विज्ञापन
Story ProgressBack

CM साहब ! छिंदवाड़ा में 8 का कत्ल करने वाले का नहीं, सिस्टम का दिमाग 'करेक्ट' करिए

छिंदवाड़ा में बीती रात यानी 28 मई को मानसिक तौर पर परेशान आदिवासी समाज के एक युवक को सनक आई और उसने एक के बाद एक कुल्हाड़ी से माता,पिता,भाई,पत्नी और बच्चों समेत आठ लोगों का कत्ल कर दिया.NDTV ने जब घटना की परतें उधेड़ीं तो पता चला कि युवक की दिमागी हालत खराब थी और उसका परिवार इलाज के लिए मात्र झाड़-फूंक का सहारा ले रहा था. सवाल ये है कि उनके पास आयुष्मान कार्ड क्यों नहीं था?

Read Time: 4 mins
CM साहब ! छिंदवाड़ा में 8 का कत्ल करने वाले का नहीं, सिस्टम का दिमाग 'करेक्ट' करिए

Chhindwara Mass Murder: छिंदवाड़ा में बीती रात यानी 28 मई को मानसिक तौर पर परेशान आदिवासी समाज के एक युवक को सनक आई और उसने एक के बाद एक कुल्हाड़ी से माता,पिता,भाई,पत्नी और बच्चों समेत आठ लोगों का कत्ल कर दिया. सुबह जब खबर फैली तो छिंदवाड़ा से लेकर भोपाल तक हर कोई सन्न रह गया. NDTV ने जब घटना की परतें उधेड़ीं तो पता चला कि युवक की दिमागी हालत खराब थी और उसका परिवार इलाज के लिए मात्र झाड़-फूंक का सहारा ले रहा था. युवक की सात दिन पहले ही शादी भी हुई थी.परिवार को लग रहा था कि झाड़-फूंक से मामला पटरी पर आ जाएगा.

हमारी पड़ताल में ये भी सामने आया कि परिवार गरीब था इसलिए वो इलाज कराने डॉक्टर के पास नहीं गया. ऐसे में सवाल ये है कि आखिर आयुष्मान भारत जैसी योजना किस काम की है? सरकार और उसका अमला तो यही बताता है न ये योजना गरीबों के लिए है तो सवाल उठता है कि फिर छिंदवाड़ा में 8 लोगों का कत्ल करने वाले युवक और उसके परिवार तक इस योजना का लाभ क्यों नहीं पहुंचा? हम ऐसा क्यों कह रहे हैं ये आपको आगे बताएंगे लेकिन पहले ये जान लीजिए कि MP में आयुष्मान कार्ड का हिसाब किताब क्या है? MP में कुल 3.8 करोड़ आयुष्मान कार्ड बने हैं जो यूपी के बाद देश में सबसे ज्यादा है. यूपी में 4.8 करोड़ आयुष्मान कार्ड बने हैं.   

Latest and Breaking News on NDTV


 अब छिंदवाड़ा के सामूहिक कत्ल की वारदात को समझने की कोशिश करते हैं. NDTV ने बोदल कछार गांव में जाकर हत्याकांड के आरोपी मानसिक विक्षिप्त दिनेश उर्फ भूरा गोंड के चाचा कल्लू सिंह  से इस घटना पर बात की.

कल्लू सिंह ने हमें बताया वारदात के कुछ दिन पहले से भूरा गोंड का दिमाग 'करेक्ट' हो गया था. वो रात में कुल्हाड़ी लेकर घूमने लगा था. दो दिन पहले जब वो आंगन में सो रहे थे तब भी भूरा करीब दो बजे रात को कुल्हाड़ी लेकर घूम रहा था. उसे देखकर कुत्ता भौंका तो कल्लू की नींद खुद गई. कल्लू ने भूरा को कहा- तू कुल्हाड़ी लेकर क्यों घूम रहा है तो उसने कुछ भी जवाब नहीं दिया.

इसके बाद सुबह कल्लू ने सारी बात भूरा के बड़े भाई को बताई. जिसके बाद दोनों भूरा को लेकर एक पंडा के पास गए. कल्लू के मुताबिक वहां झाड़-फूंक के बाद भूरा का दिमाग कुछ ठीक हो गया. लेकिन दो दिन बाद ही उसने रात को ही अपने माता-पिता,भाई, भाभी और बच्चों को एक-एक करके कुल्हाड़ी से काट दिया और खुद भी फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली.

Latest and Breaking News on NDTV

जब हमने कल्लू सिंह से पूछा- आप भूरा को डॉक्टर के पास क्यों नहीं ले गए तो उनका जवाब था- साहब हम गरीब लोग हैं कहां डॉक्टर का खर्च उठा पाएंगे. भूरा गोंड की मानसिक स्थिति एक साल से खराब थी. कल्लू सिंह और उनके परिवार के पास आयुष्मान कार्ड है या नहीं ये तो अभी साफ नहीं हुआ है लेकिन सवाल ये है कि आखिर इस अच्छी योजना की जानकारी कल्लू और उन जैसे गरीब परिवार को पास क्यों नहीं है? जब भारत मंगल ग्रह तक पहुंच चुका है तो तब भी छिंदवाड़ा और दूसरे आदिवासी इलाके झाड़-फूंक के भरोसे क्यों हैं? क्यों वे आधुनिक चिकित्सा पद्धति से दूर हैं?

ये भी पढ़ें: Chhindwara Mass murder: छिंदवाड़ा में आदिवासी परिवार में 8 लोगों की सामूहिक हत्या, कुल्हाड़ी से काटकर की हत्या

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
MP News: महिला डॉक्टर ने लगाया सिविल सर्जन पर मानसिक प्रताड़ना के आरोप, कलेक्टर ने दिए जांच के आदेश
CM साहब ! छिंदवाड़ा में 8 का कत्ल करने वाले का नहीं, सिस्टम का दिमाग 'करेक्ट' करिए
MPSC Result 2021 Gwalior Pawan Ghuriya passed PAC exam in first attempt became Deputy Collector
Next Article
MPPSC के 1st Attempt में पवन बने डिप्टी कलेक्टर, गरीब बच्चों पर कही बड़ी बात 
Close
;