya) के रहने वाले अनुराग दुबे (Anurag dubey) 12  सालों से बेसहारा गायों की सेवा कर रहे हैं. बेसहारा गायों की तकलीफ को देखते हुए उन्होंने अपने घर के आंगन को ही गौशाला बना दी है. गायों की देखभाल के लिए वे 3 रोटी बैंक चला रहे हैं. शहर के हर हिस्से से लोग एक रोटी गाय के नाम लेकर पहुंचते हैं. जो कि सुबह-शाम बेसहारा गायों को खिलाई जाती है. इनके इस नेक काम की हर कोई तारीफ करता है.

Latest and Breaking News on NDTV

1600 से ज्यादा गौ वंशों का करवा चुके हैं अंतिम संस्कार
इनमें गाय की सेवा का ऐसा जज्बा है कि सूचना मिलते ही बेसहारा गायों के इलाज के लिए पहुंच जाते हैं. मृत गायों के अंतिम संस्कार के लिए भी वह अकेले ही दौड़ पड़ते हैं. बैकुंठपुर शहर और आसपास के क्षेत्र में गौवंश की मौत होने पर भी सम्मान पूर्वक नगर पालिका की मदद से अंतिम संस्कार करवाते हैं. नगर पालिका की JCB उपलब्ध नहीं होती है, तो प्राइवेट जेसीबी मगंवाकर मृत गौवंशों का अंतिम संस्कार करवाते हैं. अब तक इन्होंने 1600 से ज्यादा गौवंशों का अंतिम संस्कार करवाया है.

Latest and Breaking News on NDTV

ये भी पढ़ें- IES Exam: एमपी के सारांश बने देश के सबसे कम उम्र के क्लास वन ऑफिसर, जानिए इनका सक्सेस मंत्र

रोटी बैंक रिक्शा
इन्होंने जन सहयोग से पहली बार घर-घर से रोटी इकट्ठा करने के लिए 5 फरवरी 2019 को एक पैडल वाले रोटी रिक्शा बैंक की शुरुआत की थी. जिसे देखते हुए अगस्त 2021 में नगर पालिका प्रशासन बैकुंठपुर की मदद बैटरी और एक इंजन वाला रिक्शा प्रदान किया गया था.  यह रिक्शा बैकुंठपुर के समस्त वार्डों से रोटी कलेक्ट करता है और रात में जहां भी  गौ वशों का डेरा रहता है वहां उनको रोटी खिलायी जाती है. रोटी रिक्शा बैंक की तारीफ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी कर चुके हैं.

Latest and Breaking News on NDTV

नहीं मिल रही मदद
ये करीब 45 गौ वंशों की देखभाल कर रहे हैं. जगह की कमी के कारण बैकुंठपुर घड़ी चौक में बाल मंदिर प्रांगण में इनकी निगरानी में छोटे-बड़े 20 गौवंशों  को रखा गया है. उनकी देखभाल भी इन्हीं के द्वारा ही की जाती है. अनुराग का कहना है कि गौसेवा के लिए प्रशासन से लगातार गोठान की मांग कर रहे हैं. लेकिन अब तक किसी भी तरह की मदद नहीं मिली है.

ये भी पढ़ें- समाज को शिक्षा से जोड़ रही है कबीरधाम पुलिस, वन क्षेत्र के 130 विद्यार्थियों का भरवाया परीक्षा फार्म

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Chhattisgarh: टूरिस्ट डेस्टिनेशन अमृतधारा में बिजली गुल, ग्रामीण परेशान, पर्यटकों के लिए राह नहीं आसान
बेसहारा पशुओं का सहारा बने कोरिया के अनुराग, 12 साल से कर रहे गायों की सेवा
Dantewada Swachh Bharat Mission coordinator Devendra Jhari withdrew Rs 78 lakh forging the signatures CEO IAS Akash Chhikara 
Next Article
Exclusive: इस IAS अफसर के फर्जी दस्तखत कर गटक लिए 78 लाख रुपये, खुली पोल तो बुरी तरह नप गया ये समन्वयक
Close
;