विज्ञापन
Story ProgressBack

पुणे हादसे में मरने वालों के माता-पिता ने उठाई मांग, कहा- SC की निगरानी में हो जांच

Pune Hit and Run Case : गंभीर अपराध को देखते हुए आरोपी के खिलाफ नाबालिग की तरह नहीं, बल्कि वयस्क की तरह मुकदमा चलाया जाना चाहिए. कोष्टा ने आरोप लगाया कि जब आरोपी ने उनकी बेटी और अनीश पर अपनी कार चढ़ा दी तब वह नशे की हालत में था.

Read Time: 3 mins
पुणे हादसे में मरने वालों के माता-पिता ने उठाई मांग, कहा- SC की निगरानी में हो जांच
पुणे हादसे में मरने वालों के माता-पिता ने उठाई मांग, कहा- SC की निगरानी में हो जांच

Pune Car Crash : पुणे में कार दुर्घटना में मारे गये दो सॉफ्टवेयर इंजीनियरों के माता-पिता ने शुक्रवार को मांग की कि सुप्रीम कोर्ट को मामले की जांच और सुनवाई की निगरानी करनी चाहिए. दोनों परिवारों ने यह भी मांग की है कि मामले की सुनवाई मध्य प्रदेश में होनी चाहिए न कि महाराष्ट्र में क्योंकि मरने वाले मध्य प्रदेश से थे. मध्य प्रदेश के रहने वाले 24 वर्षीय आईटी पेशेवर अनीश अवधिया और अश्विनी कोष्टा की मोटरसाइकिल को 19 मई को पुणे शहर में 17 वर्षीय लड़के द्वारा कथित तौर पर चलाई जा रही तेज रफ्तार पोर्शे कार ने टक्कर मार दी, जिससे इस घटना में उनकी मौत हो गयी. अश्विनी जबलपुर की रहने वाली थी, जबकि अनीश उमरिया जिले के बिरसिंहपुर पाली का रहने वाला था.

जबलपुर की अश्विनी के पिता ने कहा ये

अश्विनी के पिता सुरेश कुमार कोष्टा ने PTI -भाषा से बात करते हुए कहा, ''सुप्रीम कोर्ट को मामले की जांच और सुनवाई की निगरानी करनी चाहिए ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि हमें न्याय मिले.'' उन्होंने कहा कि गंभीर अपराध को देखते हुए आरोपी के खिलाफ नाबालिग की तरह नहीं, बल्कि वयस्क की तरह मुकदमा चलाया जाना चाहिए. कोष्टा ने आरोप लगाया कि जब आरोपी ने उनकी बेटी और अनीश पर अपनी कार चढ़ा दी तब वह नशे की हालत में था. दुर्घटना के बाद, किशोर को किशोर न्याय बोर्ड (जेजेबी) के समक्ष पेश किया गया, जिसने उसे 300 शब्दों का निबंध लिखने के लिए कहते हुए उसे जमानत दे दी.

पुलिस पर लगाए VIP ट्रीटमेंट के आरोप

त्वरित जमानत और पुलिस की समीक्षा याचिका पर हंगामे के बाद, जेजेबी (Juvenile Justice Board ) ने बुधवार को रियल एस्टेट डेवलपर (Real Estate Developer) विशाल अग्रवाल के बेटे किशोर को पांच जून तक अवलोकन गृह में भेज दिया. पुलिस ने किशोर के पिता को भी गिरफ्तार कर लिया है. अनीश के पिता ओम प्रकाश अवधिया ने फोन पर कहा, 'मैं आखिरी सांस तक न्याय के लिए लड़ूंगा.' उन्होंने कहा कि परिवारों को न्याय सुनिश्चित करने के लिए मामले की सुनवाई पुणे में नहीं बल्कि मध्यप्रदेश में होनी चाहिए. उन्होंने आरोप लगाया कि आरोपी के पास ड्राइविंग लाइसेंस नहीं होने के बावजूद उसे थाने में VIP ट्रीटमेंट दिया गया. अवधिया ने कहा, ‘‘इस दुर्घटना को दोहरा हत्याकांड माना जाना चाहिए.''

ये भी पढ़ें : पुणे हादसे में मृतक अश्वनी का जबलपुर में हुआ अंतिम संस्कार, आरोपी को जमानत देने पर परिवार में आक्रोश

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Crime: सास ने बहू को कहा सिर्फ यह एक शब्द, तो बहू ने दी ऐसी सजा कि सुनकर कांप जाएगी रूह
पुणे हादसे में मरने वालों के माता-पिता ने उठाई मांग, कहा- SC की निगरानी में हो जांच
ceremony of MPL Before 2 people were murdered in Gwalior know how the double murder happened amidst high security
Next Article
MPL के उद्धाटन समारोह से पहले ग्वालियर में 2 लोगों की हत्या, जानें हाई सिक्युरिटी के बीच कैसे हुआ डबल मर्डर?
Close
;