विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Dec 11, 2023

MP की ऊर्जा राजधानी में अंधेरे में कट रही है जिंदगी, लकड़ी की आग के सहारे पढ़ने को मजबूर हैं बच्चे

मध्य प्रदेश की ऊर्जा राजधानी सिंगरौली में आजादी के 76 साल बीत जाने के बाद भी रोशनी नहीं पहुंची है. यहां के कई गांव आज भी आग की रोशनी के सहारे रात काटने को मजबूर हैं. यहां के बच्चे लकड़ी की आग के सहारे पढ़कर अपनी किस्मत पलटने में लगे हैं.

Read Time: 6 mins
MP की ऊर्जा राजधानी में अंधेरे में कट रही है जिंदगी, लकड़ी की आग के सहारे पढ़ने को मजबूर हैं बच्चे
सिंगरौली के गोभा गांव के बच्चे कड़कड़ाती ठंड में लकड़ी की आग के सहारे पढ़कर अपनी तकदीर बदल रहे हैं.

Darkness in the Energy Capital of Madhya Pradesh: मध्य प्रदेश में चुनाव समाप्त (Assembly Elections 2023) हो चुके हैं. चुनावी प्रचार के दौरान सरकार (Madhya Pradesh Government) ने प्रदेश में विकास के कई दावे किए, स्वयं सूबे के मुखिया शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) ने मध्य प्रदेश को बीमारू राज्य से विकसित राज्य बनाने का दावा किया. लेकिन, प्रदेश के कुछ इलाके आज भी वैसे ही हैं जैसे आजादी के समय पर थे. ये इलाके सरकार के दावों की पोल खोलते हैं. आजादी के बाद प्रदेश में कई सरकारें रहीं, लेकिन इन इलाकों की किस्मत वैसी की वैसी ही रही. ना तो इनकी सुध किसी सरकारी महकमे ने ली और ना ही किसी नेता ने.

हम बात कर रहे हैं भारत के सबसे बड़े पावर हब सिंगरौली (Power Hub Singrauli) की. वैसे तो सिंगरौली मध्य प्रदेश की ऊर्जा राजधानी (Energy Capital) भी है, लेकिन विडंबना ये है कि जो इलाका देश-विदेश में रोशनी फैलाता है वह अपने ही लोगों तक रोशनी नहीं पहुंचा पा रहा है. इस इलाके के आसपास 5 पावर प्लांट मौजूद हैं, लेकिन आजादी के 76 साल बाद भी सिंगरौली जिले के कई गांव बिजली के बिना गुजर-बसर करने को मजबूर हैं. वहीं इस मामले में जिम्मेदार सिर्फ आश्वासन देते हुए नजर आ रहे है.

लकड़ी का आग के सहारे कटती है रात

सिंगरौली जिला मुख्यालय से 24 किमी दूर एक ऐसा ही गांव है गोभा. गोभा गांव के लोग आज भी बिजली के बगैर जीने को मजबूर हैं. यहां के लोग लकड़ी की आग के सहारे रात काट लेते हैं. इस गांव में कई टोले हैं, जहां करीब 1500 के आसपास लोग रहते हैं. इनमें ज्यादातर लोग आदवासी या मुस्लिम समुदाय के हैं.

NDTV की टीम ने इस गांव का दौरा कर यहां के लोगों से बात की. बातचीत को दौरान ग्रामीणों ने बताया कि इस इलाके में आजादी के 76 वर्ष बीत जाने के बाद भी बिजली नसीब नहीं हुई है.वे चूल्हे की लकड़ी से आग जलाकर रात किसी तरह गुजार लेते हैं. यहां के निवासी छोटेलाल बताते हैं, “नेता यहां सिर्फ पांच वर्ष में एक बार चुनाव के समय आते हैं. उसके अलावा कोई अधिकारी कभी गांव नहीं आया. ये गांव गोभा ग्राम पंचायत का हिस्सा है, लेकिन किसी भी प्रधान ने यहां पर विकास कार्य कराने में रुचि नहीं ली.”

Energy Capital Singrauli

गोभा गांव के बच्चे आग की रोशनी में पढ़ने के लिए मजबूर हैं.

