विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Oct 17, 2023

Vidisha News : हालात से लड़ते विदिशा के किसान...15 साल पुराने दामों पर फसल बेचने को मजबूर 

संतोष सिंह बताते हैं कि जो फसल के दाम आज से 20 साल पहले थे...आज भी वही दाम है. सचिव के हिसाब से किसानों को फसलों के दाम बेहतर मिल रहे हैं. बता दें कि हर बार की तरह किसानों की साल भर की मेहनत पर पानी फिर जाता है. कभी व्यवस्था, कभी नमी, कभी फसल की चमक, कभी बाढ़ व सूखा... आखिर में किसानों को कम दामों में ही संतोष करना पड़ता है. 

Read Time: 3 mins
Vidisha News : हालात से लड़ते विदिशा के किसान...15 साल पुराने दामों पर फसल बेचने को मजबूर 
हालात से लड़ते विदिशा के किसान

Madhya Pradesh News: चुनावी मौसम के दिनों भाजपा हो या कांग्रेस... दोनों ही दल अपने आपको किसान हितैषी सरकार बताने की भरपूर कोशिश में लगे हैं. दोनों दल अपने चुनावी पिटारे से किसानों के लिए भरपूर घोषणाएं भी कर रहे है. लेकिन जमीनी हकीकत को देखा जाए तो तमाम सरकारी ऐलान चुनावों तक ही सिमट कर रह जाते हैं. चुनाव निकलने के बाद राजनीतिक पार्टियों को न तो अपना दावा याद रहता है न ही वादा... 


आज हम आपको विदिशा के कृषक मंडी की ऐसी ही जमीनी हकीकत से रूबरू कराने जा रहे हैं. किसानों का जैसा हाल सालों पहले था, आज भी वही आलम है. विदिशा जिले को खेती पर आधारित जिला कहा जाता है. यहां धान और सोयाबीन की फसल अत्यधिक होती हैं. इन दिनों कृषक मंडी में किसानों का जमावड़ा लगा है. किसानों को पूरे साल की मेहनत का आज भी वही दाम मिल रहा है जो 15 साल पहले मिलता था. 

किसान कहते हैं, 'हम पर हर जगह से मार पड़ती है. पहले एक किसान प्रकृति की मार से पिटता है फिर व्यवस्था की मार से भी अछूता नहीं रहता.'


किसान संतोष सिंह अपनी सोयाबीन की फसल को बेचने मिर्जापुर मंडी आए हैं. संतोष सिंह बताते हैं कि जो फसल के दाम आज से 20 साल पहले थे...आज भी वही दाम है. जितने तेज़ी से उत्पादन घटा है. उतनी तेज़ी से दाम भी घटे हैं. 

यह भी पढ़ें : MP Election 2023 : कांग्रेस का वचन पत्र जारी, 101 गारंटी के साथ 'खुशहाली' लाने की घोषणा, जानिए क्या कुछ है चुनावी पिटारे में

15 साल पुराने दाम पर बिक रही फसल 

ऐसे ही एक दिनेश सिंह हैं जो आलम खेड़ा के किसान है. दिनेश मंडी में धान लेकर आए हैं. वह भी बता रहे हैं कि आज से जो दाम 15 साल पहले थे, वही दाम आज भी मिल रहे हैं. धान लेकर आए सतपाड़ा सराय के किसान हाकिम बता रहे हैं कि दाम बहुत कम है. पानी की कमी से फसल की पैदावार बहुत कम हुई है. दूसरे किसान कहते हैं, अभी तो दाम व्यापारियों पर निर्भर करेगा कि आखिर वो किस रेट में फसल खरीदते हैं.


किसानों को नहीं मिल रही लागत 

मंडी सचिव बता रहे हैं जो धान मंडी में आई है उसमे कुछ नमी है इसलिए दाम कुछ कम मिल रहे हैं. बाकी फसलों की खरीदी शुरू हो गई है. मंडी सचिव के हिसाब से किसानों को फसलों के दाम बेहतर मिल रहे हैं. बता दें कि हर बार की तरह किसानों की साल भर की मेहनत पर पानी फिर जाता है. कभी व्यवस्था, कभी नमी, कभी फसल की चमक, कभी बाढ़ व सूखा... आखिर में किसानों को कम दामों में ही संतोष करना पड़ता है. 

यह भी पढ़ें : MP Election 2023 : किस बात पर कमलनाथ ने कहा- दिग्विजय सिंह और जयवर्धन सिंह के कपड़े फाड़िए?

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
रेवती रेंज में पौधारोपण शुरू: महिलाओं ने बजाए शंख, विजयवर्गीय ने की पूजा-अर्चना... इंदौर में आज रोपे जाएंगे 11 लाख पौधे
Vidisha News : हालात से लड़ते विदिशा के किसान...15 साल पुराने दामों पर फसल बेचने को मजबूर 
indore-Crime: After interrogating 400 people and examining 500 CCTV cameras, the accused of robbery were caught, a very interesting information came to light.
Next Article
Crime: 400 लोगों से पूछताछ और 500 CCTV कैमरे की जांच के बाद लूट के आरोपी गिरफ्तार, एक रोचक जानकारी आई सामने
Close
;