विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Dec 25, 2023

ग्वालियर में वाजपेयी की 'अटल' यादें, जहां जन्में वहां खुलवाया गरीब बच्चों के लिए कंप्यूटर ट्रेनिग सेंटर

Atal Bihari Vajpayee Birth Anniversary:अटल बिहारी वाजपेयी के जेहन में ग्वालियर के लड्डू और मंगोड़े का स्वाद और मेले की रौनक आखिरी सांस तक जीवंत रही. वहीं जिस घर में पले-बढ़े उसे गरीब बच्चों को कम्प्यूटर सिखाने की संस्था को समर्पित कर दिया था.

ग्वालियर में वाजपेयी की 'अटल' यादें, जहां जन्में वहां खुलवाया गरीब बच्चों के लिए कंप्यूटर ट्रेनिग सेंटर
भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म 25 दिसंबर, 1924 को ग्वालियर में हुआ था.

अटल बिहारी वाजपेयी के अनसुने किस्से: भारत रत्न और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) की सोमवार, 25 दिसंबर को 99 वीं जयंती है. अटल बिहारी वाजपेयी भारतीय राजनीति के ध्रुव तारा तो थे ही साथ ही अजातशत्रु भी थे. अटल बिहारी वाजपेयी का पूरे देशभर में धूमधाम से जयंती मनाई जाती है. हालांकि ग्वालियर में उनकी जयंती बेहद खास तरीके से मनाई जाती है, क्योंकि ग्वालियर उनका जन्म स्थल है. इसलिए अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती को मध्य प्रदेश के ग्वालियर में ग्वालियर गौरव दिवस के रूप में मनाया जाता है. बता दें कि अटल बिहारी वाजपेयी ग्वालियर से हीं पढ़ाई की थी. साथ ही उन्होंने  ग्वालियर से सियासत और साहित्य का ककहरा सीखा था.

Latest and Breaking News on NDTV

इतना ही अटल बिहारी वाजपेयी के जेहन में ग्वालियर के लड्डू और मंगोड़े का स्वाद और मेले की रौनक आखिरी सांस तक जीवंत रही. अविवाहित रहे अटल बिहारी ने अपना घर गरीब बच्चों को कम्प्यूटर सिखाने की संस्था को समर्पित कर दिया था.

कमलसिंह के बाग में जन्में थे अटल बिहारी

अटल बिहारी वाजपेयी का परिवार ग्वालियर के शिंदे की छावनी इलाके की एक संकरी गली कमलसिंह का बाग में रहता था. इसी इलाके में उनका बचपन बीता जिसके किस्से वो गाहे बगाहे अपने भाषणों, गोष्ठियों में सुनाते रहते थे. ग्वालियर के गोरखी स्कूल में उन्होंने इंटर तक की पढ़ाई की. उसके बाद उन्होंने ग्रेजुएशन की पढ़ाई विक्टोरिया कॉलेज (वर्तमान एमएलबी कॉलेज) से किया था. इसी दौरान वो राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के संपर्क में आये और अपना जींवन अविवाहित रहकर उसे सौंपने का निर्णय कर प्रचारक हो गए. इतना ही नहीं उन्होंने ग्वालियर से साहित्य और पत्रकारिता का ककहरा भी सीखा और फिर भारतीय साहित्य और राजनीति के अजातशत्रु व्यक्तित्व बनकर अनुकरणीय बनकर स्थापित हो गए.

अपना घर गरीब बच्चों को किया समर्पित

अटल बिहारी वाजपेयी ने ग्वालियर के कमलसिंह के बाग में स्थित जिस मकान में उनका बचपन बीता प्रधानमंत्री बनने के बाद उन्होंने इस पैतृक मकान में मिले अपने हिस्से में गरीब बच्चों के लिए एक कंप्यूटर ट्रेनिंग सेंटर खुलवाकर उसे दे दिया जिसके एक मंजिल पर पुस्तकालय और वाचनालय चलता है, जबकि प्रथम तल पर गरीब बच्चों के लिये कम्प्यूटर क्लासेस. यहां पढ़ने वाले बच्चे कहते हैं कि हम गौरवान्वित महसूस करते है कि हम यहां सीखने आते हैं, जहां भारत रत्न अटल जी पैदा हुए और उनका बचपन यहां बीता.

