विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Sep 25, 2023

21 साल बाद बच्ची को मिला न्याय, लापरवाही के लिए प्राइवेट अस्पताल पर लगा 85 लाख रुपए का जुर्माना

अस्पताल की लापरवाही के चलते बच्ची की आंखों की रोशनी चले जाने पर उपभोक्ता फोरम ने अस्पताल को दोषी पाया है, जिसके बाद फोरम ने अस्पताल पर 40 लाख का जुर्माना और 2004 से अभी तक का ब्जाज देने का जुर्माना लगाया.

Read Time: 5 mins
21 साल बाद बच्ची को मिला न्याय, लापरवाही के लिए प्राइवेट अस्पताल पर लगा 85 लाख रुपए का जुर्माना
वर्ष 2002 में अस्पताल की लापरवाही के चलते साक्षी की आंखों की रोशनी चली गई थी.
जबलपुर:

करीब 21 साल अपने हक की लड़ाई लड़ने के बाद आखिरकार निजी अस्पताल की लापरवाही के खिलाफ पीड़ित परिवार को कानूनी सफलता मिल गई है. जबलपुर के एक निजी अस्पताल में 21 साल पहले बच्ची की आंखों की रोशनी चले जाने पर उपभोक्ता फोरम (Consumer Forum) ने अस्पताल को दोषी पाया है. उपभोक्ता फोरम ने निजी अस्पताल के खिलाफ फैसला सुनाते हुए करीब 85 लाख का जुर्माना लगाया है. इस फैसले से पीड़ित परिवार का कहना है कि जुर्माने के पैसे से वह बच्ची का इलाज विदेश में कराएंगे.

दरअसल, 21 साल पहले कटनी में एक प्री मैच्योर नवजात बच्ची साक्षी का जन्म हुआ, उसे इलाज के लिए जबलपुर लाया गया जहां जरूरत से ज्यादा ऑक्सीजन देने से उसकी आंखों की रोशनी चली गई. यह सब बच्चों के अस्पताल आयुष्मान (Ayushman Hospital Jabalpur) में 21 साल पहले हुआ था.

आंखों की रोशनी जाने के बाद शैलेंद्र ने 2004 में उपभोक्ता फोरम में मामला दर्ज कराया था. 19 साल तक चली इस लड़ाई के बाद उपभोक्ता फोरम भोपाल ने साक्षी और उसके माता-पिता के पक्ष में फैसला सुनाया है.

उपभोक्ता फोरम ने अस्पताल को पाया दोषी

उपभोक्ता फोरम को साक्षी के पिता शैलेंद्र जैन की ओर से बताया गया कि बच्ची को रेटिनोपैथी ऑफ प्रीमेच्योरिटी है. यह इंक्यूबेटर में ऑक्सीजन के अत्यधिक डोज के कारण हुआ है. जो कि अस्पताल की लापरवाही से हुआ है. जिस पर आरोप सही पाते हुए फोरम ने कहा कि अस्पताल और डॉक्टर की लापरवाही के कारण बच्ची के आंखों की रोशनी हमेशा के लिए चली गई. उसके जीवन पर कठिन प्रभाव पड़ने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है, इसलिए आयुष्मान अस्पताल और डॉक्टर मुकेश खरे को 85 लाख रुपए हर्जाना देना होगा.

साक्षी अब 21 वर्ष की हो गई हैं, वे हारमोनियम बजा कर गाने भी गाती हैं.

साक्षी अब 21 वर्ष की हो गई हैं, वे हारमोनियम बजा कर गाने भी गाती हैं.

ये भी पढ़ें - कंघी चुराकर होता है प्यार का इजहार... माड़िया जनजाति की 'घोटुल' प्रथा, शादी का अनोखा तरीका

कैसे गई साक्षी के आंखों की रोशनी

वर्ष 2002 में प्राइवेट जॉब करने वाले शैलेंद्र जैन के यहां बेटी ने जन्म लिया था. बच्ची का वजह 1500 ग्राम से भी कम था और वह प्री मैच्योर थी. डॉक्टरों की सलाह पर उसे जबलपुर में चाइल्ड स्पेशलिस्ट मुकेश खरे (Child Specialist Doctor Mukesh Khare) के पास लाया गया. जिन्होंने उसे आयुष्मान अस्पताल में भर्ती करा दिया था. जहां वो 36 दिन में वह स्वस्थ हो गईं थी, लेकिन इस दौरान उनकी आंखों की रोशनी चली गई. साक्षी अब 21 वर्ष की हो गई हैं. वह हारमोनियम बजा कर गाने भी गाती हैं.

जांच कराने से पता चली अस्पताल की लापरवाही

पिता शैलेंद्र जैन ने पेपर में पढ़ा कि ज्यादा ऑक्सीजन से आंखों में असर पड़ता है. इसके बाद जब उन्होंने साक्षी की जांच कराई तो पता चला कि उसकी आंखों की रोशनी उसे तय मानक से ज्यादा ऑक्सीजन देने और समय पर इलाज ना मिलने से चली गई है. इसके बाद साक्षी के माता-पिता ने इलाज के लिए उसे देश के नामी नेत्र विशेषज्ञों को दिखाया लेकिन हर जगह से निराशा हाथ लगी. जिसके बाद माता-पिता ने इलाज में हुई लापरवाही के लिए दोषी अस्पताल के खिलाफ कानूनी लड़ाई लड़ने का मन बनाया.

19 साल तक चली कानूनी लड़ाई

आंखों की रोशनी जाने के बाद शैलेंद्र ने 2004 में उपभोक्ता फोरम में मामला दर्ज कराया था. 19 साल तक चली इस लड़ाई के बाद उपभोक्ता फोरम भोपाल ने साक्षी और उसके माता-पिता के पक्ष में फैसला सुनाया है. फोरम ने डॉ मुकेश खरे और आयुष्मान अस्पताल को 40 लाख रुपए क्षतिपूर्ति और साल 2004 से वर्तमान तक का ब्याज भुगतान करने के आदेश दिए हैं, जो कि करीब 85 लाख रुपए होते हैं.

ये भी पढ़ें - मेरे प्रेमी को जेल भेजो... SP ऑफिस के सामने महिला ने लगाई फरियाद और काट लिया अपना हाथ

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Weather: MP में आज भारी बारिश, IMD का अलर्ट; जानें बिजली गिरे तो कैसे करें खुद का बचाव?
21 साल बाद बच्ची को मिला न्याय, लापरवाही के लिए प्राइवेट अस्पताल पर लगा 85 लाख रुपए का जुर्माना
Jyotiraditya Scindia took a dig at Rahul Gandhi, saying- The parties which did not open their account in 13 states, they are...
Next Article
ज्योतिरादित्य सिंधिया ने राहुल गांधी पर किया कटाक्ष, बोले-जिन पार्टियों का 13 राज्यों में खाता नहीं खुला, वो...
Close
;