विज्ञापन
Story ProgressBack

Ambikapur: पहले पीटा, फिर मोबाइल छीना... बेहतर पगार की लालच में कर्नाटक गए युवक को किया गया प्रताड़ित

Ambikapur youth tortured in Karnataka: अम्बिकापुर के तीन आदिवासी युवकों को कर्नाटक में बंधक बना मारपीट करने का मामला सामने आया है.

Read Time: 3 mins
Ambikapur: पहले पीटा, फिर मोबाइल छीना... बेहतर पगार की लालच में कर्नाटक गए युवक को किया गया प्रताड़ित

Ambikapur News: छत्तीसगढ़ के अम्बिकापुर जिले के लखनपुर क्षेत्र के तीन आदिवासी युवकों को कर्नाटक में बंधक बनाकर मारपीट करने का मामला सामने आया है. इन युवकों को पहले बंधक बनाया गया और फिर मारपीट कर दिन-रात बोरवेल कंपनी में काम कराया गया. जिसकी शिकायत इन युवकों ने लखनपुर थाना पहुंचकर दर्ज कराई है. 

हालांकि ये युवक नगर पंचायत लखनपुर के नेता प्रतिपक्ष रमेश जायसवाल की मदद से कर्नाटक से भागकर घर पहुंचे. वहीं अब अपने साथ हुए अत्याचार की व्यथा सुनाकर पुलिस प्रशासन से न्याय की गुहार लगा रहे हैं.

अधिक पगार देने का लालच देकर ले गया था कर्नाटक 

जानकारी के मुताबिक, बेलदग्गी के छूईभवना निवासी शिवनाथ पण्डो (20 वर्ष), बगदेवा के कोसंगा के रहने वाले अशोक अगरिया (18 वर्ष),  लखनपुर नगर पंचायत वार्ड क्रमांक 12 के रहने वाले उदयभान (25 वर्ष) को कर्नाटक के सुनील नामक व्यक्ति ने अधिक पैसे देने का लालच देकर कर्नाटक ले गया था. सुनील ने बोरवेल कंपनी में काम कराने के लिए तीन महाने पहले कर्नाटक ले गया था.

इन युवकों से बंधुआ मजदूरी कराया गया

पीड़ित युवकों के मुताबिक, शुरू में सब ठीकठाक था, लेकिन कुछ दिनों बाद बोरवेल कराने वाले लोगों ने इनलोगों के साथ प्रताड़ित करने लगा.ना तो युवकों को एक टाइम से खाना देता था और ना ही कहीं जाने देता था. इतना ही नहीं इन युवकों से दिन-रात बोरवेल कंपनी में काम कराया जा रहा था. हालांकि जब इनलोगों ने इसका विरोध किया तो सुनील ने युवकों सेके साथ मारपीट की. फिर घर पर बातचीत करने से मना कर युवकों से मोबाइल छीन लिया. जिससे तीनों युवकों का घर से संपर्क टूट गया.

संपर्क टूटने के बाद बोरवेल कंपनी के मालिक सुनील के द्वारा तीनों युवकों से बंधुआ मजदूरी कराया गया. जब युवकों ने घर जाने के लिए कहा और 3 महीने का मजदूरी मांगा तो सुनील ने साफ मना कर दिया और फिर मारपीट करने लगा.

किसी तरह संपर्क होने पर पैसा मंगवाया फिर भागें

पीड़ित युवकों ने बताया कि किसी तरह युवकों ने एक व्यक्ति से मोबाइल मांग कर लखनपुर नगर पंचायत नेता प्रतिपक्ष रमेश जायसवाल को फोन कर इसकी जानकारी दी. जिसके बाद उन्होंने हमारी मदद की. जायसवाल ने ऑनलाइन के माध्यम से से पांच हजार रुपये भिजवाए. जिसके बाद बुधवार की रात लगभग 12 बजे तीनों युवक किसी तरह पैदल भाग कर कर्नाटक से मध्य प्रदेश के छतरपुर रेलवे स्टेशन पहुंचे. हालांकि इन युवकों का पीछा करते हुए सुनील भी अपने आदमियों के साथ छतरपुर रेलवे स्टेशन पहुंचा.

ये भी पढ़े: IND vs AUS: भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच T20 सुपर 8 का मुकाबला आज,जानें किसका पलड़ा भारी, यहां देखें पिच रिपोर्ट और हेड टू हेड आंकड़े

बीते रविवार को कर्नाटक से भागकर पहुंचे घर

सुनील को देख कर तीनों युवक छुप गए और उसके जाने के बाद ट्रेन में बैठकर रविवार की सुबह अपने घर लौट आए. तीनों युवक अपने-अपने परिजनों को लेकर नगर पंचायत नेता प्रतिपक्ष रमेश जायसवाल के निवास पहुंचे और अपने साथ हुए बर्बरता के संबंध में जानकारी दी. जिसके बाद नगर पंचायत नेता प्रतिपक्ष रमेश जायसवाल ने तीनों पीड़ित युवक और उनके परिजन को लखनपुर थाना पहुंचे और आवेदन देकर जल्द कार्रवाई करने की मांग की.

ये भी पढ़े: फिर टूट जाएगा टीम इंडिया का वर्ल्ड कप जीतने का सपना? भारत पर कैसे मंडरा रहा सेमीफाइनल से बाहर होने का खतरा!

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
अधूरे पीएम आवास पर प्रशासन ने लिया बड़ा एक्शन, लाभार्थियों को जारी हुआ नोटिस, जवाब नहीं दिया तो...  
Ambikapur: पहले पीटा, फिर मोबाइल छीना... बेहतर पगार की लालच में कर्नाटक गए युवक को किया गया प्रताड़ित
Political fervor has intensified amid the fight between the BJYM district president and the doctor in Gariaband the protest was postponed after the administration convinced them
Next Article
Chhattisgarh News: भाजयुमो जिलाध्यक्ष और डॉक्टर की लड़ाई के बीच अब राजनीतिक सरगर्मी हुई तेज, प्रशासन के समझाने के बाद स्थगित किया प्रदर्शन
Close
;