विज्ञापन
Story ProgressBack

MP में एक नर्सिंग कॉलेज ऐसा भी, चार कमरे की दुकान में स्वास्थ्य शिक्षा के नाम पर भविष्य से किया जा रहा खिलवाड़

Nursing Scam: एनडीटीवी ने बीते दिन अपनी पड़ताल में नर्सिंग कॉलेज (Nursing Scam) में हो रहे फर्जीवाड़े को लेकर बड़ा खुलासा किया था. जिसके बाद इस फर्जीवाड़े से जुड़े गैंग पर हड़कंप मच गया. अब नियमों को ताक पर रखकर एक ऐसा ही नर्सिंग कॉलेज सीधी में संचालित है. ये कॉलेज सीधी जिला मुख्यालय से करीब 80 किलोमीटर दूर कुसमी विकासखंड में खुला है. पढ़ें इस कागजी नर्सिंग कॉलेज का पूरा सच.

Read Time: 3 mins
MP में एक नर्सिंग कॉलेज ऐसा भी, चार कमरे की दुकान में स्वास्थ्य शिक्षा के नाम पर भविष्य से किया जा रहा खिलवाड़
सीधी में चार कमरे की दुकान में संचालित है ये नर्सिंग कॉलेज.

MP Nursing College Scam: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में नर्सिंग कॉलेज से जुड़े फर्जीवाड़े (Nursing Scam) की पोल हर दिन परत दर परत खुल रही है. अभी हाल ही में एनडीटीवी ने नर्सिंग कॉलेज से जुड़े फर्जीवाड़े को लेकर बड़ी खबरें ब्रेक की थी. इस फर्जीवाड़े की वजह से प्रदेश के 375 नर्सिंग कॉलेजों (Nursing College) के करीब  एक लाख स्टूडेंट्स पिछले 4 साल से परीक्षा का इंतजार कर रहे थे, अब जाकर परीक्षा शुरू हुई, लेकिन उसमें भी जिन 139 कॉलेजों को फर्जी बताया गया. उनमें पढ़ने वाले 12,000 छात्रों का भविष्य अधर में लटका हुआ है. 

छात्राओं का परीक्षा केंद्र रीवा में

नर्सिंग कॉलेज के नॉर्म्स को ताक पर रख कर एक ऐसा ही नर्सिंग कॉलेज एमपी के सीधी में संचालित है. यहां जिला मुख्यालय से करीब 80 किलोमीटर दूर कुसमी विकासखंड में एक ऐसा कॉलेज संचालित है, जिसे देखकर आश्चर्य होता है. चार कमरे की दुकान के भवन में सीधी कॉलेज ऑफ नर्सिंग संचालित किया जा रहा है. वर्ष 2021-22  में  मान्यता मिलने के बाद यह खेल जारी है. कॉलेज में अध्ययनरत छत्राओं का परीक्षा केंद्र रीवा में बनाया गया है. जहां इन दिनों परीक्षा चल रही है.

जानें कैसे मिलती थी नर्सिंग कॉलेज की मान्यता

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार एक नर्सिंग कॉलेज को पात्र बनाने के नाम पर बड़ी रकम वसूली जाती थी. आरोपी 2-10 लाख रुपये की मांग करते थे. जांच में ये भी पता चला है कि वसूली का गिरोह सीबीआई इंस्पेक्टर राहुल राज ही चला रहा था, उसने अलग-अलग जिलों में टीम बना रखी थी. जिस कॉलेज से सौदा तय होता था, उनके यहां निरीक्षण का समय और दिन पहले ही बता दिया जाता था.

कॉलेज की बिल्डिंग में आधे में मकान मालिक रहते हैं

नियम के मुताबिक नर्सिंग कॉलेज के पास खुद का एक अस्पताल होना चाहिए या फिर 50 किलोमीटर के आसपास 100 बिस्तर से अधिक का अस्पताल होना चाहिए. जहां अध्ययनरत छात्राएं जाकर मेडिकल से जुड़े कार्यों को सीख सकें. लेकिन सीधी में ऐसी कोई व्यवस्था नजर नहीं आती है. सीधी जिला मुख्यालय से  80 किलोमीटर दूर होने के बाद भी नियम विरुद्ध तरीके से नर्सिंग कॉलेज संचालित है. भवन के लिए भी जो मापदंड तय किए गए हैं, वह किसी तरह से पूरा होते नहीं दिख रहा है. एक भवन में आधे में मकान मालिक रहते हैं और चार कमरे में बोर्ड लगाकर नर्सिंग कॉलेज चलना दिखाया जा रहा है. अधिकांश समय कागजी कॉलेज का ताला बंद रहता है.

ये भी पढ़ें- सावधान! मौत की घंटी बन रही पानी की टंकी... दहशत के साए में रहते हैं यहां के रहवासी

ये है नियम

पुराना नियम था कि कॉलेज 23,000 वर्ग फीट में हो, नया कॉलेज अब 8000 वर्ग फीट में भी संचालित हो सकता है. पुराना नियम कहता है कि असिस्टेंट प्रोफेसर एवं शिक्षक - प्रति 10 छात्र पर एक हो, नए नियम में असिस्टेंट प्रोफेसर एवं शिक्षक- प्रति 20 छात्र पर एक कर दिया गया. पुराना नियम - नर्सिंग लैब के लिए 1500 वर्ग मीटर की जगह हो, जबकि नए में इसे 900 वर्ग मीटर कर दिया गया.

ये भी पढ़ें- गिरफ्त में "पुलिस"! छाछ-आम जैसे कोडवर्ड, 2 से 10 लाख में मान्यता का सौदा, देखिए NDTV नर्सिंग कॉलेज पड़ताल

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
नशे में धुत युवती ने सड़क पर किया हंगामा... खुद पुलिस भी रह गई हैरान
MP में एक नर्सिंग कॉलेज ऐसा भी, चार कमरे की दुकान में स्वास्थ्य शिक्षा के नाम पर भविष्य से किया जा रहा खिलवाड़
Farmers block road in Ashoknagar due to non availability of DAP fertilizer
Next Article
'मामा' बने कृषि मंत्री, पर MP के किसानों को नहीं मिल रही DAP, ऐसे में कैसे होगी बुआई?
Close
;