विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Dec 17, 2023

Sidhi: काश रोज ऐसा ही रहता हॉस्पिटल! निरीक्षण टीम पहुंची तो एक दिन के लिए 'सज गया' अस्पताल

अस्पताल से निकलने वाले बायोमेडिकल वेस्ट के लिए कायाकल्प टीम की ओर से कड़ी हिदायत देते हुए कहा गया कि जो मेडिकल वेस्ट निकलता है उसे निश्चित स्थान पर नियमानुसार रखा जाए. इधर-उधर या नालियों में कतई ना फेंका जाए.

Sidhi: काश रोज ऐसा ही रहता हॉस्पिटल! निरीक्षण टीम पहुंची तो एक दिन के लिए 'सज गया' अस्पताल
सीधी जिला अस्पताल का निरीक्षण करने भोपाल से पहुंची टीम

Sidhi Government Hospital: कायाकल्प अभियान के तहत जिला चिकित्सालय सीधी (District Hospital Sidhi) का निरीक्षण करने के लिए भोपाल (Bhopal) से गठित होकर एक टीम सीधी पहुंची, जहां निरीक्षण में पाया गया कि अस्पताल में साफ-सफाई सहित अन्य व्यवस्थाएं बदली-बदली नजर आ रही थीं. लोगों ने कहा कि काश हर रोज अस्पताल की ऐसी ही व्यवस्था रहती तो आधे मरीज अपने आप ठीक हो जाते और उन्हें समय पर स्वास्थ्य लाभ मिल जाता.

अस्पताल में दिखी दिखावे की झलक

जिला अस्पताल में एक दिन के दिखावे के लिए ऐसा इंतजाम किया गया जबकि वास्तविकता यह है कि सीधी जिला अस्पताल समस्याओं से खुद जूझ रहा है. चिकित्सकों की कमी से लेकर आवश्यक उपकरण उपलब्ध न होने के कारण मरीजों को भी आवश्यक स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं. यह बात किसी से छिपी नहीं है. आए दिन मरीजों के साथ सुविधा के नाम पर दुर्व्यवहार किया जाता है. इसके अलावा भर्ती प्रक्रिया सहित अन्य कार्य भी काफी कठिन बनाकर रख दिए गए हैं. जरूरत ना होने पर भी मरीजों को रीवा रेफर कर दिया जाता है.

Latest and Breaking News on NDTV

यह भी पढ़ें : MP में दिख रहा CM के आदेश का असर, लोगों ने धार्मिक संस्थाओं से खुद उतारे लाउड स्पीकर

टीम की रिपोर्ट पर मिलती है रैंक

कायाकल्प टीम मुख्य रूप से स्वच्छता पर नजर रखती है और इसी टीम की रिपोर्ट पर प्रदेश में अस्पतालों को रैंक दी जाती है. इसी कारण कायाकल्प टीम के आने की जानकारी मिलते ही अस्पताल को सजाया गया. बाहरी परिसर को साफ स्वच्छ रखा गया, सामने खड़े वाहनों को भी एक दिन के लिए बाहर हटा दिया गया. गमले रख दिए गए थे ताकि माना जाए कि अस्पताल की व्यवस्था बेहतर रहती है. सफाईकर्मी भी जगह-जगह झाड़ू-पोछा करते नजर आ रहे थे लेकिन यह व्यवस्था सिर्फ एक दिन की रही. आने वाले कल से वही पुरानी व्यवस्था फिर से दिखने लगेगी.

बायो मेडिकल वेस्ट के लिए दी हिदायत

अस्पताल से निकलने वाले बायोमेडिकल वेस्ट के लिए कायाकल्प टीम की ओर से कड़ी हिदायत देते हुए कहा गया कि जो मेडिकल वेस्ट निकलता है उसे निश्चित स्थान पर नियमानुसार रखा जाए. इधर-उधर या नालियों में कतई ना फेंका जाए. देखने को मिलता है कि इस कार्य में काफी लापरवाही बरती जाती है, जो ठीक नहीं है.

कई वार्डों का किया गया निरीक्षण

कायाकल्प अभियान के तहत होने वाले एकदिवसीय निरीक्षण का नेतृत्व डॉक्टर सचिन कारखुरे ने किया, जिनके द्वारा जिला अस्पताल परिसर, मुख्य द्वार, डायरेक्शन बोर्ड, ड्रेसिंग रूम, इमरजेंसी सहित अन्य जगह जाकर निरीक्षण किया गया. स्वास्थ्य कर्मियों को हिदायत भी दी गई. वहीं जिम्मेदार अमला सिर्फ हां कहते नजर आया और तरह-तरह के बहाने बनाते भी देखा गया.

चिकित्सकों और अन्य स्टाफ की कमी से जूझ रहा अस्पताल

सीधी का जिला अस्पताल स्वयं संकट के दौर से गुजर रहा है. यहां चिकित्सकों और अन्य स्वास्थ्य स्टाफ की कमी काफी लंबे समय से बनी हुई है जिसकी भरपाई नहीं हो पा रही है. चिकित्सकों के पदस्थापन आदेश जारी होते हैं जिस पर चिकित्सक सीधी आते नहीं और अगर आते भी हैं तो अपनी सुविधानुसार यहां से वह ट्रांसफर करा लेते हैं. ऐसे में वही पुराने डॉक्टर यहां इलाज की कमान संभाले हुए हैं. जिस प्रकार से डॉक्टरों की उपलब्धता होनी चाहिए, वह संभव नहीं हो पा रहा है. इमरजेंसी और अन्य वार्डों में मरीज को डॉक्टर के अभाव की समस्या का सीधे तौर पर सामना करना पड़ता है. रात में तो एक दो डॉक्टर ही सिर्फ उपस्थित रहते हैं. अगर कोई बड़ी दुर्घटना हो जाती है तो यहां मरीजों को देखने वाला कोई नहीं मिलता है.

यह भी पढ़ें : MP News: खजुराहो अंतरराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल की हुई भव्य शुरुआत, बॉलीवुड के दिग्गज कलाकार रहे मौजूद

बाजार से दवाइयां खरीदते हैं मरीज

अस्पताल में अन्य सुविधाओं की बात तो दूर जो डॉक्टर दवाइयां लिखते हैं, वह भी मुहैया नहीं हो पाती हैं. मरीज या उनके परिजन बाजार से दवाइयां खरीद करके स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं और यह काफी समय से चल रहा है. या तो डॉक्टर यह अपनी सुविधा के लिए कर रहे हैं या फिर अस्पताल में वे दवाइयां नहीं रहतीं जो डॉक्टर लिखते हैं. जिम्मेदारों से भी कई बार बात की गई लेकिन उन्होंने इस बात से किनारा कर लिया. कोई भी सार्थक जवाब देने की स्थिति में नहीं रहता.

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
भाजपा पार्षद पर आर्थिक सहायता के बहाने महिला से दुष्कर्म का लगा आरोप, एक्टिव हुई पुलिस
Sidhi: काश रोज ऐसा ही रहता हॉस्पिटल! निरीक्षण टीम पहुंची तो एक दिन के लिए 'सज गया' अस्पताल
167 year old tradition was followed in Rewa Tajia was taken out on the day of Moharram know the history of Moharram month of islam religion
Next Article
रीवा में निभाई गई 167 साल पुरानी परंपरा, मोहर्रम के दिन निकाली गई ताजिया, जानें इन दिन का इतिहास
Close
;