विज्ञापन
Story ProgressBack

Jagannath Rath Yatra: कांकेर में भगवान जगन्नाथ टेंट में होंगे विराजमान, 92 साल में ऐसा होगा पहली बार

Jagannath Rath Yatra: कांकेर में भगवान जगन्नाथ के मंदिर की स्थापना सन 1932 में कांकेर राजा द्वारा की गई थी. तब से अब तक प्रतिवर्ष राजापारा के श्री जगन्नाथ स्वामी मंदिर (Jagannath Mandir) से महाप्रभु की रथ यात्रा निकली जा रही है. इस वर्ष भी भगावन की रथ यात्रा की तैयारियां भी जोरो पर है. यात्रा दोपहर 3 बजे राजपरिवार के सदस्यों के पूजा अर्चना के बाद विधिवत निकाली जाएगी.

Read Time: 4 mins
Jagannath Rath Yatra: कांकेर में भगवान जगन्नाथ टेंट में होंगे विराजमान, 92 साल में ऐसा होगा पहली बार

Jagannath Rath Yatra 2024: अयोध्या (Ayodhya) में भगवान राम (Bhagwan Ram) ने 500 वर्ष टेंट में बिताये थे. लम्बे इंतजार के बाद वो घड़ी भी आई जब भगवान राम भव्य मंदिर (Ram Mandir Ayodhya) में विराजमान हुए. इस साल भगवान राम को उनका मंदिर तो मिल गया, लेकिन कांकेर में महाप्रभु जगन्नाथ (Mahaprabhu Shree Jagannatha) को उनके गुंडिचा मंदिर में स्थान नहीं मिल रहा है. कांकेर के 92 साल के इतिहास में ऐसा पहली बार होगा जब भगवान जगन्नाथ (Bhagwan Jagannatha) टेंट में विराजमान होंगे. 3 साल मंदिर के स्टोर रूम में बिताने के बाद महाप्रभु (Mahaprabhu Jagannatha) कल से टेंट में भक्तों के दर्शन देंगे. कल महाप्रभु भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा (Jagannath Rath Yatra) है. कांकेर में भगवान जगन्नाथ के मंदिर की स्थापना सन 1932 में कांकेर राजा द्वारा की गई थी. तब से अब तक प्रतिवर्ष राजापारा के श्री जगन्नाथ स्वामी मंदिर (Jagannath Mandir) से महाप्रभु की रथ यात्रा निकली जा रही है. इस वर्ष भी भगावन की रथ यात्रा की तैयारियां भी जोरो पर है. यात्रा दोपहर 3 बजे राजपरिवार के सदस्यों के पूजा अर्चना के बाद विधिवत निकाली जाएगी.

मंदिर समिति का क्या कहना है?

मंदिर समिति के अध्यक्ष श्रवण चौहान का कहना है कि जनकपुर वार्ड का गुंडिचा मंदिर जहाँ भगावन रथ में सवार होकर पहुंचते हैं, वह जर्जर हो चुका है. कई बार प्रशासन से मांग की गई कि मंदिर का जीर्णोद्धार कराया जाए. लेकिन प्रशासनिक उदासीनता के चलते अब तक मंदिर नहीं बन पाया है. जिसके कारण भगावन को टेंट में दिन गुजरना पड़ेगा.

3 साल स्टोर रूप में बिताने बड़े दिन

वर्ष 2020 में कोरोना ने हाहाकार मचा रखा था. लोग संक्रमण के शिकार हो रहे थे. देश थम गया था. लेकिन परंपरा नहीं तोड़ी गई. भगावन को उनके गर्भगृह से निकाल कर रथ में सवार कर पुनः उन्हें मंदिर के स्टोर में स्थान दिया गया. कोरोना काल बीत गया, लेकिन तीसरे वर्ष भी भगवान अपनी मौसी के घर नहीं पहुंचे. इस दौरान भी उन्होंने स्टोर रूम में स्थान दिया गया था.

92 वर्ष के इतिहास में ऐसा पहली बार

मंदिर की स्थापना सन 1932 में कई गई. भगवान तब से अब तक अपने मंदिर में विराजमान हुए है. लेकिन 92 साल के इतिहास में ऐसा पहली बार है जब भगवान को अपने 10 दिन टेंट में गुजरने पड़ेंगे. मंदिर समिति के सदस्य श्रवण चौहान बताते है कि गुंडिचा मंदिर जर्जर हो चुका है. जनकपुर वार्ड के लोगों की इच्छा है कि भगवान 3 सालों से मंदिर नहीं आ रहे हैं. इसलिए उन्होंने वार्डवासियों के साथ मिलकर अस्थाई टेंट तैयार किया है. जहां भगवान विश्राम करेंगे. जनकपुर वार्डवासियों का कहना है कि हर वर्ष भगवान उनके वार्ड में 10 दिनों के लिए पहुंचते थे. 3 वर्ष से भगवान नहीं पहुंच रहे है. मंदिर जर्जर होने के कारण वार्डवासियों के सहयोग से टेंट तैयार किया गया है. जहां भगवान की 10 दिन वह सेवा करेंगे.

यह भी पढ़ें : Jagannath Yatra 2024: जगन्नाथ यात्रा कब होगी शुरू, क्या है इसका इतिहास व महत्व जानिए सब कुछ यहां

यह भी पढ़ें : Baloda Bazar में बड़ा एक्शन, दुकानों-होटलों में मिली अमानक खाद्य सामग्री, Food डिपार्टमेंट से नोटिस जारी

यह भी पढ़ें : Gupt Navratri 2024: आषाढ़ गुप्त नवरात्री शुरु, पंडित जी से जानिए क्या है महत्व, इस बार 10 दिन होगी पूजा

यह भी पढ़ें : MPPSC Topper: वन सेवा परीक्षा में टॉप कर रीवा के शुभम शर्मा रेंजर के बाद एसीएफ के पद पर चयनित

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Chhattisgarh: नकली मिठाइयों के साथ होटलों में परोसा जा रहा जहर... खाद एवं औषधि विभाग की छापेमारी से बाजार में मचा हड़कंप
Jagannath Rath Yatra: कांकेर में भगवान जगन्नाथ टेंट में होंगे विराजमान, 92 साल में ऐसा होगा पहली बार
Sahara India Case Former regional manager arrested from Bilaspur in Sahara fraud case know what is the matter
Next Article
Sahara India Case: सहारा फ्रॉड मामले में पूर्व रीजनल मैनेजर बिलासपुर से गिरफ्तार, जानिए क्या है मामला
Close
;