विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Nov 24, 2023

CG News : गन्ने की खेती से कवर्धा को मिली नई पहचान, देश के टॉप शक्कर कारखानें हैं यहां

Chhattisgarh के कबीरधाम जिले में जब पहला शक़्कर कारखाना साल 2003 में रामहेपुर में खुलने के बाद 64.25 रुपये प्रति किवंटल की दर से गन्ना  खरीदा जाता था. लेकिन अब यह बढ़कर 291 रुपए हो गया है.

Read Time: 3 mins
CG News : गन्ने की खेती से कवर्धा को मिली नई पहचान, देश के टॉप शक्कर कारखानें हैं यहां

Chhattisgadh News : छत्तीसगढ़ का कबीरधाम (Kabirdham) जिला गन्ने की खेती के लिए देश में अपनी नई पहचान बना रहा है. यहां परंपरागत (Traditional) खेती को छोड़कर आधुनिक (Modern) तरीके से गन्ने की खेती की जा रही है. जिससे किसानों को दोगुना मुनाफा हो रहा है और जिले के किसान आर्थिक रूप से मजबूत हो रहे हैं.

19 हजार किसान शेयरधारी

जिले में भोरमदेव (Bhoramdev) सहकारी शक्कर कारखाना रामहेपुर और सरदार वल्लभभाई पटेल शक्कर कारखाना रोहरा पंडरिया है. यहां 19 हजार शेयरधारी किसान गन्ना बेचते हैं. इस बार दोनों शक्कर कारखानों में 8 Lakh मीट्रिक टन गन्ना खरीदी का लक्ष्य रखा गया है. हर साल 1 नवंबर से गन्ना खरीदी शुरू होती है, जो फरवरी महीने तक की जाती है.

 टॉप 10 में शामिल हैं शक्कर कारखाने

गन्ना से शक्कर रिकवरी दर में जिले के भोरमदेव और  सरदार वल्लभभाई पटेल सहकारी शक्कर कारखाना देश के टॉप 10 शक्कर कारखानों में शामिल है. पिछले साल  पंडरिया का सरदार वल्लभ भाई पटेल शक्कर कारखाना पहले नंबर जबकि भोरमदेव शक़्कर कारखाना तीसरे नंबर पर रहा. इसकी मुख्य वजह यह है कि यहां के किसान उच्च किस्म के गन्ने की फसल लेते हैं. गन्ने के पौधे को पूरा पकने के बाद कारखाना में बेचते हैं , जिसका सीधा लाभ उन्हें मिलता है और कारखाना को भी नुकसान नहीं उठाना पड़ता है.

ये भी पढ़ें चुनाव के दौरान सुरक्षाबलों को निशाने पर लेने के लिए IED बम किया गया था प्लांट, 2 मजदूरों की मौत, एक घायल

दो दशक से कारखाना में गन्ना बेच रहे किसान

कबीरधाम जिला अल्प वर्षा वाले क्षेत्र में आता है. यहां औसत से कम बारिश होती है. दो दशक पहले यहां के किसान कृषि क्षेत्र में कमजोर थे. भूमिगत जल स्रोत से ही गन्ने की खेती करते थे. पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने ट्यूबवेल खनन में छूट दी थी. जिसके बाद गन्ने की खेती में वृद्धि हुई. रामहेपुर में भोरमदेव के नाम से पहला शक्कर कारखाना खोला गया. साल 2017 को सरदार वल्लभभाई पटेल शक़्कर कारखाना पंडरिया में खोला गया, जो नई कीर्तिमान रच रहा है.

एक लाख से ज्यादा कमा रहे

जिले में जब पहला शक़्कर कारखाना साल 2003 में रामहेपुर में खुलने के बाद 64.25 रुपये प्रति किवंटल की दर से गन्ना  खरीदा जाता था. लेकिन अब यह बढ़कर 291 रुपए हो गया है.  बोनस और अतिरिक्त रिकवरी मिलाकर किसानों को 466 रुपये प्रति क्विंटल की दर से भुगतान किया गया है। इस तरह से किसान एक एकड़ में 1 लाख से लेकर 1 लाख 40 हजार रुपये तक कमा रहे हैं.

ये भी पढ़ें आचार संहिता के दौरान बेमेतरा में हुई ताबड़तोड़ कार्रवाई, चुनाव के दिन नहीं आई एक भी शिकायत

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Chhattisgarh: टूरिस्ट डेस्टिनेशन अमृतधारा में बिजली गुल, ग्रामीण परेशान, पर्यटकों के लिए राह नहीं आसान
CG News : गन्ने की खेती से कवर्धा को मिली नई पहचान, देश के टॉप शक्कर कारखानें हैं यहां
Dantewada Swachh Bharat Mission coordinator Devendra Jhari withdrew Rs 78 lakh forging the signatures CEO IAS Akash Chhikara 
Next Article
Exclusive: इस IAS अफसर के फर्जी दस्तखत कर गटक लिए 78 लाख रुपये, खुली पोल तो बुरी तरह नप गया ये समन्वयक
Close
;