विज्ञापन
Story ProgressBack

Chhattisgarh: खेल मंत्री के गृह जिले का बुरा हाल, ना मैदान ना ही कोच....ओलंपिक के लिए कैसे तैयार होंगे खिलाड़ी?

CG News: छत्तीसगढ़ के खेल मंत्री टंक राम वर्मा के गृह जिले बलौदा बाजार में खेल विभाग का हालत खस्ता है. यहां खिलाड़ियों को तैयारी करने के लिए मूलभूत सुविधाएं तक उपलब्ध नहीं हैं.

Read Time: 3 mins
Chhattisgarh: खेल मंत्री के गृह जिले का बुरा हाल, ना मैदान ना ही कोच....ओलंपिक के लिए कैसे तैयार होंगे खिलाड़ी?
बलौदा बाजार में खेल विभाग के पास मूलभूत सुविधाओं का अभाव है.

Sports Department of Chhattisgarh: पेरिस ओलंपिक 2024 (Paris Olympic 2024) के लिए फ्रांस (France) में ओलंपिक मशाल (Olympic Torch) को प्रज्वलित कर रवाना कर दिया गया है. इसी के साथ अब तमाम जगहों पर चर्चा का केंद्र खेल होने वाला है. खेलों के सबसे बड़े महाकुंभ का आयोजन इसी साल जुलाई और अगस्त में पेरिस (Paris) में होने वाला है. ओलंपिक में पदक जीतने के लिए होने वाले प्रयासों पर चर्चा के बीच जहां एक तरफ खिलाड़ी मैदान में उतर कर पसीना बहा रहे हैं, वहीं दूसरी ओर पूरा भारत उम्मीद लगाए बैठा है कि आने वाले ओलंपिक की पदक तालिका में भारत (India) के खिलाड़ियों की भूमिका बढ़ेगी और पदक में इजाफा होगा.

वहीं बात करें खिलाड़ियों को मिलने वाली सुविधाओं की तो ओलिंपिक पोडियम (Olympic Podium) जैसी योजना चलाकर स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (SAI) और खेलो इंडिया (Khelo India) के माध्यम से खिलाड़ियों की पहचान की गई है. देशभर से प्रतिभाशाली खिलाड़ियों को चुनकर ओलंपिक के लिए तैयार किया जाता है.

छत्तीसगढ़ में खेल विभाग का बुरा हाल

वहीं छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में खेल विभाग का बुरा हाल है. खेल को लेकर छत्तीसगढ़ सरकार (Chhattisgarh Government) की व्यवस्था हैरान और परेशान करने वाली है. छत्तीसगढ़ सरकार में खेल एवं युवा कल्याण मंत्री टंक राम वर्मा (Sports Minister Tank Ram Verma) के गृह जिले बलौदाबाजार (Baloda Bazar) में संचालित खेल विभाग का हाल ऐसा है कि यहां न तो पर्याप्त कर्मचारी हैं और न ही खिलाड़ियों के खेलने के लिए तमाम सुविधाएं. छत्तीसगढ़ के खेल मंत्री के गृह जिले का यह हाल है तो सोचिए पूरे राज्य का क्या हाल होगा?

बलौदा बाजार खिलाड़ियों के लिए नहीं हैं सुविधाएं

बलौदा बाजार में खेल विभाग महज एक कमरे में संचालित हो रहा है. जहां महज तीन लोग पदस्थ हैं, इनमें एक महिला अधिकारी भी हैं, जिनके लिए विभाग के भीतर सुविधाएं उपलब्ध नहीं हैं. सबसे हैरानी वाली बात यह है कि जिले में खेल विभाग के पास खुद का कोई मैदान, कोच और ट्रेनर भी नहीं है, जो खिलाड़ियों को खेल की बेसिक ट्रेनिंग करा सकें. वहीं जब इस मामले में खेल विभाग के मंत्री टंक राम वर्मा से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि खेल विभाग के लिए नया बिल्डिंग बनाएंगे. साथ ही स्पोर्ट्स स्टेडियम का रिनोवेशन कराएंगे. विभाग सुसज्जित किया जाएगा.

यह भी पढ़ें - Chhattisgarh: बढ़ती हुई गर्मी में ऐसे कैसे काम चलेगा साहब, इतना बड़ा जिला और आग बुझाने का वाहन सिर्फ एक!

यह भी पढ़ें - सावधान! चोरी की ऐसी तरकीब तो कभी नहीं देखी होगी, अनोखे तरीके से चुरा लिया 12 लाख का सामान...

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
UGC-NET Exam 2024: यूजीसी नेट 2024 की परीक्षा रद्द,18 जून को हुई थी परीक्षा, जाने क्या है पूरा मामला?
Chhattisgarh: खेल मंत्री के गृह जिले का बुरा हाल, ना मैदान ना ही कोच....ओलंपिक के लिए कैसे तैयार होंगे खिलाड़ी?
Now board exams will be held twice a year in Chhattisgarh, government has issued notification
Next Article
Trending News: छत्तीसगढ़ में अब साल में दो बार बोर्ड परीक्षा दे सकेंगे 10वीं और 12वीं के छात्र, सरकार ने जारी की अधिसूचना
Close
;