विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jan 16, 2024

शिवपुरी: 3 महीने में 68 नवजात शिशुओं ने तोड़ा दम, सवालों के घेरे में सरकार के SNCU वार्ड

बीते 3 महीनों की बात करें तो शिवपुरी में 68 बच्चों को तमाम इंतजाम होने के बावजूद भी बचाया नहीं जा सका, जो कहीं ना कहीं इस तरह की यूनिट और शासन के दावों की कलई खोलता हुआ नजर आता है.

शिवपुरी: 3 महीने में 68 नवजात शिशुओं ने तोड़ा दम, सवालों के घेरे में सरकार के SNCU वार्ड
सवालों के घेरे में सरकार के SNCU वार्ड

Shivpuri News: मध्य प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग (MP Health Department) ने लगभग हर जिले में SNCU WARD (नवजात शिशु गहन चिकित्सा इकाई) नवजात शिशु को बचाने के लिए एक अलग से यूनिट तैयार की है. खासतौर से उन बच्चों को बचाने के लिए जो समय से पहले जन्म ले लेते हैं. लेकिन आज ये यूनिट सवालों के घेरे में है क्योंकि अब तक 12 प्रतिशत से ज्यादा की मृत्यु दर सामने आ रही है. अकेले शिवपुरी (Shivpuri) जिले की बात करें तो जिला अस्पताल (District Hospital) में मौजूद SNCU वार्ड में पिछले 3 महीने में 68 बच्चों ने दम तोड़ दिया.

एनडीटीवी की टीम ने SNCU वार्ड में जाकर न केवल वार्ड का जायजा लिया बल्कि यहां बच्चों को मिलने वाले इलाज के संबंध में चिकित्सकों से जानकारी जुटाकर यह जानने की कोशिश भी की कि चिकित्सक किस तरह से काम करते हुए बच्चों की मृत्यु दर को कम करने का प्रयास कर रहे हैं. लेकिन जो आंकड़े सामने आए वे साफ तौर पर चौंकाने वाले हैं क्योंकि अकेले शिवपुरी जिले की इस SNCU वार्ड में भर्ती नवजात बच्चों की मृत्यु दर लगभग 12 प्रतिशत के आसपास दिखाई दी जो बरसों पहले हुआ करती थी. 

यह भी पढ़ें : रामलला प्राण प्रतिष्ठा : अयोध्या में जलाई गई 108 फुट लंबी अगरबत्ती, 50 किमी दूर तक फैलेगी सुगंध

पिछले 3 महीने में 68 बच्चों की मौत

बीते 3 महीनों की बात करें तो 68 बच्चों को तमाम इंतजाम होने के बावजूद भी बचाया नहीं जा सका, जो कहीं ना कहीं इस तरह की यूनिट और शासन के दावों की कलई खोलता हुआ नजर आता है. एसएनसीयू वार्ड के इंचार्ज डॉक्टर मंगल ने एनडीटीवी से बात करते हुए जानकारी दी कि पिछले 3 महीने में 68 बच्चों की मृत्यु हुई है. उन्होंने बताया कि अगर अक्टूबर की बात करें तो 17 बच्चों ने दम तोड़ा, नवंबर में 31 बच्चों ने दम तोड़ा और दिसंबर खत्म होते-होते 20 बच्चे संसार देखने से पहले ही चले गए.

यह भी पढ़ें : MP हाई कोर्ट की टिप्पणी : शादी नहीं निभाना, शारीरिक संबंध से इनकार करना मानसिक क्रूरता के समान

नवजात शिशुओं की मृत्यु दर के आंकड़े में कोई सुधार नहीं

SNCU वार्ड संचालित करने के लिए सरकार लाखों रुपए खर्च करती है न केवल यहां मौजूद संसाधनों के ऊपर बल्कि 24 घंटे निगरानी के लिए लंबा चौड़ा स्टाफ भी रखा जाता है. सरकार दावे करती है कि उसने नवजात शिशुओं की खासतौर से उन बच्चों की मृत्यु दर पर लगाम लगाने में कामयाबी हासिल की है जो समय से पहले जन्म लेते हैं लेकिन शिवपुरी का आंकड़ा बताता है कि सरकार के दावों में कितनी सच्चाई है. आज से कुछ साल पहले की बात करें तब भी समय से पहले जन्मे बच्चों की मृत्यु दर का आंकड़ा 12 से 20 प्रतिशत के बीच में था और आज भी यह आंकड़ा 12 प्रतिशत के आसपास दर्ज किया जाता है. लगभग 68 बच्चे 3 महीने में दम तोड़ देते हैं लेकिन चिकित्सक इसे सामान्य बताते हैं.

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
MP Accident News: तेज रफ्तार पिकअप ने मारी वैगनार को टक्कर, पति-पत्नी की मौत...परिजनों में मचा कोहराम
शिवपुरी: 3 महीने में 68 नवजात शिशुओं ने तोड़ा दम, सवालों के घेरे में सरकार के SNCU वार्ड
sagar The smoke and chemicals emanating from the factory made life difficult for the villagers, they are forced to migrate.
Next Article
फैक्ट्री से निकलने वाले धुंए और रसायनों ने गांव वालों का किया जीना मुहाल, पलायन करने को हो रहे हैं मजबूर
Close
;