विज्ञापन
Story ProgressBack

Indian Railways: भारत का एक ऐसा भी है स्टेशन, जहां कभी नहीं रुकती कोई ट्रेन, जानें क्या है इसका इतिहास

Last Station in India: भारतीय रेलवे नेटवर्क में एक ऐसा भी खास स्टेशन है जहां कभी कोई ट्रेन नहीं रुकती है. खास बात है कि ये स्टेशन भारत और बांग्लादेश की सीमा पर स्थित है. 

Read Time: 4 mins
Indian Railways: भारत का एक ऐसा भी है स्टेशन, जहां कभी नहीं रुकती कोई ट्रेन, जानें क्या है इसका इतिहास
भारत का अंतिम रेलवे स्टेशन

No Train on Station: भारतीय रेलवे (Indian Railways) कई बातों के लिए विदेशों में भी अपनी अलग ख्याती रखती है. चाहे बात करें रेलवे नेटवर्क (Rail Network) की, या बात करें फ्रेट कॉरिडोर (Freight Corridor) की, या बात करें यात्रियों के संख्या की, कई मामलों में रेलवे मशहूर है. लेकिन, इसी भारत में एक ऐसा भी स्टेशन है जहां कभी कोई ट्रेन नहीं रुकती है. यह देश के आखरी स्टेशनों में से एक भी माना जाता है. हम बात कर रहे हैं सिंगाबाद रेलवे स्टेशन (Singhabad Railway Station) की.

भारत-बांग्लादेश सीमा (Bharat Bangladesh Border) पर स्थित यह स्टेशन भारत की व्यापक रेलवे प्रणाली में एक अनूठी इकाई है. बंगाल के मालदा (Malda) जिले के हबीबपुर क्षेत्र में स्थित सिंगाबाद को ट्रेन स्टॉपेज की कमी से प्रतिष्ठित किया गया है. अपने समृद्ध ऐतिहासिक कनेक्शनों (Historic Connection) के बावजूद, स्टेशन अब चुप है. इसकी पटरियां किसी समय में यात्रियों और ट्रेनों के आवगमन से उजागर रहती थी. आइए इसके बारे में थोड़ा और जानते हैं. 

सिंगाबाद का ऐतिहासिक महत्व

ब्रिटिश युग के दौरान स्थापित सिंगाबाद रेलवे स्टेशन ने अपने आंगन में सुभाष चंद्र बोस और महात्मा गांधी जैसे प्रतिष्ठित लोगों को भी देखा. इसने कोलकाता और ढाका के बीच एक महत्वपूर्ण संबंध बनाने में कार्य किया, जो पूर्व-स्वतंत्रता के समय में यात्रा और वाणिज्य की सुविधा प्रदान करता था. 1947 में भारत के विभाजन के बाद स्टेशन का महत्व बढ़ गया, जिसने इस क्षेत्र में रेल कनेक्टिविटी का आयाम बदलकर रख दिया. क्रॉस-बॉर्डर रेल लिंक को बनाए रखने के लिए सिंगाबाद एक महत्वपूर्ण बिंदु के रूप में उभरा.

स्टेशन की बनावट

Singhabad स्टेशन की वास्तुकला अतीत में झांकने के लिए एक खिड़की की तरह काम करता है. इसके औपनिवेशिक युग की संरचनाएं और उपकरण अभी भी खड़े हैं. सिग्नल सिस्टम, टिकट काउंटर और अन्य सुविधाएं, हालांकि अब एक अलग समय के अवशेष हो गई हैं और उस युग की यादें पैदा करती हैं जब स्टेशन गतिविधि और आंदोलन का एक केंद्र था. यह वास्तुशिल्प विरासत भारत के रेलवे इन्फ्रास्ट्रक्चर पर औपनिवेशिक छाप का एक दुर्लभ संरक्षण है.

आधुनिक समय में Singhabad

भारत की स्वतंत्रता के बाद सिंगाबाद की भूमिका बदल गई. 1971 में बांग्लादेश के निर्माण और बाद में भू -राजनीतिक बदलावों ने 1978 के एक समझौते को जन्म दिया, जिसने सिंगाबाद से मालगाड़ियों के संचालन की अनुमति दी. 2011 में एक संशोधन ने इस भूमिका का विस्तार किया, जिससे नेपाल के लिए ट्रेनों के लिए पारगमन की अनुमति मिली. इस प्रकार सिंगाबाद मालगाड़ी के लिए एक महत्वपूर्ण पारगमन बिंदु बन गया, जो क्षेत्र के व्यापार और वाणिज्य में अपने रणनीतिक महत्व को उजागर करता है.

अंतिम स्टेशन

Singhabad को अक्सर अपने भौगोलिक स्थान और इस तथ्य के कारण भारत का अंतिम स्टेशन कहा जाता है कि यह न तो एक मूल के रूप में कार्य करता है और न ही यात्री गाड़ियों के लिए एक गंतव्य के रूप में. यह देश के किनारे पर एक मूक प्रहरी के रूप में खड़ा है, एक स्टेशन जहां समय मानो जैसे रुक सा गया हो. 

ये भी पढ़ें :- MPL 2024: जबलपुर लायंस ने जीता MPL 2024 का खिताब, शरद-मनोज और श्रद्धा स्टेडियम पहुंच उठाया फाइनल मैच का लुत्फ

भारत में अन्य अनूठे स्टेशन

भारत के सबसे अनोखे ट्रेन स्टेशनों में से एक राजस्थान में राशीदपुरा खोरी है. यह देश का एकमात्र रेलवे स्टेशन होने का गौरव रखता है, जो रेलवे कर्मचारियों या अधिकारियों से किसी भी भागीदारी के बिना, पूरी तरह से ग्रामीणों द्वारा चलाया जाता है और बनाए रखा जाता है. यह स्टेशन वास्तव में एक समुदाय के नेतृत्व वाली पहल की भावना का प्रतीक है, जहां स्थानीय ग्रामीणों ने इस स्टेशन के संचालन का प्रबंधन करने के लिए खुद पर ले लिया है, जिससे यह आत्मनिर्भरता और स्थानीय शासन का एक प्रकार का उदाहरण है.

ये भी पढ़ें :- MP Crime: एक महीने पहले अगवा हुई थी आदिवासी लड़की, गांव की सरपंच ने ऐसे खोज निकाला

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Sonakshi Weds Zahir: सलमान ने मिलाई जोड़ी, जहीर बने सोनाक्षी के 'पर्सनल साइको', फैन्स पूछ रहे हनीमून डेस्टिनेशन?
Indian Railways: भारत का एक ऐसा भी है स्टेशन, जहां कभी नहीं रुकती कोई ट्रेन, जानें क्या है इसका इतिहास
Arvind Kejriwal gets setback from Supreme Court will have to be jail high court order waiting
Next Article
Arvind Kejriwal को सुप्रीम कोर्ट में लगा झटका, कुछ और दिन बिताने होंगे जेल में
Close
;