सरकारी योजनाओं का कोई लाभ नहीं

गांव की एक अन्य निवासी अनीता ने बताया, "हम रात में खाना नहीं बनाते हैं. रात का हम लोग दिन ढलने के साथ ही बना लेते हैं क्योंकि रात में यहां लालटेन और चिमनी भी नहीं जलती है, क्योंकि आज-कल राशन की दुकान से सरकारी कैरोसिन तेल भी नहीं मिलता है. जिस वजह से रात का खाना दिन ढलते ही बना लेते हैं. कई पीढ़ियां रोशनी की राह देखते-देखते खत्म हो गईं, लेकिन अभी तक बिजली नहीं आई."

अनीता आगे बताती हैं, "सरकारी योजना का लाभ हमें आज तक नहीं मिला, न तो उज्ज्वला योजना के तरह गैस मिला और ना ही आवास. घर के नाम पर सिर्फ यही मड़ैया है, लेकिन तब भी हमारा राशन कार्ड नहीं बन पाया है. मनरेगा के तहत काम मांगने गए थे पर काम नहीं मिला. हम किसी तरह मजदूरी करके घर का खर्च चला रहे हैं. जिस दिन काम न मिले उस दिन बच्चे भूखे सोते हैं."

Energy Capital Singrauli

यहां के आगनबाड़ी में भी अंधेरा छाया रहता है.

ये भी पढ़ें - MP Board Exam Date: जारी हुआ 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं का टाईम टेबल, जानें कब होंगे एग्जाम्स

आग की रोशनी में पढ़ाई करते हैं बच्चे

NDTV की टीम जब आगे बढ़ी तो अंधेरी रात व ठंड की ठिठुरन में सड़क के किनारे लकड़ी की आग की रोशनी के सहारे पढ़ाई करता एक 5 साल का मासूम दिखा. उसके साथ उसकी मां और बहन भी थी. मासूम बच्चा आग की रोशनी के सहारे पढ़ाई के दम पर अपनी किस्मत लिख रहा था. एडीटीवी की टीम ने जब उसकी मां से बातचीत की तो उन्होंने बताया कि न तो उनके पास आवास है और ना ही गांव में बिजली. उनके पास केरोसिन भी नहीं है. इसी लकड़ी की आग से खाना बनता है और बच्चे इसी आग के सहारे रात में पढ़ाई करते हैं. उन्हें न मिट्टी का तेल मिलता है ना राशन. किसी तरह दिन भर मजदूरी करके मड़ैया में अपना जीवन यापन कर रहे हैं.

Energy Capital Singrauli

आग की रोशनी पढ़ते हुए मासूम अपनी तकदीर बदलना चाहतेे हैं.

क्या कहते हैं जिम्मेदार ?

एनडीटीवी की टीम ने जब इस मामले में जिला पंचायत सीईओ आईएएस गजेंद्र सिंह नागेश से बात की तो उन्होंने बताया कि जिन इलाकों में बिजली की समस्या है, बिजली नहीं पहुंची है, वहां पर डीएमएफ मद से जल्द ही बिजली की सुविधा मुहैया कराई जाएगी. उन्होंने कहा कि हमारी कोशिश है कि फरवरी माह में बिजली विहीन इलाके में बिजली पहुंच जाए.

ये भी पढ़ें - Jabalpur : सेना के जवानों ने जलती हुई बस से 37 छात्र और 4 शिक्षकों को सुरक्षित निकाला, जमकर हो रही तारीफ

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Monsoon Rains: सीहोर में हुई झमाझम बारिश, 2 घंटे में गिरा 107MM पानी, शहर के नदी-नाले हुए जलमग्न
MP की ऊर्जा राजधानी में अंधेरे में कट रही है जिंदगी, लकड़ी की आग के सहारे पढ़ने को मजबूर हैं बच्चे
CM Mohan Yadav's big announcement Madhya Pradesh government build 3 crore houses, every poor person will get a permanent house, bonus on milk production
Next Article
खुशखबरी... CM मोहन यादव का ऐलान प्रदेश में हर गरीब को मिलेगा पक्का मकान, दूध उत्पादन पर बोनस
Close
;