Latest and Breaking News on NDTV

ग्वालियर के लड्डू और मंगोड़े से उनका अद्भुत प्रेम था

ग्वालियर के आम लोगों की तरह अटल बिहारी खाने के बड़े शौकीन थे. वो ग्वालियर आएं और बहादुरा के प्रसिद्ध लड्डू और फुटपाथ पर बैठकर मंगौड़े बनाकर बेचने वाली अम्मा के मंगोड़े न खाए ये तो होता ही नहीं था. उनके करीब रहे लोग बताते हैं कि सांसद और राष्ट्रीय नेता होने के बावजूद अचानक बिना बताए कभी भी सिर्फ लड्डू और मंगोड़े खाने ग्वालियर आ जाते थे. जब प्रधानमंत्री बने थे तो वे ग्वालियर से लड्डू मंगवाते थे. खासकर उनके जन्मदिन की पार्टी में ये लड्डू होते ही थे.

Latest and Breaking News on NDTV

इस दुकान के मालिक का कहना है कि जब मैं बहुत छोटा था तो अटल बिहारी विपक्ष के नेता थे. तब हमारी दुकान पर काफी आया जाया करते थे. बाद में जब उनके भांजे अनूप मिश्रा दिल्ली जाते थे, खासकर उनके जन्मदिन पर तो वो यहां से लड्डू जरूर लेकर जाते थे. इसी तरह जब अटल जी पीएम बनने के बाद एक बार अपना जन्मदिन मनाने ग्वालियर आये थे तो उन्होंने सभी से मुलाकात की, लेकिन मंगौड़े वाली अम्मा और बहादुरा लड्डू वालों को खासतौर पर मिलने के लिए आमंत्रित किया था. 

ये भी पढ़े: Christmas 2023: मसीही समाज ने धूमधाम से मनाया क्रिसमस, प्रेम, एकता  और भाईचारे का दिया संदेश

ग्वालियर के मेला देखने के बड़े शौकीन थे अटल जी

ग्वालियर में आज 25 दिसम्बर से ग्वालियर व्यापार मेला की शुरुवात हो रही है. ये मेला लगभग सवा सौ साल पहले से लगता चला आ रहा है. जाहिर है उस दौर में मेला ही मनोरंजन का एकमात्र साधन हुआ करता था. अटल बिहारी भी बचपन से ही परिवार के साथ मेला घूमने तांगा से पहुंचते थे, लेकिन उनका ये शौक ताउम्र वैसा ही रहा. वो भले ही किसी भी पद पर रहे हों लेकिन मेला घूमना नहीं भूलते थे.

Latest and Breaking News on NDTV

उनके नजदीकी रहे और ग्वालियर व्यापार मेला प्राधिकरण के अध्यक्ष रह चुके वयोवृद्ध भाजपा नेता राज चड्ढा बताते हैं कि अनेक बार तो ऐसा होता था कि बगैर प्रशासन को सूचना दिए अचानक दिल्ली से मेला घूमने ग्वालियर आ जाते थे. स्टेशन से सीधे मेला पहुंच जाते थे और जब तक लोगों में इस बात का शोर होता था कि अटल बिहारी झूला झूल रहे हैं... मूंगफली खरीद रहे थे.. तब नेता और प्रशांसन उन्हें ढूंढने पहुंचते थे, लेकिन तब तक वो ट्रेन पकड़कर वापिस दिल्ली लौट जाते थे. चड्ढा कहते है कि मैंने प्राधिकरण का अध्यक्ष रहते मेले के शताब्दी वर्ष में अटल बिहारी को बुलाया था और उन्होंने इस समारोह में मंच से मेले से जुड़े अनेक भावुक किस्से सुनाए थे.

ये भी पढ़े: अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती: राष्ट्रपति, PM मोदी से लेकर शाह तक... इन दिग्गजों ने दी श्रद्धांजलि

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
MP News: मौत की सेल्फी!  एमपी के इस झरने पर पति के सामने मौत के मुंह में समा गई विवाहिता
ग्वालियर में वाजपेयी की 'अटल' यादें, जहां जन्में वहां खुलवाया गरीब बच्चों के लिए कंप्यूटर ट्रेनिग सेंटर
Indian Railways This train will remain canceled at Khandwa station from 14th to 22nd July its route has been changed
Next Article
Indian Railways: रेल यात्रियों की बढ़ सकती हैं मुश्किलें! इस स्टेशन पर ये ट्रेनें रहेंगी रद्द
Close
;