विज्ञापन
Story ProgressBack

लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के नेताओं पर IT का शिकंजा, एक साथ इतने नेताओं को दिल्ली किया तलब

कांग्रेस नेताओं को आयकर विभाग की ओर से मिलने वाले नोटिस को नेता प्रतिपक्ष उमंग सिंघार ने कांग्रेस के नेताओं को ब्लैकमेल करने की कोशिश करार दिया है. उन्होंने नोटिस के बाद कहा कि आज जानकारी क्यों मांगी जा रही है. 5 साल पहले क्यों नहीं मांगी गई. उन्होंने कहा कि यह दबाव बनाने की राजनीति हो रही है. 

Read Time: 4 min
लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के नेताओं पर IT का शिकंजा, एक साथ इतने नेताओं को दिल्ली किया तलब

Income Tax Departmnet Summon to Congress Leaders: लोकसभा चुनाव (Loksabha Election 2024) से ठीक पहले मध्य प्रदेश के कई कांग्रेसी (Congress) नेताओं को इनकम टैक्स डिपार्टमेंट (Income Tax Departmnet) ने सम्मन भेजा है. यह सम्मन इंडियन नेशनल कांग्रेस से संबंधित एक मामले के तहत भेजे गए हैं और नेताओं को दिल्ली बुलाया गया है. नियत दिनांक को पेश नहीं होने पर 10,000 का जुर्माना भरने की बात भी कही गई है. कांग्रेस नेताओं को लोकसभा चुनाव से ठीक पहले सम्मन भेजने को कांग्रेस नेता भारतीय जनता पार्टी (BJP) की दबाव की राजनीति बताते हुए मजबूती से लड़कर भाजपा के मंसूओं को नाकाम करने की बात कह रहे हैं.

दरअसल, मध्य प्रदेश यूथ कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और झाबुआ से कांग्रेस विधायक विक्रांत भूरिया को इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने एक सम्मन जारी किया है और उन्हें 21 फरवरी को दोपहर 12:00 बजे दिल्ली स्थित इनकम टैक्स विभाग के दफ्तर में उपस्थित होने को कहा गया है. समन में लिखा है कि अगर विक्रांत भूरिया जानबूझकर उपस्थित नहीं होते हैं, या फिर साक्ष्य देने या खाते के दस्तावेज पेश नहीं कर पाते हैं, तो उन पर 10,000 का जुर्माना लगाया जा सकता है. खास बात यह है कि यह एसेसमेंट ईयर 2020-21 का मामला बताया जा रहा है. हैरानी वाली बात यह है कि विक्रांत भूरिया इस मामले से अनजान हैं. उन्हें खुद नहीं पता कि यह क्या मामला है और किस लिए उन्हें इनकम टैक्स की ऱओ से बुलाया जा रहा है.

डट कर करेंगे मुकाबला

एनडीटीवी से बात करते हुए विक्रांत भूरिया ने बताया कि उनको और भिंड लोकसभा से कांग्रेस प्रत्याशी रहे देवाशीष जरारिया और कांग्रेस नेता मधु भगत को इनकम टैक्स विभाग ने सम्मन जारी कर बुलाया है. विक्रांत भूरिया ने आगे कहा कि मुझे खुद नहीं मालूम कि किस मामले के लिए बुलाया गया है. मुझे तो समझ ही नहीं आ रहा है कि जितने भी समन आए हैं. वह सब कांग्रेस नेताओं को ही क्यों आए हैं. लोकसभा चुनाव से ठीक पहले सम्मन जारी होना राजनीति से प्रेरित है. हमारे पास छुपाने के लिए कुछ भी नहीं है. न ही हम इस तरह के नोटिस से डरने वाले हैं. अगर बीजेपी सोचती है कि इस तरह के सम्मन भेजने से डर जाएंगे, तो वह गलत है.  हम बिल्कुल नहीं डरेंगे. जिस तरह से भाजपा के खिलाफ पूरे दमखम से लड़ाई लड़ रहे हैं, उसे आगे भी जारी रखेंगे.

इन नेताओं को मिला है नोटिस

वहीं, भिंड लोकसभा से कांग्रेस प्रत्याशी रहे देवाशीश जरारिया ने  सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर अपना वीडियो शेयर करते हुए लिखा कि केंद्र की मोदी सरकार, हम विपक्ष के कार्यकर्ताओं के खिलाफ ईडी, आईटी, सीबीआई जैसी संस्थाओं का दुरुपयोग कर रही है. मैं इनसे डर कर झुकने वाला नहीं हूं, इनकी प्रताड़ना के विरुद्ध आईटी अधिकारियों के विरुद्ध वापस लौट कर FIR दर्ज करवाऊंगा.

ये भी पढ़ें- वैलेंटाइन डे नहीं छत्तीसगढ़ में 14 फरवरी को मनाया जाएगा मातृ-पितृ पूजन दिवस, CM साय ने की घोषणा
 

नोटिस के समय पर नेता प्रतिपक्ष ने भी उठाए सवाल

कांग्रेस नेताओं को आयकर विभाग की ओर से मिलने वाले नोटिस को नेता प्रतिपक्ष उमंग सिंघार ने कांग्रेस के नेताओं को ब्लैकमेल करने की कोशिश करार दिया है. उन्होंने नोटिस के बाद कहा कि आज जानकारी क्यों मांगी जा रही है. 5 साल पहले क्यों नहीं मांगी गई. उन्होंने कहा कि यह दबाव बनाने की राजनीति हो रही है. 

शहीद सूबेदार अनिल वर्मा को नम आंखों से दी गई अंतिम विदाई, CM मोहन ने 11 लाख रुपये की सहायता देने का किया ऐलान

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
switch_to_dlm
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Close