विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Dec 25, 2023

Mohan Yadav Cabinet: निमाड़ को फिर मिला सरकार में प्रतिनिधित्व, कुंवर विजय शाह छठी बार बने मंत्री 

विजय शाह की पत्नी का नाम भावना शाह हैं. भावना शाह भी एक कुशल राजनेता हैं. वह खंडवा से महापौर पद पर रह चुकी हैं. विजय शाह की पत्नी देवास जिले के बागली के रहने वाली हैं. दोनों का एक बेटा है जिनका नाम  दिव्यादित्य शाह हैं. दिव्यादित्य शाह मौजूदा समय में जिला पंचायत में उपाध्यक्ष हैं. बता दें कि विजय शाह को तैराकी, ट्रेकिंग, घुड़सवारी, पर्यटन और दर्शनीय स्थलों की सैर करने में विशेष रुचि है. 

Mohan Yadav Cabinet: निमाड़ को फिर मिला सरकार में प्रतिनिधित्व, कुंवर विजय शाह छठी बार बने मंत्री 
Mohan Yadav Cabinet: निमाड़ को फिर मिला सरकार में प्रतिनिधित्व, कुंवर विजय शाह छठी बार बने मंत्री

Mohan Yadav Cabinet: मध्य प्रदेश में सोमवार को मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव के मंत्रिमंडल का विस्तार हुआ. सोमवार को कुल 28 विधायकों को मंत्रिमंडल की शपथ दिलाई गई. वहीं, मंत्रिमंडल के 17 मंत्री ऐसे हैं जिन्होंने पहली बार मंत्री पद की शपथ ली. मंत्रिमंडल विस्तार में कुल 18 विधायकों को कैबिनेट मंत्री बनाया गया है. जबकि 6 को स्वतंत्र प्रभार राज्य मंत्री और 4 को राज्य मंत्री का पद सौंपा गया है. मंत्रिमंडल में कुंवर विजय शाह को भी कैबिनेट मंत्री बनाया गया है. कुंवर विजय शाह हरसूद के विधायक हैं और मध्यप्रदेश की BJP सरकार में कैबिनेट मंत्री हैं. 

कैबिनेट मंत्री विजय शाह को जानिए 

विजय शाह खंडवा जिले की हरसूद विधानसभा सीट से कई बार चुनाव लड़ चुके हैं. वह लगातार आठवीं बार जीत हासिल करके विधानसभा पहुंचे हैं. विजय शाह सरकार में चार बार मंत्री पद पर रह चुके हैं. इस बार उन्हें छठवीं बार मंत्री बनाया गया है. ऐसे में एक बार फिर मध्य प्रदेश के निमाड़ क्षेत्र को प्रतिनिधित्व मिल गया है. बता दें कि विजय शाह साल 2003 में सबसे पहले उमा भारती की सरकार के समय मंत्री बने थे. उसके बाद से उन्हें लगातार अलग-अलग मंत्रालय में काम करने के मौके मिलते रहे. इसमें आदिम जाति और वन मंत्रालय प्रमुख है. 

ये भी पढ़ें - MP News: मोहन कैबिनेट का पहला मंत्रिमंडल विस्तार आज, 28 मंत्रियों के शपथ लेने की है संभावना

विजय शाह की पत्नी का नाम भावना शाह हैं. भावना शाह भी एक कुशल राजनेता हैं. वह खंडवा से महापौर पद पर रह चुकी हैं. विजय शाह की पत्नी देवास जिले के बागली के रहने वाली हैं. दोनों का एक बेटा है जिनका नाम दिव्यादित्य शाह हैं. दिव्यादित्य शाह मौजूदा समय में जिला पंचायत में उपाध्यक्ष हैं. बता दें कि विजय शाह को तैराकी, ट्रेकिंग, घुड़सवारी, पर्यटन और दर्शनीय स्थलों की सैर करने में विशेष रुचि है. 

Latest and Breaking News on NDTV

राजनीतिक घटनाक्रम 

• साल 1990 

विजय शाह खंडवा जिले के हरसूद विधानसभा से भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर विधानसभा के लिए चुने गए थे. 

• साल1993 

विधानसभा के चुनाव में विजय शाह ने हरसूद विधानसभा से भारी मतों से एक बार फिर जीत हासिल की. 

• साल 1998 

कुंवर विजय शाह तीसरी बारविधान सभा के लिए चुने गए थे. 

• साल 2003 

विधानसभा चुनाव के निर्वाचन में विजय शाह हरसूद से चौथी बार विधायक चुने गए फिर संस्कृति मंत्री बने. 

• साल 2008 

विजय शाह हरसूद से 5वीं बार विधान सभा के लिए चुने गए और शिवराज सिंह चौहान की मंत्रिपरिषद में आदिम जाति मंत्री बने. 

• साल 2013 

हरसूद निर्वाचन क्षेत्र से विधानसभा के लिए छठवीं बार चुने गए और कैबिनेट में खाद्य मंत्री के रूप में शपथ ली. 

• साल 2018

विजय शाह हरसूद निर्वाचन क्षेत्र से विधानसभा के लिए सातवीं बार चुने गए लेकिन जब कांग्रेस की सरकार बनी तब वह विपक्ष की भूमिका में रहे. कमलनाथ की सरकार गिरने के बाद एक फिर उन्हें शिवराज सरकार में मंत्री बनने का मौका मिला और कैबिनेट वन मंत्री के रूप में शपथ ली. 

ये भी पढ़ें - Chhattisgarh: पीएम मोदी की पहली गारंटी आज होगी पूरी, किसानों के खाते में ट्रांसफर किए जाएंगे 3716 करोड़ रुपए

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
बिना जानकारी दिए बहू की लाश को फूंक रहे थे ससुराल वाले, सूचना मिलते ही परिजन चिता से खींच लाए शव
Mohan Yadav Cabinet: निमाड़ को फिर मिला सरकार में प्रतिनिधित्व, कुंवर विजय शाह छठी बार बने मंत्री 
Plea of ​​the poor farmer was heard recognition of this school was cancelled in the case related to NCERT book and private publication book
Next Article
MP News: सुन ली गई गरीब किसान की गुहार! NCERT Book से जुड़े मामले में इस स्कूल की मान्यता कर दी गई निरस्त
Close
;