विज्ञापन
Story ProgressBack

Koriya: खुद के पैसों के इस्तेमाल पर भी लग गई है Limit, यह कैसी नाइंसाफी?

Bank Limit for Farmers: किसानों को उनके बेचे गए धान का पैसा सीधे उनके सहकारी बैंक के खाते में दिया जाता है. लेकिन, कोरिया जिले के किसान इन पैसों का सही उपयोग नहीं कर पा रहे हैं. बैंक ने पैसे निकालने पर लिमिट लगा दी है.

Read Time: 3 mins
Koriya: खुद के पैसों के इस्तेमाल पर भी लग गई है Limit, यह कैसी नाइंसाफी?
Farmers outside Cooperative Bank in Koriya-Chhattisgarh

Farmers in Problem: छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के कोरिया (Koria) जिले में किसानों के सामने एक नई और अनोखी मुसिबत (Farmers in Problem) आई है. यहां सहकारी बैंक (Cooperative bank) से रुपए निकालने के लिए किसान परेशान हो रहे हैं. दरअसल, बैंक में रुपए निकालने के लिए लिमिट सेट (Bank Withdrawal Limit for Farmers) कर दी गई है जिसमें किसान एक हफ्ते में 20 हजार रुपए ही निकाल सकते हैं. शादी-ब्याह या अन्य कार्यक्रमों के लिए रुपए निकालने पर लिमिट लगने से किसानों में नाराजगी है. बता दें कि किसानों द्वारा बेची गई धान की राशि सहकारी बैंक के उनके खाते में ही ट्रांसफर की जाती है.

गाइडलाइन ने बढ़ाई मुसीबत

जिला सहकारी केंद्रीय बैंक मर्यादित अंबिकापुर की गाइडलाइन ने कोरिया जिले में स्थित सहकारी बैंक सहित बैकुंठपुर और चरचा की शाखाओं ने समर्थन मूल्य पर धान बिक्री करने वाले किसानों को मुसीबत में डाल रखा है. सहकारी बैंक के खातेदार किसान अपने ही पैसे निकालने के लिए सुबह से शाम तक लंबी लाइन में लग रहे हैं. कुछ किसान तो ऐसे भी हैं जो लगभग 40-50 किलोमीटर दूर से आकर बैंक से पैसे निकालने के लिए जद्दोजहद कर रहे हैं.

इमरजेंसी होने पर भी कोई छूट नहीं

शादी-ब्याह या किसी मेडिकल इमरजेंसी का हवाला देने पर भी किसानों को कोई राहत नहीं दी जा रही है. उनके खाते में पैसे होने के बाद भी बैंक के तुगलकी फरमान से किसी भी किसान को हफ्ते में केवल 20 हजार रुपये ही दिया जा रहा है. बैंक वाले बैंक में पैसे की कमी का बताकर और इस तरह के नियम बनाकर भुगतान करने का हवाला दे रहे हैं.

सहकारी बैंक के एटीएम भी बंद

किसानों की सुविधा के लिए सहकारी बैंक का एटीएम भी अब तक चालू नहीं किया जा सका है. किसी तरह बैकुंठपुर में एक एटीएम चालू भी किया गया, लेकिन ज्यादातर इस एटीएम में पैसा नही होते हैं. इस वजह से किसान अन्य बैंक के एटीएम से पैसे निकालने और चार्ज देने के लिए विवश है. वहीं, इन खातेदारों को सुविधा उपलब्ध कराने में प्रबंधन पीछे है. किसानों द्वारा बेची गई धान की राशि सहकारी बैंक में ही ट्रांसफर की जा रही है. लिहाजा, किसानों को इसी बैंक से पैसे निकालने की मजबूरी है.

ये भी पढ़ें :- Panna Tiger Reserve: कैमरा ट्रैप में कैद हुई दुर्लभ काले भेड़िये की Image, रिजर्व में खुशी का माहौल

अपने पैसे के लिए परेशान हो रहे किसान

किसान जूता, चप्पल, झोला और पत्थर तक रखकर खुद को कतार में बनाए रखते हैं. कई ऐसे किसान हैं जो सहकारी बैंक के बैकुंठपुर और चरचा शाखा में लेनदेन के लिए लगभग 40 किलोमीटर दूर से आते हैं. सरकार ने धान का समर्थन मूल्य बढ़ाया, लेकिन जरूरत के समय किसानों के हाथ में यह पैसे उपलब्ध ही नहीं हो रहे हैं. जिससे किसान अपने ही पैसे बैंक से निकालने के लिए बेहद परेशान है.

ये भी पढ़ें :- खास खबर: ग्वालियर के चाय वाले आनंद 28वीं बार ठोकेंगे चुनावी ताल, रोचक है चुनाव में उतरने की कहानी

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
UGC-NET Exam 2024: यूजीसी नेट 2024 की परीक्षा रद्द,18 जून को हुई थी परीक्षा, जाने क्या है पूरा मामला?
Koriya: खुद के पैसों के इस्तेमाल पर भी लग गई है Limit, यह कैसी नाइंसाफी?
Now board exams will be held twice a year in Chhattisgarh, government has issued notification
Next Article
Trending News: छत्तीसगढ़ में अब साल में दो बार बोर्ड परीक्षा दे सकेंगे 10वीं और 12वीं के छात्र, सरकार ने जारी की अधिसूचना
Close
;