विज्ञापन
Story ProgressBack

'बिरहोर के भाई' के नाम से मशहूर जागेश्वर यादव को मिला पद्मश्री सम्मान, आदिवासियों के उत्थान के लिए किए ये बड़े काम

CG News: जशपुर के रहने वाले जागेश्वर यादव को गुरुवार को पद्मश्री सम्मान दिया गया. राष्ट्रपति भवन में आयोजति पद्म पुरस्कार समारोह में उन्हें यह सम्मान राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के हाथों मिला.

'बिरहोर के भाई' के नाम से मशहूर जागेश्वर यादव को मिला पद्मश्री सम्मान, आदिवासियों के उत्थान के लिए किए ये बड़े काम
जागेश्वर यादव ने बिरहोर जनजाति के उत्थान के लिए कई काम किए हैं.

Padmashree Award To Jageshwar Yadav: छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के जशपुर जिले (Jashpur) के रहने वाले समाजसेवी जागेश्वर यादव (Social Worker Jageshwar Yadav) को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू (President Droupadi Murmu) ने पद्मश्री से सम्मानित (Padma Shri Award) किया. गुरुवार को राष्ट्रपति भवन, दिल्ली (President House) में आयोजित पद्म पुरस्कार समारोह (Padma Award Ceremony) में उन्हें यह सम्मान मिला. बता दें कि जागेश्वर यादव का नाम 2024 के पद्मश्री पुरस्कार के लिए चयनित हुआ था. जिले के बिरहोर आदिवासियों (Birhor Tribe) के उत्थान के लिए बेहतर कार्य करने पर उन्हें यह पुरस्कार दिया गया है. जागेश्वर यादव ने आदिवासियों को साक्षर करने (To Educate Tribals) और शिशु मृत्यु दर कम करने जैसे बड़े कार्य किए हैं.

बगीचा ब्लॉक के भितघरा गांव में पहाड़ियों व जंगल के बीच रहने वाले जागेश्वर यादव 1989 से ही बिरहोर जनजाति के लिए काम कर रहे हैं. उन्होंने इसके लिए जशपुर जिले में एक आश्रम की स्थापना की है. साथ ही शिविर लगाकर निरक्षरता को खत्म करने और स्वास्थ्य व्यवस्था लोगों तक पहुंचाने के लिए कड़ी मेहनत की है. उनके प्रयासों का नतीजा था कि कोरोना के दौरान टीकाकरण की सुविधा मुहैया कराई जा सकी. इसके अलावा शिशु मृत्यु दर को कम करने में भी मदद मिली.

आदिवासियों के बीच रहकर किया उत्थान

जागेश्वर यादव का जन्म जशपुर जिले के भितघरा में हुआ था. बचपन से ही उन्होंने बिरहोर आदिवासियों की दुर्दशा देखी थी. घने जंगलों में रहने वाले बिरहोर आदिवासी शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार से वंचित थे, जागेश्वर ने इनके जीवन को बदलने का फैसला किया. इसके लिए सबसे पहले उन्होंने आदिवासियों के बीच रहना शुरू किया. उनकी भाषा और संस्कृति को सीखा. इसके बाद उन्होंने शिक्षा की अलख जगाई और स्कूलों में भेजने के लिए प्रोत्साहित किया.

2015 में मिला शहीद वीर नारायण सिंह सम्मान

जागेश्वर यादव ‘बिरहोर के भाई' के नाम से चर्चित हैं. जागेश्वर को उनके बेहतर कार्य के लिए पहले भी 2015 में शहीद वीर नारायण सिंह सम्मान मिल चुका है. आर्थिक कठिनाइयों की वजह से उनके लिए यह सब आसान नहीं रहा. लेकिन, उनका जुनून सामाजिक परिवर्तन लाने में सहायक रहा. जागेश्वर बताते हैं कि पहले बिरहोर जनजाति के लोग, उनके बच्चे अन्य लोगों से मिलते-जुलते नहीं थे. बाहरी लोगों को देखते ही भाग जाते थे. इतना ही नहीं जूतों के निशान देखकर भी छिप जाते थे. ऐसे में पढ़ाई के लिए स्कूल जाना तो बड़ी दूर की बात थी. लेकिन, अब समय बदल गया है. जागेश्वर यादव के प्रयासों से अब इस जनजाति के बच्चे भी स्कूल जाते हैं.

गांव में खुशी का माहौल

जागेश्वर यादव के पद्मश्री पुरस्कार के लिए चयनित होने के बाद से ही परिवार और पूरा गांव खुशियां मना रहा था. लोगों का बधाई देने के लिए उनके घर आने का सिलसिला जारी था. गुरुवार को राष्ट्रपति भवन, दिल्ली में आयोजित पद्म पुरस्कार समारोह में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने जागेश्वर यादव को पद्मश्री से सम्मानित किया. जिसके बाद परिवार और पूरा गांव सहित जिले भर में लोग गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें - सावधान! कोका कोला की काला बाजारी, MRP से ज्यादा दाम पर बेचे जा रहे कोल्ड ड्रिंक्स, जिम्मेदार अनजान

यह भी पढ़ें - Toppers Interview: 12वीं में चौथी रैंक, समीर चक्रधारी करते हैं मूर्तिकारी, बनना चाहते हैं ये अधिकारी

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Chhattisgarh News: दो भाईयों ने मिलकर चचेरे भाई की कर दी हत्या, फिर पुलिस से बचने के लिए शव नदी में फेंका...हुए गिरफ्तार
'बिरहोर के भाई' के नाम से मशहूर जागेश्वर यादव को मिला पद्मश्री सम्मान, आदिवासियों के उत्थान के लिए किए ये बड़े काम
Is there a delay in cabinet expansion due to factionalism in Chhattisgarh BJP? Know what CG CM said?
Next Article
CG Cabinet Expansion: क्या छत्तीसगढ़ भाजपा में गुटबाजी के कारण मंत्रिमंडल विस्तार में देरी हो रही है? जानिए CG CM ने क्या कहा?
Close
;