विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Dec 17, 2023

विश्व रंग 2023 : टैगोर चिल्ड्रन पेंटिंग प्रतियोगिता में बच्चों ने अपनी कलाकारी से सभी का मन मोहा

Bhopal News: शनिवार को स्कोप ग्लोबल स्किल्स यूनिवर्सिटी में विद्यार्थियों ने अपनी कल्पनाओं को पेंटिंग शीट पर उकेरा और उनमें रंगों के माध्यम से अपनी प्रतिभा दिखाई. बच्चे काफी उत्साहित दिख रहे थे.

विश्व रंग 2023 :  टैगोर चिल्ड्रन पेंटिंग प्रतियोगिता में बच्चों ने अपनी कलाकारी से सभी का मन मोहा
बच्चे काफी उत्साहित दिख रहे थे

Madhya Pradesh News: बच्चों में छिपी प्रतिभा निखारने के उद्देश्य से शनिवार को स्कोप ग्लोबल स्किल्स यूनिवर्सिटी भोपाल में टैगोर चिल्ड्रन पेंटिंग कंपटीशन का भव्य आयोजन हुआ. जिसमें भोपाल, औबेदुल्लागंज, मंडीदीप के 50 से अधिक सरकारी, प्राइवेट और पब्लिक स्कूलों के लगभग 2000 से अधिक बच्चों ने हिस्सा लिया. प्रतियोगिता चार कैटेगरी में आयोजित हुई. जिसमें कक्षा 3 से 5, कक्षा 6 से 8, कक्षा 9-10 और कक्षा 11-12 के छात्र शामिल हुए.

ािि

इस प्रतियोगिता में 2000 से अधिक बच्चों ने हिस्सा लिया

कई विशिष्ठ लोग बच्चों का हौसला बढ़ाने के लिए मौजूद रहे

इस मौके पर विश्व रंग के निदेशक संतोष चौबे, स्कोप ग्लोबल स्किल्स विश्वविद्यालय के चांसलर और सह निदेशक डॉ सिद्धार्थ चतुर्वेदी, रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय की प्रो. चांसलर और विश्वरंग सह निदेशक डॉ अदिति चतुर्वेदी वत्स और स्कोप ग्लोबल स्किल्स यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रो. अजय भूषण और कुलसचिव डॉ सितेश कुमार सिन्हा विशेष रुप से बच्चों का उत्साहवर्धन करते हुए नजर आए. संतोष चौबे ने कहा की इस तरह की प्रतियोगिताओं में भाग लेने से बच्चों में कलात्मक व मानसिक विकास होता है. इसलिए बच्चों को अपनी रूचि अनुसार इस तरह की प्रतियोगिताओं में भाग लेना चाहिए. प्रतियोगिताओं में भाग लेने से बच्चों का सर्वांगीण विकास होता है. इस दौरान उन्होंने छोटे-छोटे बच्चों की अच्छी चित्रकारी देखकर उनके अभिभावकों से बच्चों को आगे बढ़ाने के लिए प्रेरित भी किया.

््ीिू

बच्चों ने कई तरह की पेंटिंग बनाई

बच्चों ने तरह-तरह की चित्रकारियां की

शनिवार को स्कोप ग्लोबल स्किल्स यूनिवर्सिटी में विद्यार्थियों ने अपनी कल्पनाओं को पेंटिंग शीट पर उकेरा और उनमें रंगों के माध्यम से अपनी प्रतिभा दिखाई. कार्मल कान्वेंट स्कूल रतनपुर से कक्षा 5वीं के अर्चित चौधरी ने बढ़ते प्रदूषण से पर्यावरण को बचाने हेतु सेव अर्थ थीम पर, कार्मल कान्वेंट स्कूल बीएचईएल से कक्षा 8 की इयूति जैन ने मां सरस्वती की, केन्द्रीय विद्यालय क्रमांक 3 से कक्षा 4 की अहाना ने सेव बीज सेव वर्ल्ड, सेंट मोंट फोर्ट स्कूल से कक्षा 4के अयांश कुलश्रेष्ठ ने स्किल इंडिया, महर्षि विद्या मंदिर रतनपुर से कक्षा 5वीं की शिविका ने मांडला आर्ट, कार्मल कान्वेंट स्कूल रतनपुर से कक्षा 6 वीं की नैसा यादव ने चंन्द्रयान, कक्षा 6वीं की ही रिद्धिमा महारन ने कंजर्वेशन आफ एनर्जी, जवाहरलाल नेहरू स्कूल से कक्षा 8वीं के हर्ष ने हनुमान, कैंपियन स्कूल से कक्षा 9वीं के अहमद खान ने इवेल्यूशन इन टेक्नोलॉजी, डीपीएस से कक्षा 6वीं की पाखी और कैंपियन स्कूल से कक्षा 7वीं के तेजस्वा ने पूरे विश्वरंग को अपने कैनवास में समेटते हुए सुंदर चित्रकारी की. 

ीिीि

बच्चों में काफी उत्साह दिख रहा है

24 दिसंबर को राष्ट्रीय स्तर की पेंटिंग वर्कशॉप में अपनी प्रतिभा दिखाने का मिलेगा मौका

इस प्रतियोगिता से चयनित विद्यार्थियों की पेंटिंग विश्व रंग में प्रदर्शित की जाएगी. पेंटिंग वर्कशॉप में चुनिंदा बच्चों को विश्वरंग के दौरान ही 24 दिसंबर को राष्ट्रीय स्तर की पेंटिंग वर्कशॉप में अपनी प्रतिभा को और निखारने का सुनहरा अवसर प्रदान किया जाएगा. और चारों कैटेगरी के प्रथम द्वितीय तृतीय विजेताओं को विश्वरंग के दौरान ही पुरस्कृत भी किया जाएगा.

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
भाजपा पार्षद पर आर्थिक सहायता के बहाने महिला से दुष्कर्म का लगा आरोप, एक्टिव हुई पुलिस
विश्व रंग 2023 :  टैगोर चिल्ड्रन पेंटिंग प्रतियोगिता में बच्चों ने अपनी कलाकारी से सभी का मन मोहा
167 year old tradition was followed in Rewa Tajia was taken out on the day of Moharram know the history of Moharram month of islam religion
Next Article
रीवा में निभाई गई 167 साल पुरानी परंपरा, मोहर्रम के दिन निकाली गई ताजिया, जानें इन दिन का इतिहास
Close
;