विज्ञापन
Story ProgressBack

Mahesh Navmi 2024: महेश नवमी की पूजा के लिए जानिए कब है शुभ मुहूर्त और पूजा की विधि...

वैसे तो महादेव सभी के भगवान है लेकिन इस दिन भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए माहेश्वरी समाज के लोग विशेष रूप से पूजा अर्चना करते हैं. पंडित दुर्गेश ने इस दिन के शुभ मुहूर्त और पूजा विधि (Mahesh Navmi Shubh Muhurt & Puja Vidhi) के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी दी है, आइए हम आपको बताते हैं..

Read Time: 3 mins
Mahesh Navmi 2024: महेश नवमी की पूजा के लिए जानिए कब है शुभ मुहूर्त और पूजा की विधि...
Mahesh Navmi 2024: महेश नवमी के दिन भगवान शिव की पूजा की जाती है

Mahesh Navmi 2024: हिन्दू धर्म में महेश नवमी के पावन पर्व का अधिक महत्व है. ये दिन भगवान शिव को समर्पित होता है और नवमी में भगवान भोलेनाथ की पूजा-अर्चना की जाती है. दरअसल भगवान भोलेनाथ के महेश नाम से ही माहेश्वरी समाज का अवतरण हुआ इसीलिए माहेश्वरी समाज में महेश नवमी का विशेष महत्व है, वैसे तो महादेव सभी के भगवान है लेकिन इस दिन भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए माहेश्वरी समाज के लोग विशेष रूप से पूजा अर्चना करते हैं. पंडित दुर्गेश ने इस दिन के शुभ मुहूर्त और पूजा विधि (Mahesh Navmi Shubh Muhurt & Puja Vidhi) के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी दी है, आइए हम आपको बताते हैं..

महेश नवमी तिथि और शुभ मुहूर्त

महेश नवमी के दिन भगवान शिव की पूजा की जाती है. इस दिन को शुभ मुहूर्त 15 जून 2024 को प्रातःकाल 7:08 से 08:53 तक रहेगा, इस दिन शुभ मुहूर्त में भगवान शिव और माता पार्वती की विधि से पूजा अर्चना करने का विधि विधान है. कहा जाता है जो भक्त इस दिन सच्चे मन से माता शिव, भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करता है. उसकी सारी मनोकामनाएं पूरी होती है एवं रोग दोष और कष्ट दूर हो जाते हैं. 

महेश नवमी पूजा विधि

  • आपके जीवन को सार्थक बनाने में भगवान भोलेनाथ आपकी मदद करेंगे,
  • महेश नवमी के पावन पर्व पर भगवान भोलेनाथ और माता पार्वती की पूजा करने के लिए आपको सबसे पहले इस दिन सूर्योदय से पहले उठकर ब्रह्ममुहूर्त में स्नान करके भगवान सूर्य को जल का अर्घ दें,
  • इसके बाद साफ और स्वच्छ वस्त्र धारण करें,
  • अब भोलेनाथ को पुष्प व चंदन, गंगाजल इत्यादि अर्पित करें और अपनी पूजा प्रारंभ करें,
  • आप पूजा के दौरान शिव चालीसा का पाठ कर सकते हैं,
  • इसके साथ ही शिव मंत्र का भी जाप कर सकते हैं,
  • पूजा के अंतिम चरण में पूरी श्रद्धा भाव से भगवान शिव की आरती करें और भोलेनाथ को मिष्टान या फल का विशेष रूप से भोग लगाएं,
  • इसके बाद प्रसादी वितरण करें और व्रत रखने वाले पूजा के बाद फलाहार कर सकते हैं,
  • इस दिन गलती से भी सोना नहीं चाहिए दरअसल इस दिन सोने से होता है,
  • महेश नवमी के पावन पर्व पर गरीबों या जरूरतमंदों को दान करने से भगवान शिव का आशीर्वाद भी प्राप्त होता है.

यह भी पढ़ें: Kanwar Yatra 2024: कब से शुरू होगी भोलेनाथ के भक्तों की कांवर यात्रा, शिवलिंग के अभिषेक की तिथि जानिये यहां

Disclaimer: यहां दी गई जानकारी ज्योतिष व लोक मान्यताओं पर आधारित है. इस खबर में शामिल सूचना और तथ्यों की सटीकता के लिए NDTV किसी भी तरह की ज़िम्मेदारी या दावा नहीं करता है.)

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Kanwar Yatra 2024: कब से शुरू होगी भोलेनाथ के भक्तों की कांवर यात्रा, शिवलिंग के अभिषेक की तिथि जानिये यहां
Mahesh Navmi 2024: महेश नवमी की पूजा के लिए जानिए कब है शुभ मुहूर्त और पूजा की विधि...
when-is-world-blood-donor-day-2024-know-date-theme-history-significance-history-significance-types of-blood-group-and-more-
Next Article
World Blood Donor Day 2024: पहली बार डॉग को चढ़ाया गया था ब्लड, जानिए कौन किसे दे सकता है रक्त
Close
;