विज्ञापन
Story ProgressBack

अस्थियों से छान रहे हैं गोलियां... जानिए आखिर ये क्यों हो रहा

Crime: श्मशान घाट में पुलिस की मौजूदगी में यह लोग अस्थियां नहीं चुन रहे हैं, चुन रहे हैं बंदूक से निकली गोलियां. जो मृतक के शरीर पर घुसी थी. जी, हां यह सच है रीवा के जनकाहाई गोली कांड का. जानें ऐसा क्यों किया जा रहा?

Read Time: 4 mins
अस्थियों से छान रहे हैं गोलियां... जानिए आखिर ये क्यों हो रहा
रीवा जनकाहाई गोली कांड: पुलिस की मौजूदगी में यह लोग अस्थियां नहीं चुन रहे हैं, चुन रहे हैं बंदूक से निकली गोलियां..

Rewa Crime News : पिछले दिनों MP के रीवा (Rewa) जिले के जवा थाना (Jawa Thana)  अंतर्गत जनकाहाई गांव में ट्रैक्टर चलाने को लेकर विवाद हो गया.इतनी मामूली विवाद में गोली मारकर एक व्यक्ति की हत्या कर दी गई थी. मृतक का पोस्टमार्टम हुआ, पोस्टमार्टम में गोली नहीं निकली. इस बात की जानकारी पुलिस ने, परिजनों को दी. पुलिस (Police)  अब परिजनों की अनुमति लेकर श्मशान घाट में अस्थियों में से में गोली खोजने का काम कर रही है, ताकि मुकदमे के दौरान उसे साक्ष्य के तौर पर प्रस्तुत किया जा सके. पूरे देश में जिस दिन लोकसभा चुनाव की मतगणना होनी थी, ठीक उसी रात जवा थाना क्षेत्र के जनकहाई गांव में रेत माफिया और ड्राइवर के परिवार वालों में विवाद हो रहा था.इसके बाद एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या कर दी गई. हत्या के बाद आरोपी फरार हो गए थे, जिन्हें पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.


जानें क्यों हुआ था विवाद?

गिरफ्तारी की जानकारी देते हुए रीवा (Rewa) के पुलिस कप्तान विवेक सिंह ने बताया कि मृतक राम शिरोमणि मांझी का लड़का गांव के ही पटेल परिवार के यहां ट्रैक्टर चलाता था. रात में ट्रैक्टर चलाने को लेकर हुए विवाद के बाद मृतक के लड़के के साथ मारपीट की गई. विवाद की सूचना उसके परिजनों को मिली, तो दोनों पक्षों के बीच विवाद हो गया. देखते-देखते मारपीट की स्थिति निर्मित हो गई. विवाद के बीच एक व्यक्ति ने गोली चला दी. उसके बाद शरीर के अंदर गोलियां धंसी हुई थीं.

गोली राम शिरोमणि माझी के सीने में जा लगी. पूरे मामले में पुलिस ने दिलीप पटेल और रिंकू पटेल को गिरफ्तार किया है, जबकि आरोपी अनिल पटेल चोटिल है, जिसका इलाज किया जा रहा है. गोली पोस्टमार्टम के दौरान निकाल ली जाती है. लेकिन गोली शरीर के अंदर धसी हुई थी तो नहीं निकल पाई. जिसके बाद अस्थियों से गोली चुनी जारी रही..

 गोली राम शिरोमणि माझी के सीने में जा लगी. पूरे मामले में पुलिस ने दिलीप पटेल और रिंकू पटेल को गिरफ्तार किया है, जबकि आरोपी अनिल पटेल चोटिल है, जिसका इलाज किया जा रहा है. गोली पोस्टमार्टम के दौरान निकाल ली जाती है. लेकिन गोली शरीर के अंदर धसी हुई थी. इसलिए अब मृतक के परिजन की अनुमति से मृतक के अंतिम संस्कार के बाद उसकी अस्थियों में से गोली खोजने का काम किया जाएगा.

ये भी पढ़ें- MP News: विकसित भारत-विकसित मध्यप्रदेश में आप भी दे सकते हैं योगदान, इस तारीख तक यहां भेजे सुझाव

रेत ढोने के लिए कहा पर..

वहीं, दूसरी और मृतक के लड़के रामलाल केवट ने बताया कि मुझे रात में रेत ढोने के लिए कहा था, पर मेरी मां की तबीयत खराब होने के कारण, मैंने रात में रेत ढोने से मना कर दिया. फिर जब घर की ओर चला जा रहा था. तब मुझे बुलाया और कमरे में ले जाकर मारपीट करने लगे. मैं जान बचाकर वहां से भाग गया. 

रास्ते में मेरे भाई मिल गये. उनके साथ मैं घर आकर सभी बातें अपने पिता को बताया, तो मेरे पिता ने फोन लगाकर उनसे कहा कि मेरे लड़के को क्यों मारा. तो मेरे पिता को गाली-गलौज करते हुए कहा कि रुक तुझे आकर बताता हूं. फिर आधे घंटे बाद अपने साथियों के साथ मेरे घर आकर मारपीट करने लगे.
रीवा जनकाहाई गोली कांड: अस्थियों से छान रहे हैं गोलियां...

रीवा जनकाहाई गोली कांड: अस्थियों से छान रहे हैं गोलियां...

इसके दौरान अनिल सिंह ने मेरे पिता को गोली मर दी. एक छोटे बच्चे की मानें तो गोली तीन लोगों ने चलाने का प्रयास किया था. पहले दो प्रयास में गोली नहीं चली, लेकिन तीसरे प्रयास में गोली चल गई और एक की मौत हो गई.

ये भी पढ़ें- MP : पुलिस के हत्थे चढ़ी भोपाल की 'ड्रीम गर्ल', लड़की की आवाज निकालकर लोगों से खूब की ठगी 

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
प्रचंड गर्मी में बारिश की फुहार! मध्य प्रदेश-छत्तीसगढ़ ने ली राहत की सांस...
अस्थियों से छान रहे हैं गोलियां... जानिए आखिर ये क्यों हो रहा
Tribal Students Shine in NEET Overcoming Odds to Achieve Success
Next Article
आदिवासी समाज के 26 बच्चों ने किया कमाल, NEET की परीक्षा में मारी बाजी
Close
;