विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jul 14, 2023

बैतूल: नर्सिंग स्टाफ की हड़ताल की वजह से गई नवजात की जान

बैतूल में नर्सिंग स्टाफ की हड़ताल के चलते एक दम्पत्ति ने अपने नवजात बच्चे को खो दिया. जिसके बाद गुस्साए परिजनों ने अस्पताल में जमकर हंगामा किया और मामले की जांच की मांग की.

Read Time: 3 mins
बैतूल: नर्सिंग स्टाफ की हड़ताल की वजह से गई नवजात की जान
प्रतीकात्मक फोटो
बैतूल: मध्य प्रदेश के बैतूल से एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है. यहां नर्सिंग स्टाफ हड़ताल के चौथे दिन एक दम्पत्ति ने अपने नवजात शिशु को खो दिया. प्रदेश में जारी नर्सिंग स्टाफ की हड़ताल और सरकारी अस्पतालों की बदइंतज़ामी के चलते एक आदिवासी महिला को डिलीवरी के वक्त सही ट्रीटमेंट नहीं मिलने से उसके नवजात बच्चे की मौत हो गई. इस घटना से परिवार अस्पताल को लेकर गुस्से में है.

जानकारी के अनुसार गुरुवार सुबह 9 बजे घोड़ाडोंगरी से एक प्रसूता को जिला अस्पताल रैफर किया गया था. जिला अस्पताल में भर्ती करने के बाद शाम तक प्रसूता की हालत बिल्कुल सामान्य थी. इस दौरान उसके परिजनों ने कई बार डॉक्टरों और नर्सों से बात करने का प्रयास किया लेकिन नर्सिंग हड़ताल की वजह से कोई रिस्पॉन्स नहीं मिला. नर्सिंग हड़ताल होने की वजह से जिला अस्पताल प्रबंधन प्रशिक्षुओं के भरोसे व्यवस्था चला रहे थे. वहीं, पूरे दिन प्रसूता को वार्ड में एक बेड तक नसीब नहीं हुआ. 

मामले में प्रसूता की ननद रवीना बारस्कर ने बताया कि प्रसूता को जब दर्द शुरू हुआ तो मौके पर ना कोई डॉक्टर था और ना नर्सिंग स्टाफ. जब उसकी हालत बिगड़ने लगी तब कहीं एक डॉक्टर ने उसकी सुध ली और उसे डिलीवरी रूम में ले जाया गया. इस बीच डॉक्टर बोली कि बच्चा गर्भाशय में फंस गया है. अकेली डॉक्टर मामला सम्भाल नहीं सकी और आखिरकार बच्चे की मौत हो गई. बच्चे की मौत के बाद साथ आए परिजनों में शामिल एक शख्स ने कहा कि जिला अस्पताल में आदिवासियों से ठीक व्यवहार नहीं होता है. आज हड़ताल की वजह से एक नवजात की मौत हो गई, इसके बाद उन्होंने मामले की जांच की मांग उठाई. इधर परिजनों ने भी कहा की यह गरीब आदिवासियों पर अत्याचार है जिस पर कठोर कार्रवाई होना चाहिए. इस घटना के बाद से जिला अस्पताल प्रबंधन कुछ भी बोलने से बच रहा है.

बता दें कि तीन सौ बेड के जिला अस्पताल में 172 का रेगुलर नर्सिंग स्टाफ है. वहीं 40 संविदा के पद पर पदस्थ है और जिले में संचालित नर्सिंग कॉलेज के पैरामेडिकल स्टाफ लगभग 90 लोग अलग-अलग शिफ्ट में काम करते हैं लेकिन शुक्रवार से संविदा नर्सिंग स्टाफ के हड़ताल पर जाने के बाद जिला अस्पताल की व्यवस्था और ज़्यादा चरमरा गई, जिससे स्वास्थ्य महकमे की सांसें फूलने लगी.

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
बैतूल- ग्रीन सिटी का दर्जा है प्राप्त, ताप्ती नदी यहीं से निकलती है
बैतूल: नर्सिंग स्टाफ की हड़ताल की वजह से गई नवजात की जान
Betul: Youth beaten up by traffic policemen for ignoring traffic rules
Next Article
यातायात नियमों की अनदेखी करने पर ट्रैफिक पुलिसकर्मियों ने युवक को पीटा
Close
;