विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jan 16, 2024

CG News: ऋचा जोगी ने वापस लिया उच्च स्तरीय जाति खोजबीन समिति के खिलाफ दायर याचिका, जानें - क्या है पूरा मामला

2020 में ऋचा जोगी की ओर से जिला स्तरीय जाति प्रमाणपत्र छानबीन समिति द्वारा उनके जाति प्रमाणपत्र को निलंबित किए जाने और अन्तिम निर्णय के लिए प्रकरण को राज्य स्तरीय जाति प्रमाण पत्र छानबीन समिति के पास भेजे जाने के खिलाफ प्रस्तुत की थी.

CG News: ऋचा जोगी ने वापस लिया उच्च स्तरीय जाति खोजबीन समिति के खिलाफ दायर याचिका, जानें - क्या है पूरा मामला

Chhattisgarh News Today: छत्तीसगढ़ के भूतपूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी परिवार की बहू ऋचा जोगी की जाति प्रमाण पात्र का मुद्दा एक बार फिर सुर्खियों में है. दरअसल, हाईकोर्ट में ऋचा जोगी की तरफ से अधिवक्ता गैरी मुखोपाध्याय ने उस याचिका को वापस लेने का अनुरोध किया है, जिसमें ऋचा जोगी ने जाति प्रमाण पत्र खारिज किए जाने के खिलाफ कोर्ट से राहत की मांग की थी.

वहीं, इस मामले में शिकायतकर्ता संत कुमार नेताम की ओर से उपस्थित अधिवक्ता सुदीप श्रीवास्तव ने याचिका वापस लिए जाने पर कोई आपत्ति नहीं की, जिसके बाद हाईकोर्ट की खंडपीठ जस्टिस गौतम भादुड़ी और जस्टिस सचिन सिंह राजपूत ने याचिका वापसी का आग्रह स्वीकार करते हुए याचिका को निराकृत कर दिया है.

छानबीन समिति के अधिकारों को दी थी चुनौती

गौरतलब है कि 2020 में ऋचा जोगी की ओर से जिला स्तरीय जाति प्रमाणपत्र छानबीन समिति द्वारा उनके जाति प्रमाणपत्र को निलंबित किए जाने और अन्तिम निर्णय के लिए प्रकरण को राज्य स्तरीय जाति प्रमाण पत्र छानबीन समिति के पास भेजे जाने के खिलाफ प्रस्तुत की थी. इस याचिका में छत्तीसगढ़ शासन की ओर से जिला स्तरीय जाति प्रमाण-पत्र छानबीन समिति को दिए गए अधिकारों और इस संबंध में बनाए गए नियमों की संवैधानिकता को भी चुनौती दी गई थी.

राज्य स्तरीय समिति ने रद्द किया था प्रमाण-पत्र

प्रकरण में हाईकोर्ट की ओर से नोटिस जारी किया गया था, लेकिन कोई भी स्टे आदेश नहीं दिया गया था. बाद में  राज्य स्तरीय जाति प्रमाण पत्र छानबीन समिति ने पूर्ण सुनवाई कर ऋचा जोगी के जाति प्रमाणपत्र को रद्द कर दिया था. इस फैसले के खिलाफ ऋचा जोगी हाईकोर्ट में याचिका दायर कर कोर्ट से राहत की मांग की थी. बताया जाता है कि वह इस याचिका में संशोधन करना चाहती थी, लेकिन लम्बा समय बीतने पर भी कोई संशोधन याचिका प्रस्तुत नहीं कर सकने के बाद अब इस याचिका को वापस ले लिया गया है.

खुद को नहीं कर पाई थी आदिवासी  साबित

दरअसल, राज्य स्तरीय जाति प्रमाण पत्र छानबीन समिति ने अपने निर्णय में यह बताया था है कि ऋचा जोगी ने  बालिग होने के बाद मुंगेली तहसील में कई जमीनों की बिक्री की, जिसमें उन्होंने खुद को गैर आदिवासी घोषित किया है. प्रकरण के अन्य तथ्य भी ऋचा जोगी के आदिवासी होने के दावे का समर्थन नहीं करते. समिति ने अपने फैसले में कहा कि ऐसे मामले में सबूत उसी व्यक्ति के पास होना चाहिए, जो आदिवासी होने का दावा कर रहा है, लेकिन इस बात को साबित करने में ऋचा जोगी पूरी तरह विफल रहीं. ऋचा जोगी के अधिवक्ता के अनुसार वे अब एक नई याचिका प्रस्तुत कर राज्य स्तरीय जाति प्रमाण पत्र छानबीन समिति के आदेश को चुनौती देंगीं.

ये भी पढ़ें- महाकाल की सवारी पर ‘कुल्ला' के मामले में शिकायतकर्ता और गवाह दोनों मुकरे, हाईकोर्ट ने आरोपी को दी जमानत

ये है पूरा मामला

दरअसल, आदिवासी विकास विभाग के सहायक आयुक्त एलआर कुर्रे ने ऋचा जोगी की ओर से फर्जी जाति प्रमाण पत्र पेश करने की शिकायत मुंगेली के सिटी कोतवाली थाने में की थी. इसमें कहा गया था कि राज्य स्तरीय छानबीन समिति ने उनकी आदिवासी जाति प्रमाण-पत्र को फर्जी पाया है और इस मामले में एफआईआर कराने के निर्देश दिए हैं. इसी आधार पर पुलिस ने 16 नवंबर 2022 को सामाजिक परिस्थिति कारण प्रभावीकरण अधिनियम 2013 की धारा 10 के तहत ऋचा जोगी के खिलाफ आपराधिक केस दर्ज किया था.

ये भी पढ़ें- Chhattisgarh News: कमांडर के एनकाउंटर के बाद बौखलाए नक्सली, बीजापुर में की ग्रामीण की हत्या

MPCG.NDTV.in पर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार,लाइफ़स्टाइल टिप्स हों,या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें,सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
NDTV Madhya Pradesh Chhattisgarh
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
CG Vidhan Sabha: भूपेश बघेल ने सदन में उठाए PM Awas Yojana पर सवाल, कहा-18 लाख घरों में शहरी आवास शामिल है या नहीं?
CG News: ऋचा जोगी ने वापस लिया उच्च स्तरीय जाति खोजबीन समिति के खिलाफ दायर याचिका, जानें - क्या है पूरा मामला
Poshan Tracker App Case of data manipulation, angry Anganwadi workers created ruckus in Women and Child Development Department, officer talked about investigation
Next Article
Poshan Tracker App: डाटा में गड़बड़ी का आरोप, नाराज आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने किया हंगामा, जानिए पूरा मामला
Close
;